1985 से राज्यसभा सांसद रहे किंग महेन्द्र ने फिर पर्चा, अबतक 205 देशों की कर चुके हैं यात्रा

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 03/13/2018 - 11:56

Patna: समय के साथ राजनीति में भी कई चेहरे बदलते है, बिहार में भी कई सरकारें आयी और गयी, लेकिन अगर कुछ नहीं बदलता तो बिहार से राज्यसभा सासंद डॉक्टर महेन्द्र प्रसाद की सीट पर दावेदारी. किंग महेन्द्र के नाम से फेमस जनता दल (यूनाइटेड) के राज्यसभा सांसद डॉक्टर महेंद्र प्रसाद ने सोमवार को एक बार फिर से राज्यसभा सदस्य के लिए नामांकन किया. किंग महेन्द्र प्रसाद जीतते हैं तो लगातार 7वीं बार राज्य सभा के सदस्य बनेंगे.

इसे भी पढ़ें:भाजपा ने माना कि वह क्रॉस वोटिंग कराने जा रही है, प्रवक्ता ने कहा विपक्ष के कई विधायक उस के संपर्क में

इसे भी पढ़ें: सोनथालिया सबसे अमीर राज्यसभा सांसद के उम्मीदवार, समीर सबसे गरीब

सबसे ज्यादा विदेश यात्रा करने वाले राजनेता

यूं तो पीएम मोदी अपनी विदेश यात्राओं को लेकर सोशल मीडिया पर बने रहते हैं. लेकिन किंग महेन्द्र ने इस मामले में प्रधानमंत्री को भी पछाड़ दिया है. सांसद महेन्द्र अबतक 205 देशों की यात्रा कर चुके हैं. जिसमें उनके एक साल में 84 देश, एक कैलेंडर इयर में 64 देशों की यात्रा शामिल है. अपने 205 देशों की यात्रा में महेन्द्र प्रसाद ने सबसे ज़्यादा यूनाइटेड किंगडम का 51 बार दौरा किया. इसके बाद 21 बार सिंगापुर और 18 बार यूएई की यात्रा पर गये. सबसे ज्यादा विदेश यात्रा करने वाले महेन्द्र प्रसाद का नाम लिम्का बुक ऑफ वल्र्ड रिकार्डमें भी शामिल किया गया है. 78 वर्षीय महेन्द्र प्रसाद उर्फ किंग महेन्द्र को फोब्र्स पत्रिका ने बीते 7 मार्च को भारत का दूसरा सबसे बड़ा अमीर करार दिया है. महेन्द्र प्रसाद 1.3 बिलियन डालर (84 अरब 44 करोड 15 लाख) के मालिक हैं.

इसे भी पढ़ें: राज्यसभा के 'रण' का महारथी कौन ? चुनावी गणित का इशारा : फायदे में होकर भी बहुमत से दूर रहेगी बीजेपी

कौन हैं डॉक्टर महेन्द्र प्रसाद ?

king mahendra
डॉक्टर महेन्द्र प्रसाद

मूलरुप से बिहार के जहानाबाद के गोविंदपुर गांव रहने वाले हैं महे

न्द्र प्रसाद. जिनका कारोबार कई देशों में फैला हुआ है. वर्ष 1980 में जहानाबाद से कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा का चुनाव जीतकर अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत करने वाले किंग महेन्द्र ने समय-समय पर अपनी राजनीतिक रसूख का परिचय दिया है. वर्ष 1984 में जब वो चुनाव हार गये. इसके बाद जनता को किंग महेंद्र की पहुंच और ताक़त का एहसास तब हुआ, जब वह राष्ट्रपति द्वारा राज्यसभा के लिए नॉमिनेट कर लिये गये. इसके बाद चाहे लालू प्रसाद की सरकार रही हो या नीतीश कुमार की, किंग महेंद्र राज्यसभा के लिए चुने जाते रहे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.