जिन्ना प्रकरण पर एबीवीपी व एएमयू छात्र संघ की भिड़ंत,  लाठी चार्ज, कई छात्र घायल

Publisher NEWSWING DatePublished Wed, 05/02/2018 - 21:09

Aligarh :   एएमयू परिसर में बुधवार को जिन्ना प्रकरण पर हंगामा मचा रहा.  बता दें कि एएमयू के यूनियन हॉल में लगी मो अली जिन्ना की तस्वीर को लेकर पिछले दो दिनों से माहौल हंगामेदार है.  बुधवार को मामला चरम पर पहुंच गया.  खबरों के अनुसार दोपहर में हिंदू जागरण मंच और एबीवीपी के कार्यकर्ताओं और छात्रों ने जिन्ना का पुतला फूंका. उसके बाद एएमयू छात्र संघ उनके विरोध में आ गया. एबीवीपी और एएमयू छात्र संघ के आमने सामने आने से मामला गंभीर हो गया. दोनों ओर से लाठी डंडे निकल गये. पत़्थरबाजी भी हुई. पुलिस ने लाठी चार्ज कर दोनों गुटों को वहां से खदेड़ा. इसमें एक दर्जन से अधिक छात्रों के घायल होने की खबर है. आरोप है कि छात्रों पर रबर बुलेट भी चलाई गयी. आंसू गैस छोड़ी गयी.  हालांकि पुलिस ने रबर बुलेट चलाने से इनकार किया है. जानकारी के अनुसार पूर्व उपराष़्ट्रपति उस समय एएमयू में ही थे. आरोप है कि एबीवीपी के छात्रों ने परिसर में घुसकर सुरक्षा बल के जवानों से मारपीट की.

इसे भी पढ़ें- मोदीनॉमिक्स मतलब केवल बातें बनाना और कोई वादा पूरा नहीं करना : कांग्रेस

हिंदू जागरण मंच और अभाविप  ने एएमयू इंतजामिया व जिन्ना का पुतला दहन किया

बता दें कि  जिन्ना की तस्वीर हटाने की मांग को लेकर दोपहर करीब 1:30 बजे हिंदू जागरण मंच और अभाविप के कार्यकर्ता सर्किल पर पहुंचे और एएमयू इंतजामिया व जिन्ना का पुतला दहन किया.  बताया गया कि इसके बाद एएमयू के सुरक्षा कर्मियों ने कार्यकर्ताओं को दबोच लिया और एएमयू परिसर में ले गये.  आरोप है कि वहां पर कार्यकर्ताओं के साथ अभद्रता की  गयी. बाद में पुलिस ने सभी को थाना सिविल लाइंस ले जाकर छोड़ दिया. इस घटना की जानकारी जैसे ही अन्य कार्यकर्ताओं को हुई तो वे भी थाना सिविल लाइंस पहुंचे.  इसके बाद करीब डेढ़ दर्जन कार्यकर्ता थाने से सीधे एएमयू पहुंचे.  वहां पर सुरक्षा कर्मी ने रोकने की कोशिश की तो उससे मारपीट कर दी;  दूसरी ओर एएमयू छात्र संघ के पदाधिकारी और अन्य छात्र भी आ गये.  एक तरफ एएमयू छात्रों ने मोर्चा संभाल लिया तो दूसरी ओर हिंजाम और एवीबीपी कार्यकर्ता डट गये. इस दौरान भारी पुलिस फोर्स ने वहां पहुंच कर विद्यार्थी परिषद तथा हिंजाम के कार्यकर्ताओं को थाने ले गयी.  वहां पर कार्यकर्ता एएमयू छात्रों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर धरने पर बैठ गये.  दूसरी तरफ एएमयू छात्र संघ अध्यक्ष मशकूर अहमद उस्मानी ने चेतावनी दी कि पुतला फूंकने और सुरक्षा कर्मी से मारपीट करने वाले आरोपी यदि 30 मिनट के अंदर गिरफ्तार नहीं किये गये, तो वह गिरफ्तारी देंगे. शाम करीब चार बजे समय सीमा खत्म हुई तो एएमयू के छात्र गिरफ्तारी देने थाना सिविल लाइंस की ओर चले. छात्र एएमयू सर्किल से निकल कर लाल डिग्गी के मुख्य गेट के सामने पहुंचे तो पुलिस ने उन्हें रोकने की कोशिश की. छात्रों पर आरोप है कि उऩ्होने एसपी क्राइम और आरएएफ कमांडेंट के साथ अभद्रता की इसके बाद पुलिस छात्रों पर टूट पड़ी और दौड़ा-दौड़ा कर छात्रों को पीटा. 

इसे भी पढ़ेःकेंद्र की नीतियों के खिलाफ किसान महासंघ का एलान : देशभर में 1-10 जून तक आपूर्ति रहेगी ठप

जिन्ना की तस्वीर यूनिवर्सिटी की दीवार से गायब

अलीगढ़ मुस्लिम युनिवर्सिटी के छात्रसंघ भवन में लगी पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर को लेकर एक तरफ सियासी बवाल मच गया,  दूसरी ओर इस विवाद में तब एक नया मोड़ आ गया, जब जिन्ना की तस्वीर यूनिवर्सिटी की दीवार से अचानक गायब दिखी. इसके बाद लोगों को कौतूहल होने लगा कि जिन्ना की तस्वीर आखिर गयी कहां ? इस बाबत जब एएमयू प्रशासन से जानने की कोशिश की गयी तो सधी जुबान में जवाब मिला कि तस्वीर न गायब हुई है और न हटाई गयी है,  तस्वीर पर काफी धूल जमी थी, जिसे साफ किया जा रहा है. एएमयू प्रशासन से एक पत्रकार ने यह भी पूछा कि क्या पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी के कार्यक्रम से पहले तस्वीर लगा दी जायेगी ? इसपर भी एएमयू प्रशासन ने घुमा फिराकर राजनयिकों वाले अंदाज में जवाब दिया कि भारत एक लोकतांत्रिक देश है, एएमयू सेक्युलरिज्म के आदर्श पर भरोसा रखता है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.