कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने कहा, विधानसभा में बहुमत साबित कर दूंगा

Publisher NEWSWING DatePublished Fri, 05/18/2018 - 15:28

 Bengaluru :  सुप्रीम कोर्ट ने भाजपा की येदियुरप्पा सरकार को कर्नाटक विधानसभा में शनिवार शाम चार बजे तक बहुमत साबित करने का आदेश दिया है. शनिवार को शक्ति परीक्षण के बाद ही तय हो जायेगा कि येदियुरप्पा की सरकार रहती है या नहीं. कोर्ट में भाजपा के वकील मुकुल रोहतगी ने बहुमत साबित करने के लिए सात दिन का समय मांगा गया,  लेकिन कोर्ट ने उनकी मांग खारिज कर दी. वैसे अभी भी खेल खुल हुआ है. यह फैसला भाजपा के लिए जीवन- मरण का प्रश्न है. बदलते घटनाक्रम के बीच कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा  ने विश्वास व्यक्त किया है कि उनकी सरकार शनिवार को विधानसभा में बहुमत सिद्ध कर देगी. बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद पत्रकारों के समक्ष येदियुरप्पा ने बताया कि वे मुख्य सचिव से बात करेंगे और शनिवार को विधानसभा सत्र बुलायेंगे. कहा कि उन्हें 100 प्रतिशत विश्वास है कि वे विधानसभा में पूर्ण बहुमत साबित कर लेंगे.

इसे भी पढ़ें - कर्नाटकः कल शाम चार बजे येदियुरप्पा सरकार साबित करें बहुमत, सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला 

राज्यपाल को शनिवार 11 बजे विधानसभा सत्र बुलाने के लिए फाइल भेजी जायेगी

येदियुरप्पा ने जानकारी दी कि हम राज्यपाल को कल 11 बजे विधानसभा का सत्र बुलाने के लिए अपनी ओर से फाइल भेज रहे हैं. वे बहुमत साबित करने के प्रति आश्वस्त दिखे. बता दें कि इससे पूर्व गुरुवार सुबह येदियुरप्पा को शपथ ग्रहण से रेाकने के लिए कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट में गुहार लगाई थी. सुप्रीम कोर्ट में कांग्रेस के वरिष्ठ वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने पक्ष रखा था. उधर अटॉर्नी जनरल ने दलील दी थी कि राज्यपाल का पद दलगत राजनीति से ऊपर होता है. उन्हें पार्टी नहीं बनाया जा सकता. राज्यपाल ने राजभवन में येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाते हुए विधानसभा में बहुमत साबित करने के लिए 15 दिन का समय दिया था.  

 विधानसभा में शक्ति परीक्षण प्रोटेम स्पीकर की निगरानी में होगा

 विधानसभा में शक्ति परीक्षण प्रोटेम स्पीकर की निगरानी में होगा. प्रोटेम स्पीकर नवनिर्वाचित सदस्यों को शपथ ग्रहण करायेंगे.  इसके बाद शक्ति परीक्षण शुरू होगा.  सुप्रीम कोर्ट ने वीडियोग्राफी करवाने की कांग्रेस की अपील पर फैसला नहीं देते हुए यह निर्णय प्रोटेम स्पीकर के विवेक पर छोड़ दिया है. सुप्रीम कोर्ट के प्रोटेम स्पीकर नियुक्त करने के आदेश के आलोक में दो  वरिष्ठ नेता आरवी देशपांडे व उमेश कट्टी का नाम सामने आ रहे हैं.  बता दें कि विधानसभा सचिव ने प्रोटेम स्पीकर के लिए दो विधायकों के नाम संसदीय कार्य विभाग में  भेजे हैं,  जहां से इनके नाम राज्यपाल की संस्तुति के लिए भेजे जायेंगे. बता दें कि उमेश कट्टी भाजपा और आरवी देशपांडे कांग्रेस के विधायक हैं. इन दोनों में से किसी एक का नाम तय होगा. जानकारी दी गयी है कि आठ बार से कांग्रेस विधायक आरवी देशपांडे सदन के वरिष्ठतम सदस्यों में हैं.  देशपांडे ने टाइम्स नाउ से बात करते हुए कहा है कि हमें संवैधानियक प्रक्रिया और मर्यादा का पालन करना होग. मुझे लगता है कि मैं ही सदन का सबसे सीनियर सदस्य हूं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

na