गजा सीमा पर इसराइली सैनिकों ने 55 फलस्तीनियों को मार डाला, यरूशलम में अमेरीकी दूतावास का कर रहे थे विरोध

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 05/15/2018 - 18:25

jerusalem  : गजा सीमा पर इसराइली सैनिकों के साथ फलस्तीनियों की हुई झड़प में कम से कम 55 फलस्तीनियों के मारे जाने की खबर है. इसी क्रम में फलस्तीनी अधिकारियों के अनुसार इस हिंसक झड़प में 2700 लोग घायल हुए हैं. बता दें कि यरूशलम में अमेरीकी दूतावास के उद्घाटन के पूर्व हिंसा हुई है.  कहा जा रहा है कि इस दूतावास के बनने से फलस्तीनी काफी नाराज हैं. सोमवार को अमेरीका ने यरूशलम में अपना दूतावास खोला है.   उद्घाटन कार्यक्रम में अमेरीकी अधिकारियों सहित राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के बेटी और दामाद भी शामिल हुए. राष्ट्रपति ट्रंप ने वीडियो पर इस कार्यक्रम को संबोधित किया. कहा कि इस घड़ी का लंबे समय से इंतजार था. जान लें कि फलस्तीनी इसे यरूशलम पर इसराइली कब्ज़े को अमेरीकी समर्थन के रूप में देख रहे हैं. गजा पर शासन करने वाला मुस्लिम संगठन हमास  पिछले छह सप्ताह से इसे लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहा है. उधर इसराइल का कहना है कि प्रदर्शनकारी सीमा पर लगे बाड़ को तोड़ने की कोशिश कर रहे थे. इसराइल इस बाड़ की कड़ाई से सुरक्षा करता है. हिंसक झड़प को लेकर हमास के स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि सोमवार को हुई हिंसा में मारे गये लोगों में बच्चे भी शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें- कर्नाटक में कांग्रेस का बड़ा दांव, जेडीएस के साथ बना सकती है सरकार, बीजेपी भी अंकगणित के फेर में जुटी 

 विस्थापित फलस्तीनियों की याद में यहां हर साल मातम मनाया जाता है

14 मई,  1948 को इसराइल की स्थापना के समय विस्थापित फलस्तीनियों की याद में यहां हर साल मातम मनाया जाता है. फलस्तीनी इसे नकबा कहते हैं. इसी सिलसिले में फलस्तीनी हर सप्ताह इसराइलियों के विरोध में प्रदर्शन कर रहे थे. बता दें कि जब से विरोध प्रदर्शन शुरू हुए हैं,  तब से कई लोग मारे जा चुके हैं और हजारों  घायल हुए हैं. रिपोर्टों के अनुसार इस सेामवार को वहां फलस्तीनियों ने पत्थर फेंके और आग लगाने वाले बम चलाये. उसके बाद जवाब में इसराइल की ओर से स्नाइपरों ने गोलियां चलाईं. इसराइल की सेना ने कहा कि 35 हज़ार फलस्तीनी सीमा पर लगे बाड़ के पास दंगा कर रहे थे. इसराइली सेना ने बताया कि रफ़ा में सुरक्षा बाड़ के पास विस्फोटक लगाने की कोशिश कर रहे तीन लोगों को मार दिया गया. बता दें कि इसराइल ने जबालिया में हमास की सैनिक चौकियों को पर भी हवाई हमले किये हैं.   

इसे भी पढ़ें- जो जीतेगा कर्नाटक चुनाव 2019 में उसकी ही होगी जीतः रामदेव 

विरोध प्रदर्शनों का सिलसिला और तेज होगा :  हमास

इस्लामी संगठन हमास ने कहा है कि विरोध प्रदर्शनों का सिलसिला और तेज होगा. इससे दुनिया का ध्यान फलस्तीनियों की तरफ़  जायेगा कि हमारे लोग किस तरह से अपने पूर्वजों  की ज़मीन पर लौटने के हक के लिए लड़ रहे हैं. गजा में एक साइंस टीचर ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स से कहाआज एक बड़ा दिन है. आज हमने सीमा पर लगे बाड़ को पार किया और इसराइल और दुनिया को यबता दिया कि हम पर यह कब्जा हमेशा नहीं रहने वाला है. यरूशलम की स्थिति इसराइल फलस्तीन संघर्ष के केंद्र में है. यरूशलम पर इसराइल की संप्रभुता को दुनिया स्वीकार नहीं करती है.  1967 के मध्य-पूर्व संघर्ष के समय इसराइल ने पूर्वी यरूशलम पर कब्जा कर लिया था.  

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं. 

na