मिजोरम : मादक पदार्थ लेने से 2017 में 65 लोगों की हुई थी मौत

Submitted by NEWSWING on Fri, 01/12/2018 - 12:22

Azale : मिजोरम एक्साइज और नार्कोटिक्स विभाग के रिकॉर्डों के अनुसार, राज्य में पिछले साल 12 महिलाओं समेत कम से कम 65 लोगों की मादक पदार्थ लेने से मौत हो गयी. रिकॉर्डों के अनुसार, पिछले साल मादक पदार्थ के कारण हुई 65 लोगों की मौतों में से 28 लोगों की मौत अधिक मात्रा में हेरोइन लेने से हुई जबकि अन्यों की दूसरे मादक पदार्थ लेने से मौत हुई.

साल 2017 में मादक पदार्थों के खिलाफ कार्रवाई

एक्साइज और नार्कोटिक्स विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि 2017 में छापों के दौरान करीब 6.035 किलोग्राम हेरोइन, 13,400 मेथाफिटेमाइन गोलियां तथा 1,59,471 स्युडो-एफेड्राइन गोलियां जब्त की गयी. विभाग ने 392 किलोग्राम गांजा भी बरामद किया और गांजे के 4,127 पौधे भी नष्ट किये. अधिकारी ने बताया कि इस साल जनवरी के पहले सप्ताह में मादक पदार्थ लेने से एक व्यक्ति की मौत हो गयी. राज्य में वर्ष 2004 में मादक पदार्थ लेने से सबसे अधिक लोगों की मौत हुई थी. उस साल 143 लोगों की मौत हुई थी.

इसे भी पढ़ें- बकोरिया कांड : एडीजी एमवी राव ने सरकार को लिखा पत्र, डीजीपी डीके पांडेय ने फर्जी मुठभेड़ की जांच धीमी करने के लिए डाला था दबाव

गौरतलब है कि मादक पदार्थों का दुरुपयोग एक गंभीर चिंता बनकर उभरा है जो देश के भौतिक, सामाजिक-आर्थिक दशा को बुरी तरह से प्रभावित कर रहा है. जीवन के तनाव और परेशानियों ने व्यक्तियों को मादक पदार्थों के दुरुपयोग की समस्या से ग्रसित होने के लिए अधिक असुरक्षित बना दिया है. मादक द्रव्य की आदत न केवल इसके आदी व्यक्तियों को प्रभावित करती बल्कि परिवार और समाज को भी बड़े पैमाने पर नुकसान पहुंचाती है. 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

loading...
Loading...