...तो मुलायम-अखिलेश अपना सरकारी बंगला खाली कर जा रहे हैं

Publisher NEWSWING DatePublished Thu, 05/31/2018 - 22:08

Lucknow  : आखिरकार  सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को 4, विक्रमादित्य मार्ग स्थित अपना सरकारी बंगला छोड़ कर जाना पड़ रहा है.  खबरों के अनुसार अखिलेश ने बंगला खाली करना शुरू कर दिया है. बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद पूर्व सीएम को बंगला खाली करना पड़ रहा है. जानकारी दी गयी कि  उनके बंगले का सामान गुरुवार देर शाम तक सहारा शहर शिफ्ट किया जाता रहा.  इसी क्रम में सपा के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने भी अपना 5, विक्रमादित्य मार्ग स्थित सरकारी बंगला खाली कर रहे हैं. वैसे इस बात की जानकारी नहीं  नहीं मिल पायी है कि मुलायम सिंह बेटे  अखिलेश यादव के साथ सहारा शहर में ही रहेंगे या कहीं और जायेंगे.  सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर राज्य के सभी पूर्व मुख्यमंत्रियों को बंगला खाली करने का नोटिस पूर्व में जारी किया जा चुका है. इनमें अखिलेश यादव और मुलायम सिंह यादव का भी बंगला भी शामिल था.  बता देंं  श्री सुब्रत राय के यादव परिवार से काफी पुराने संबंध रहे हैं.  सहारा सिटी सुरक्षा के लिहाज से काफी बेहतर मानी जाती है.  सहारा शहर में ऊंची दीवारें हैं और चारों ओर तार के बाड़ लगे हुए हैं.  कई जगह वॉच टॉवर लगे हैं यहीं नहीं पूरा परिसर सीसीटीवी कैमरों की कड़ी निगरनी में रहता है.  सहारा सिटी की सुरक्षा व्यवस्था काफी पुख्ता मानी जाती है. मंगलवार को बात करते हुए अखिलेश ने बताया था कि उनका घर बनने लगा है.  वह भी मुख्यमंत्री के बंगले के पीछे. पहले तो हम दूर थे, लेकिन अब हमारा घर सीएम के घर के पीछे होगा. बंगले खाली करने के मुद्दे पर मुलायम सिंह यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की थी.  उन्होंने सीएम योगी से दोनों बंगले अहमद हसन और रामगोविंद चौधरी के नाम पर आवंटित करने की मांग की थी, लेकिन योगी ने उनकी मांग मानने से इनकार कर दिया था.  

इसे भी पढ़ें : लोकसभा-विधानसभा उपचुनाव, रिजल्ट ने विपक्ष के गुब्बारे में भरी हवा,  भाजपा पंक्चर

राज्य सम्पत्ति अधिकारी को पत्र लिखकर दो साल का समय मांगा था

दोनों पिता-पुत्र ने बंगला बचाने के लिए राज्य सम्पत्ति अधिकारी को पत्र लिखकर बंगला खाली करने के लिए दो साल का समय मांगा था. इस क्रम में राज्य सम्पत्ति विभाग ने न्याय विभाग से सलाह लेकर उन्हें समय देने से इनकार कर दिया. इसके बाद उऩ्होंने सुप्रीम कोर्ट में गुहार लगाई. उसका निर्णय अभी नहीं आया है. चूंकी 31 मई बंगला खाली करने की अंतिम तिथि थी, इसलिए अखिलेश ने अपने सरकारी बंगले से अपना सामान शिफ्ट करना शुरू कर दिया.  गुरुवार  को पूरा दिन ट्रकों और अन्य वाहनों में भरकर सरकारी बंगले से सामान बाहर भेजा गया. बताया गया है कि  अखिलेश का सहारा शहर से पुराना काफी लगाव रखते हैं. मुलायम सिंह यादव भी अपने मुख्यमंत्रित्व काल से सहारा शहर आते-जाते रहते थे.   सूत्रों के अनुसार अखिलेश यादव तब तक यहां रहेंगे, जब तक उन्हें अपना कोई आशियाना नहीं मिल जाता.   हालांकि इसकी आधिकारिक घोषणा सपा द्वारा नहीं की गयी है. 

 न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

na
7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

बिहार के माथे पर एक और कलंक, चपरासी ने 8,000 रुपये में कबाड़ी को बेची थी 10वीं परीक्षा की कॉपियां

स्वच्छता में रांची को मिले सम्मान पर भाजपा सांसद ने ही उठाये सवाल, कहा – अच्छी नहीं है कचरा डंपिंग की व्यवस्था

तो क्या ऐसे 100 सीटें बढ़ायेगा रिम्स, न हॉस्टल बनकर तैयार, न सुरक्षा का कोई इंतजाम, निधि खरे ने भी लगायी फटकार

पत्थलगड़ी समर्थकों ने किया दुष्कर्म, फादर सहित दो गिरफ्तार, जांच जारीः एडीजी

स्वच्छता सर्वेक्षण की सिटीजन फीडबैक कैटेगरी में रांची को फर्स्ट पोजीशन, केंद्रीय मंत्री ने किया पुरस्कृत

J&K: बीजेपी विधायक की पत्रकारों को धमकी, कहा- खींचे अपनी एक लाइन

दुनिया की सबसे बड़ी ऑनलाइन मेगा परीक्षा कराने जा रही है रेलवे, डेढ़ लाख लोगों को मिलेगा रोजगार

“महिला सिपाही पिंकी का यौन शोषण करने वाले आरोपी को एसपी जया रॉय ने बचाया, बर्खास्त करें”

यूपीः भीषण सड़क हादसे में एक ही परिवार के पांच लोगों की मौत

सरकार जमीन अधिग्रहण करेगी और व्यापक जनहित नाम पर जमीन का उपयोग पूंजीपति करेगें : रश्मि कात्यायन

16 अधिकारियों का तबादला, अनिश गुप्ता बने रांची के एसएसपी, कुलदीप द्विवेदी गए चाईबासा