नीट परीक्षा : कड़ा और कृपाण धारी सिख अभ्यर्थियों को एक घंटे पहले पहुंचना होगा परीक्षा केन्द्र

Publisher NEWSWING DatePublished Fri, 05/04/2018 - 09:21

New Delhi:  नीट परीक्षा के संबंध में दिल्ली उच्च न्यायालय  आदेश दिया है कि बाद कड़ा और कृपाण धारण करने वाले एमबीबीएस के सिख परीक्षार्थियों को तय समय से एक घंटे पहले परीक्षा केन्द्र पर पहुंचना होगा. ताकि परीक्षा शुरु होने से पहले जरुरी जांच को पूरी कर ली जा सके.  अदालत ने कहा है कि सीबीएसई पंथ से जुड़ी इन वस्तुओं को परीक्षा केन्द्र के भीतर ले जाने से नहीं रोक सकती है, जबकि इन्हें विमान में भी लेकर जाने की अनुमति होती है. न्यायमूर्ति एस रविन्द्र भट और न्यायमूर्ति एके  चावला की पीठ ने सीबीएसई की उस दलील को खारिज कर दिया कि इन वस्तुओं सहित किसी प्रकार के धातु से बने सामान को परीक्षा केन्द्र के भीतर ले जाने की मनाही है. पीठ ने कहा कि ‘‘ अस्पष्ट आशंकाओं ’’ के आधार पर आप प्रतिबंध नहीं लगा सकते हैं.

इसे भी पढ़ेंः 9 सामाजिक कार्यकर्ताओं ने किया खूंटी का दौरा, कहा, " पत्थलगड़ी असंवैधानिक नहीं "

कोर्ट ने कहा है कि ऐसी अस्पष्ट आशंका नहीं होनी चाहिए कि परीक्षा के लिए आने वाले लोग नकल करेंगे ही.  क्या इन वस्तुओं का दुरूपयोग की एक भी मिसाल है ? अगर आप अपने नियमों के मुताबिक चलें तो बहुत सारी बातें हैं. नियमों की समरूपता मूर्खता के हद में नहीं बदल जानी चाहिए. 

इसे भी पढ़ेंः नाबालिग से दुष्कर्म : पंचायत ने अस्मत की कीमत लगाई 15 हजार रुपये !

उल्लेखनीय है कि परीक्षा में नकल करने के लिए छात्रों द्वारा माइक्रो इलेक्ट्रोनिक गैजेट का इस्तेमाल किये जाने का मामला सामने आने के बाद सीबीएसई की तरफ से परीक्षा के दौरान अतिरिक्त सतर्कता बरती जा रही है. इसके तहत जूते पहन कर जाने पर रोक है. छात्राओं को कान की बाली, नाक का नथिया, उंगली में अंगुठी तक पहन कर परीक्षा केंद्र में जाने पर रोक लगायी गयी है. इसी क्रम में सीबीएसई के द्वारा कड़ा और कृुपाण धारण करने वाले सिख परीक्षार्थियों को भी रोके जाने की तैयारी की खबरें आयी थीं. जिसके बाद इसके खिलाफ अदालत में याचिका दाखिल की गयी थी. 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.