बजट के बाद महंगा हुआ लक्जरी आइटम, खरीदने के लिए बहाना पड़ेगा और अधिक पैसा

Publisher NEWSWING DatePublished Fri, 02/02/2018 - 12:14

New Delhi : लक्जरी के लिए और अधिक खर्च करने के लिए तैयार हो जायें क्योंकि लक्जरी कारों और मोटरसाइकिलों के साथ-साथ एप्पल के आईफोन जैसे उपकरणों के आयात शुल्क में बढ़ोतरी हुई है. वहीं  एलसीडी, एलईडी और ओएलईडी पैनलों के टीवी के दाम भी शुल्क भी बढ़ जायेंगे. ऑडी और मर्सिडीज बेंज जैसी कंपनियों से लक्जरी कारों की कीमत 1.5 लाख रुपये से बढ़कर 10 लाख रुपये हो सकती है, जबकि हुंडई जैसे मेनलाइन निर्माताओं के मॉडल को भी प्रभावित किया जा सकता है. कुछ मॉडल जैसे कि एल्ंता सेडान और क्रेता एसयूवी जैसे कीमतें बढ़ रही हैं.

इसे भी पढ़ें- JPSC-JSSC बर्बाद कर रहा छात्रों का समय, कहीं तीन साल में परीक्षा नहीं तो कहीं परीक्षा पूरे होने में लगते हैं तीन साल

गौरतलब है कि एक फरवरी को वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बजट पेश किया था. जिसमें जेटली ने देश में असेंबल किये जाने वाले कारों पर ड्यूटी चार्ज भी  10% से 15% तक बढ़ा दिया है. इसके अलावा, एफएम ने आयातित उत्पादों पर एक समाज कल्याण सरचार्ज को थोप दिया है, जिसमें मौजूदा कुल रियायत शुल्क पर अतिरिक्त 10% की बढ़ोतरी शामिल है. उन्होंने कारों में इस्तेमाल किए जाने वाले हिस्सों और सामानों पर भी ड्यूटी चार्ज बढ़ा दिया है. यह एक कदम है जो निश्चित रूप से ग्राहकों के लिए चल रहे लागत और कंपनियों के लिए विनिर्माण लागत को प्रभावित करेगा. इन उपायों का उद्देश्य स्थानीय निर्माण को बढ़ावा देना है, हालांकि इस कदम से प्रभावित ज्यादातर कंपनियां असहमत दिखी. उनका कहना है कि यह मांग को प्रभावित करेगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.