दिल्ली मुख्य सचिव बदसुलूकी मामले में केजरीवाल के सलाहकार वीके जैन ने दिया इस्तीफा

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 03/13/2018 - 12:17

New Delhi : दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ हुई बदसुलूकी मामले मे अरविंद केजरीवाल के सलाहकार वीके जैन ने मंगलवार को इस्तीफा दे दिया है. केजरीवाल के सलाहकार इस मामले में सरकारी गवाह बताये जा रहे थे. गौरतलब है कि मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ हुई कथित हाथापाई के मामले में कुछ ही दिन पहले पुलिस ने जैन से पूछताछ भी की थी. जैन ने उन्होंने दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल को अपना इस्तीफा भेजा है. हांलाकि जैन ने निजी कारणों और परिवार की प्रतिबद्धताओं को कारण बताते हुए पद से इस्‍तीफा दिया है.

इसे भी पढ़ें-सीलिंग विरोध में दल्ली बंद : केजरीवाल ने बुलायी सर्वदलीय बैठक, कांग्रेस का मिला साथ, भाजपा ने किया बहिष्कार

इसे भी पढ़ें- सरयू राय ने सीएम को लिखी चिट्ठीः "इरादों में ईमानदार नहीं रहनेवाली राजबाला वर्मा" को मंत्रिपरिषद की विज्ञप्ति में उत्कृष्ट, कुशल व दक्ष प्रशासक बताये जाने पर आपत्ति जतायी

एक हफ्ते से मेडिकल छुट्टी पर थे जैन

सूत्रों के मुताबिक उन्‍होंने अपना इस्‍तीफा मुख्‍यमंत्री ऑफिस में सौंप दिया है और इसकी एक कॉपी उपराज्‍यपाल को भी भेज दी है. वहीं अंशु प्रकाश के साथ घटना के बाद से ही जैन मुख्यमंत्री कार्यालय नहीं आ रहे थे और एक सप्ताह की मेडिकल छुट्टी पर थे. उल्लेखनीय है कि  दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड के सीईओ पद से सेवा निवृत्त होने के कुछ ही दिन बाद जैन को सितंबर, 2017  में इस पद पर नियुक्त किया गया था. 

इसे भी पढ़ें- रांची के गर्ल्स स्कूल की पूर्व छात्राओं को टार्गेट कर रहे हैं साइबर अपराधी, चैटिंग में अश्लील मैसेज कर करते हैं ब्लैकमेल

इसे भी पढ़ें- सोनथालिया सबसे अमीर राज्यसभा सांसद के उम्मीदवार, समीर सबसे गरीब

इसे भी पढ़ें- पलामू: नकल करते 32 परीक्षार्थी धराये, सभी एक्सपेल्ड, दो वीक्षक भी निलंबित, केंद्राधीक्षक को शोकॉज

हमला करने वाले विधायकों को बरी कर चुका है कोर्ट

दिल्ली हाईकोर्ट ने पिछले महीने दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश पर कथित रूप से हमला करने के आरोप में गिरफ्तार आम आदमी पार्टी के विधायक प्रकाश जारवाल और अमानतुल्लाह खान को जमानत दे दी है. हालांकि जमानत के साथ कोर्ट ने यह शर्त लगायी गयी है कि जारवाल खुद या किसी अन्य के जरिये शिकायकर्ता को परेशान करने या धमकी देने जैसी कार्रवाई करते हैं तो पुलिस को जमानत रद्द करने का अधिकार होगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.