निकाहनामे में ही शौहर को लिखना होगा कि नहीं देगा बीवी को कभी तीन तलाक : मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड

Publisher NEWSWING DatePublished Sat, 02/03/2018 - 15:23

Lucknow :  देश में तीन तलाक की रवायत पर प्रभावी रोक के लिये ऑल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (एआईएमपीएलबी) के मॉडल निकाहनामामें निकाह के वक्त, शौहर द्वारा भविष्य में कभी एक साथ तीन तलाक नहीं देने की लिखित शपथ देने का प्रावधान जोड़ा जा सकता है. बोर्ड के प्रवक्ता मौलाना खलील-उर-रहमान सज्जाद नोमानी ने भाषाको बताया कि बोर्ड की आगामी नौ फरवरी को हैदराबाद में शुरू होने वाली बैठकों में संशोधित मॉडल निकाहनामे पर चर्चा की जायेगी. इसमें उस प्रावधान को शामिल करने पर विचार-विमर्श होगा, जिसके मुताबिक निकाह के वक्त शौहर को लिखकर देना होगा कि वह अपनी बीवी को कभी तीन तलाक नहीं देगा. उन्होंने कहा कि बोर्ड के अनेक सदस्यों ने आलाकमान को तीन तलाक के खिलाफ निकाहनामे में ही शपथ की व्यवस्था करने का सुझाव दिया है.

इसे भी पढ़ें - JPSC-JSSC बर्बाद कर रहा छात्रों का समय, कहीं तीन साल में परीक्षा नहीं तो कहीं परीक्षा पूरे होने में लगते हैं तीन साल

नोमानी ने कहा कि निकाहनामे में इस तरह की व्यवस्था हो जाने से तीन तलाक की बुराई पर काफी हद तक रोक लगायी जा सकेगी. बोर्ड ने हमेशा तीन तलाक को गलत माना है. हालांकि कुछ परिस्थितियों में जरूरी होने की वजह से इसे अवैध करार नहीं दिया गया. इस बीच ऑल इण्डिया मुस्लिम वुमेन पर्सनल लॉ बोर्ड ने एआईएमपीएलबी के इस कदम का स्वागत करते हुए इसे देर आये, दुरुस्त आयेवाला करार दिया है.बोर्ड की अध्यक्ष शाइस्ता अम्बर ने कहा कि अगर एआईएमपीएलबी अपने निकाहनामे में तीन तलाक के खिलाफ इस प्रावधान को शामिल करता है तो यह बेहद स्वागत योग्य होगा. तीन तलाक के खिलाफ उच्चतम न्यायालय तक लड़ाई लड़ चुकी शाइस्ता ने कहा कि वह पूर्व में अपने संगठन द्वारा तैयार निकाहनामे को एआईएमपीएलबी के सामने पेश कर चुकी हैं. वह निकाहनामा पूरी तरह से कुरान शरीफ की रोशनी पर आधारित था. उसमें अक्सर तलाक का मुख्य कारण बनने वाले दहेजऔर महर की रकमके मसलों को लेकर स्पष्ट बातें लिखी थीं. बोर्ड अगर उसे भी तवज्जो देता तो अच्छा होता.

इसे भी पढ़ें - राजस्थान उपचुनाव में कांग्रेस ने मारी बाजी, लोकसभा की दो और विधानसभा की एक सीट बीजेपी के हाथ से निकली

तीन तलाक को पहले ही अपनी व्यवस्था से निकाल चुके ऑल इण्डिया शिया पर्सनल बोर्ड viagra without a doctor prescription ने भी एआईएमपीएलबी के इस इरादे की सराहना की है. बोर्ड के प्रवक्ता मौलाना याकूब अब्बास का कहना है कि तीन तलाक को रोकने के लिये एआईएमपीएलबी निकाहनामे में प्रावधान का विचार स्वागत योग्य है. उन्होंने यह भी कहा कि शिया पर्सनल लॉ बोर्ड ने एआईएमपीएलबी को अपना निकाहनामा पेश किया था. अगर वह उसे कुरान और शरीयत की रोशनी में सही मानता है, तो उसके प्रावधानों को भी एआईएमपीएलबी के निकाहनामे में शामिल किया जाना चाहिये. उन्होंने कहा कि शिया फिरके में एक साथ तीन तलाक की कोई व्यवस्था ही नहीं है. उसने वर्ष 2007 में जारी किये गये अपने निकाहनामे में कुछ विशेष परिस्थितियों में विवाहिता को तलाक लेने का अधिकार दिया है. साथ ही उसमें दहेज नहीं मांगने और तलाक की स्थिति में भरण-पोषण तथा अन्य जरूरतें पूरी करने का जिम्मा शौहर पर डालने की व्यवस्था है.

इसे भी पढ़ें - कौन है रवि केजरीवाल ? क्यों लेते हैं सब इसका नाम ? कितनी और कैसी कंपनियों का है वह मालिक ? जानिए केजरीवाल एसोसिएट्स की पूरी कहानी

तीन तलाक को लेकर केन्द्र सरकार द्वारा कानून बनाए जाने के प्रयासों के बीच एआईएमपीएलबी एक अभियान चलाकर तीन तलाक तथा दहेज के खिलाफ जनजागरूकता फैला रहा है. बोर्ड के प्रवक्ता नोमानी ने बताया कि जुमे की नमाज से पहले मस्जिदों में खुतबे (भाषण) के दौरान तीन तलाक, दहेज और शादियों में फिजूलखर्ची के खिलाफ मुस्लिम कौम को जागरूक किया जाएगा. जुमे की नमाज का खुतबा मुसलमानों में जनसम्पर्क का एक अहम जरिया होता है. बोर्ड इसका इस्तेमाल करेगा. उन्होंने बताया कि एआईएमपीएलबी हर महीने व्हाट्सएप और ई-मेल के जरिये मस्जिदों के इमामों को जुमे का खुतबा भेजेगा, ताकि एक ही विषय पर सभी मस्जिदों में भाषण किया जा सका. इस महीने हैदराबाद में होने वाली बोर्ड की बैठक में इसकी कार्ययोजना तैयार की जाएगी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.