लखनऊ : योगी सरकार के तेवर से परीक्षार्थियों में हड़कंप, लगभग पांच लाख परीक्षार्थियों ने नहीं दी परीक्षा

Publisher NEWSWING DatePublished Fri, 02/09/2018 - 13:58

लखनऊ. यूपी बोर्ड परीक्षा के पहले दो दिनों में ही यूपी सरकार के कड़े तेवर के कारण दसवीं और बारहवीं के लगभग पांच लाख परीक्षार्थियों ने आधे में ही परीक्षा छोड़ दी. दसवीं और बारहवीं की परीक्षा में नकल रोकने के लिए इस बार सरकार ने व्यापक इंतजाम किये हैं. नकल रोकने के लिए सीसीटीवी कैमरे भी लगाये गये हैं. यूपी सरकार ने कहा कि किसी भी हाल में नकल की छूट नहीं दी जायेगी. मेघावी छात्रों का हक किसी को नहीं लेने दी जायेगी.

परीक्षा केंद्रों पर सुरक्षा के व्यापक इंतजाम

बोर्ड परीक्षा के दौरान कदाचार रोकने के लिए सरकार ने सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किये हैं. केंद्रों पर सुरक्षा बलों के अलावे कदाचार रोकने के लिए सीसीटीवी कैमरे भी लगाये गये हैं. सीसीटीवी से परीक्षा केंद्रों की हो रही निगरानी से परीक्षार्थियों में हड़कंप है. ऐसे इंतजाम देख नकल कर परीक्षा पास करने वाले परीक्षार्थी परीक्षा न देने में ही अपनी भलाई समझ रहे हैं. सरकार के कड़े तेवर के कारण इस बार यूपी बोर्ड की परीक्षा परिणाम पर भी असर देखने को मिलेगा. परीक्षा परिणाम में गिरावट आने की संभावना बढ गयी है.

इसे भी पढ़ें : एसपी थानेदार पर बना रहे हैं दबाव, सरेंडर करनेवाले नक्सली नकुल यादव के खिलाफ कोर्ट में बयान देने से कर रहे हैं मना

नकल के कारण बदनाम रही है यूपी और बिहार बोर्ड की परीक्षा

मालूम हो कि यूपी बोर्ड परीक्षा और बिहार बोर्ड परीक्षा नकल के कारण बदनाम रही है. यहां अभिभावक को बच्चे को नकल कराते देखा जाता रहा है. शिक्षा माफिया के कारण भी यूपी बोर्ड और बिहार बोर्ड की परीक्षा चर्चा में रहती है. इन सबको देखते हुये यूपी सरकार ने इसबार परीक्षा को कदाचार मुक्त कराने के व्यापक इंतजाम किये हैं. सरकार के इस तेवर से लाखों परीक्षार्थियों ने परीक्षा न देने में ही अपनी भलाई समझी और परीक्षा में शामिल नहीं हुये.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.