चारा घोटाले में कोर्ट ने बिहार के मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह, सीबीआई के पूर्व एसपी एके झा समेत नौ को आरोपी बनाया

Publisher NEWSWING DatePublished Mon, 03/12/2018 - 14:02

Ranchi : चारा घोटाले मामले में कोर्ट ने बिहार के मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह, सीबीआई के पूर्व एसपी एके झा समेत नौ को आरोपी बनाया है. सीबीआई के विशेष जज शिवपास सिंह की कोर्ट ने सभी को आरोपी ठहराया है. आरसी  45 के तहत इन सबों को आरोपी बनाया गया है. दुमका कोषागार से दिसंबर 1995 और जनवरी 1996 में ही अवैध निकासी की गयी थी. दुमका कोषागार से अवैध निकासी को लेकर सीबीआई ने दो प्राथमिकी दर्ज की थी. पहली आरसी 45 और दूसरी आरसी 38.  उल्लेखनीय है कि आरसी 38 में कोर्ट ने सात मार्च को बिहार के मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह, झारखंड के पूर्व मुख्य सचिव वीएस दुबे, सीबीआई के पूर्व एसपी एके झा समेत कई अन्य लोगों को आरोपी बनाया था.

इसे भी पढ़ें- जामताड़ा एसपी का रीडर महिला सिपाहियों से कहता था - खुद को मुझे सौंप दो, अच्छी पोस्टिंग करवा दूंगा

इन लोगों को बनाया गया आरोपी

  • अंजन अंजनी कुमार सिंह
  • ए के झा
  • पंकज कुमार
  • शिव पटवारी
  • मो सईद
  • रामेश्वर प्रसाद
  • नरेश प्रसाद
  • शैलेश प्रसाद सिंह
  • नीरज कुमार

 

इसे भी पढ़ें- सार्जेंट मेजर व रीडर पर यौन शोषण का आरोप लगाने के बाद जामताड़ा के पुलिस अफसरों ने महिला सिपाही को चोरी के केस में फंसा कर सस्पेंड किया !

सात मार्च को आरसी 48 में भी बनाया गया था अंजनी कुमार सिंह को आरोपी

चारा घोटाला मामले में बिहार के मुख्य सचिव और दुमका के तत्कालीन उपायुक्त अंजनी कुमार सिंह समेत सात लोगों को कोर्ट ने आरोपी ठहराया था. साथ ही उन्हें नोटिस जारी किया था. कोर्ट ने सभी आरोपियों को 28 मार्च को उपस्थित होने का आदेश दिया है. इसके साथ ही कोर्ट ने कहा था कि ये सभी लोग घोटाले में शामिल थे, और सीबीआई ने इनलोगों को बचाने का काम किया है. गौरतलब है कि सीबीआई के विशेष जज शिवपास सिंह की कोर्ट ने सभी को सीआरपीसी की धारा 319 के तहत आरोपी बनाया था.

इसे भी पढ़ें- सार्जेंट मेजर व रीडर पर यौन शोषण का आरोप लगाने के बाद जामताड़ा के पुलिस अफसरों ने महिला सिपाही को चोरी के केस में फंसा कर सस्पेंड किया !

क्या है सीआरपीसी की धारा 319

वकीलों के अनुसार सीआरपीसी की धारा 319 के तहत कोर्ट को यह अधिकार है कि अगर किसी मामले की सुनवाई के दौरान केस में बनाये गये अभियुक्त के अलावे किसी अन्य व्यक्ति के खिलाफ सबूत आता है तो उसे सीआरपीसी की धारा 319 के तहत मामले में आरोपी बनाया जाता है. साथ ही उसे कोर्ट में हाजिर होने के लिये नोटिस भी जारी किया जा सकता है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.