निएंडरथल मानव असभ्य और असंस्कृत नहीं थे

Publisher NEWSWING DatePublished Fri, 02/23/2018 - 20:34

NW Desk : एक अध्ययन के अनुसार दुनिया की सबसे पुरानी ज्ञात गुफा चित्रकारी आधुनिक मानव ने नहीं बल्कि निएंडरथल मानव ने की थी. इससे पता चलता है कि पहले की धारणा से उलट निएंडरथल मानव असभ्य और असंस्कृत नहीं थे. साइंस पत्रिका में प्रकाशित तीन स्पैनिश स्थलों में गुफा चित्रकला के विश्लेषण से पता चलता है कि इन चित्रों को 64,000 साल से भी पहले यानी यूरोप में आधुनिक मानव के आने से 20,000 साल पहले रचा गया था. ब्रिटेन की साउथेम्पटन यूनिवर्सिटी के पुरातत्वविद क्रिस स्टैंडिश ने कहा कि यह अविश्वसनीय रूप से उत्साहवर्धक खोज है. इससे पता चलता है कि निएंडरथल मानव अब तक की धारणा के उलट कहीं ज्यादा परिष्कृत थे. स्टैंडिश ने कहा कि हमारे नतीजे दिखाते हैं कि जिन चित्रों का हम जिक्र कर रहे हैं, वे गुफा चित्रकारी की दुनिया में ज्ञात सबसे पुराने चित्र हैं. 

इसे भी पढ़ेंः अब डुमरी विधायक जगरनाथ महतो ने अफसरों को धमकाया, सीओ व अंचलकर्मियों से कहा- बाल-बच्चा, नौकरी से प्यार है तो सुधर जाओ

निएंडरथल के पास  छोटे पैर और एक बड़ा शरीर था 

अफ्रीका से यूरोप में आधुनिक मानवों के आने से कम से कम 20,000 साल पहले रचा गया था. लिहाजा उन्हें निश्चित तौर पर निएंडरथलों ने ही रचा होगा. निएंडरथल्स ने यूरोप और पश्चिमी एशिया में सैकड़ों लिथिक विधानसभाएं छोड़ दीं. लगभग उन सभी को तथाकथित मोस्टरियन टेक्नो-कॉम्प्लेक्स के होते हैं, जो सी शुरू होते हैं.  160,000 साल पहले जब निर्माताओं ने हाथों के हाथों को कम करना शुरू कर दिया, और इसके बजाय फ्लेक्स से बाहर उपकरण बनाने शुरू कर दिया. आधुनिक मनुष्यों के मुकाबले, उच्च-अक्षांश (यानी मौसमीय ठंड) वातावरण में गर्मी संरक्षण अनुकूलन के रूप में, बेंर्गन के शासन के अनुरूप, निएंडरथल के पास कम-से-कम मात्रा वाले अनुपात थे, छोटे पैर और एक बड़ा शरीर था.

इसे भी पढ़ेंः बीजेपी विधायक साधु चरण महतो ने सुबह में भू-अर्जन पदाधिकारी दीपू कुमार को दी धमकी और दोपहर में पीटा

निएंडरथलल्स ने आधुनिक मनुष्यों के डीएनए में योगदान दिया

निएंडरथल जीनोम प्रोजेक्ट ने 2010 और 2014 में प्रकाशित कागजात प्रकाशित करते हुए कहा कि निएंडरथलल्स ने आधुनिक मनुष्यों के डीएनए में योगदान दिया, जिनमें उप-सहारा अफ्रीका के बाहर अधिकांश मनुष्यों, साथ ही साथ उप-सहारा अफ्रीका में कुछ आबादी शामिल हैंनिएंडरथल्स  का नाम उन पहली साइटों में से एक है जहां 1 9वीं शताब्दी में उनके जीवाश्मों की खोज की गयी.  निएंडरथल्स डसेलडोर्फ, जर्मनी के लगभग 12 किमी (7 मील) पूर्व, फेलडॉफ़र गुफा में, डसेल नदी के निएन्डर घाटी में स्थित है.   निएंडरथल 1 को निएंडरथल क्रेनैन या निएंडरथल खोपड़ी के नाम से जाना जाता था, और खोपड़ी के आधार पर पुनर्निर्मित व्यक्ति को कभी-कभी निएंडरथल मैन कहा जाता था.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

बिहार के माथे पर एक और कलंक, चपरासी ने 8,000 रुपये में कबाड़ी को बेची थी 10वीं परीक्षा की कॉपियां

स्वच्छता में रांची को मिले सम्मान पर भाजपा सांसद ने ही उठाये सवाल, कहा – अच्छी नहीं है कचरा डंपिंग की व्यवस्था

तो क्या ऐसे 100 सीटें बढ़ायेगा रिम्स, न हॉस्टल बनकर तैयार, न सुरक्षा का कोई इंतजाम, निधि खरे ने भी लगायी फटकार

पत्थलगड़ी समर्थकों ने किया दुष्कर्म, फादर सहित दो गिरफ्तार, जांच जारीः एडीजी

स्वच्छता सर्वेक्षण की सिटीजन फीडबैक कैटेगरी में रांची को फर्स्ट पोजीशन, केंद्रीय मंत्री ने किया पुरस्कृत

J&K: बीजेपी विधायक की पत्रकारों को धमकी, कहा- खींचे अपनी एक लाइन

दुनिया की सबसे बड़ी ऑनलाइन मेगा परीक्षा कराने जा रही है रेलवे, डेढ़ लाख लोगों को मिलेगा रोजगार

“महिला सिपाही पिंकी का यौन शोषण करने वाले आरोपी को एसपी जया रॉय ने बचाया, बर्खास्त करें”

यूपीः भीषण सड़क हादसे में एक ही परिवार के पांच लोगों की मौत

सरकार जमीन अधिग्रहण करेगी और व्यापक जनहित नाम पर जमीन का उपयोग पूंजीपति करेगें : रश्मि कात्यायन

16 अधिकारियों का तबादला, अनिश गुप्ता बने रांची के एसएसपी, कुलदीप द्विवेदी गए चाईबासा