झारखंड में कैसे सुधरेगा शिक्षा का स्तर, जब शिक्षकों को मानदेय देने में ही छूट रहे हैं सरकार के पसीने

Publisher NEWSWING DatePublished Sat, 06/09/2018 - 18:24

Ranchi : झारखंड में शिक्षा विभाग की लापरवाहियों की पोल आये दिन खुलती रहती है. साथ ही कोई ना कोई मामला ऐसा सामने आ खड़ा होता है, जो सरकार की किरकिरी कराने के लिये काफी होता है.   सरकार के खिलाफ नारेबाजी और आंदोलन होता है तो जल्दी से आश्वासन का मरहम भी लगा दिया जाता है. कुछ ऐसा ही राज्य के पारा शिक्षकों के साथ हो रहा है. जिनका लगभग 5 महीने से मानदेय बकाया है और अब वे अपनी तंगहाली में जीवन गुजार रहे हैं. आर्थिक तंगी ऐसी हो गयी है कि दो वक्त की रोटी पर भी आफत आ गयी है. पारा शिक्षकों की यह स्थिति शिक्षा विभाग की लापरवाही की ही एक बानगी है.

इसे भी पढ़ें - देश आजाद हुए 70 साल बीत गये, लेकिन स्वतंत्रता सेनानियों को अबतक नहीं मिला शहीद का दर्जा

पैसे के अभाव में इलाज नहीं करा पाने से कई शिक्षकों की हो चुकी है मौत 

पारा शिक्षकों को पिछले 5 महीने से मानदेय का भुगतान नहीं हुआ है. जिससे उनके सामने गंभीर संकट की स्थिति है. लेकिन सरकार का ध्यान इस ओर बिल्कुल नहीं है. पारा शिक्षकों को कभी भी  मानदेय का भुगतान नियमित रूप से नहीं किया जाता है. इलाज के अभाव और मानसिक तनाव में लगभग हर महीने एक पारा शिक्षक की मृत्यु हो रही है. जिसे ना तो कोई देखने वाला है और ना ही मदद के लिये कोई हाथ ही आगे है. अब हालात ये हैं कि अपने ही कमाये गये पैसे लेने के लिये   भी आंदोलन का रूख करना पड़ रहा है.

इसे भी पढ़ें - सरायकेला में जमीन घोटाला,107 सरकारी प्लॉट का हुआ गलत तरीके से निबंधन, कार्रवाई के लिए डीसी ने सरकार को लिखा

आर्थिक तंगी से परेशान शिक्षक ने की थी आत्महत्या

पारा शिक्षकों में एक 35 वर्षीय लोकेश नाथ उर्फ लोकेश्वर महतो जोगोमिया प्रखंड की बड़की सीधाबारा पंचायत के बुधुटांड़ निवासी हैं. आर्थिक तंगी से जूझ रहे इस शिक्षक ने खुद को ही खत्म कर लिया.  लोकेश नाथ ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. दिव्यांग लोकेश नव प्राथमिक विद्यालय बेंदी में कार्यरत थे. बताया जाता है कि उन्होंने स्कूल में शौचालय का निर्माण कराया था. लेकिन विभाग ने पैसे का भुगतान नहीं किया. जिन लोगों ने शौचालय के लिए सामग्री दी थीवे लगातार पैसे के लिए तगादा कर रहे थे. इससे परेशान होकर 4 जून की रात लोकेश ने अपने घर में ही फंदे से झूलकर अपने जीवन को समाप्त कर लिया. 

इसे भी पढ़ें - मोदी जी की सैकड़ों विदेश यात्राओं से क्या हासिल हुआ ?

जान गंवा चुके हैं कई शिक्षक

वहीं इससे पहले भी चार पारा शिक्षक आर्थिक तंगी की वजह से जान गंवा चुके हैं. पारा शिक्षक सुखदेव महतो जो नावाडीह प्रखंड की चपरी पंचायत स्थित उत्क्रमित मध्य विद्यालय मुंगो के निवासी थे, ये भी अपनी जान गंवा चुके हैं. सुखदेव महतो पैसे के अभाव में बीमारी का  इलाज कराने में असमर्थ थे. उनकी मौत इलाज के अभाव में हो गई.  इसके अलावा पारा अश्विनी महली जो चंदनकियारी प्रखंड के उत्क्रमित मध्य विद्यालय बोआ में कार्यरत थे और पारा शिक्षक सुंदरलाल रविदास जो नावाडीह के नव प्राथमिक विद्यालय बरई में कार्यरत थे, इन दोनों ने ही आर्थिक तंगी की वजह से आत्महत्या कर ली.  इससे पहले पारा शिक्षक शुकर महतो जो नावाडीह के पोखरिया पंचायत के उत्क्रमित मध्य विद्यालय में कार्यरत थे उनकी भी मौत आर्थिक तंगी की वजह से हुई थी.

झारखण्ड प्रदेश पारा शिक्षक संघ के संरक्षक विक्रांत ज्योति ने कहा  

इस बारे में प्रदेश के पारा शिक्षक संघ के संरक्षक विक्रांत ज्योति ने कहा कि पारा शिक्षकों को 5 माह से मानदेय नहीं मिला है और मानदेय मिलने के कोई आसार नजर नहीं आ रहे हैं. जबकि शिक्षा सचिव का यह आदेश है कि किसी भी परिस्थिति में पारा शिक्षकों का मानदेय हर महीने के 5 तारीख तक हो जाना चाहिए. अन्यथा संबंधित विभागीय पदाधिकारी पर कार्रवाई होगी.

लेकिन आज तक न तो कभी समय पर पारा शिक्षकों का पेमेंट हुआ है और न कभी विभागीय पदाधिकारी पर इस लापरवाही को लेकर कोई कार्रवाई हुई है. जरूरत है संबंधित पदाधिकारी पर कार्रवाई होने की. ताकि समय पर  मानदेय मिलता रहे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

na
7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

बिहार के माथे पर एक और कलंक, चपरासी ने 8,000 रुपये में कबाड़ी को बेची थी 10वीं परीक्षा की कॉपियां

स्वच्छता में रांची को मिले सम्मान पर भाजपा सांसद ने ही उठाये सवाल, कहा – अच्छी नहीं है कचरा डंपिंग की व्यवस्था

तो क्या ऐसे 100 सीटें बढ़ायेगा रिम्स, न हॉस्टल बनकर तैयार, न सुरक्षा का कोई इंतजाम, निधि खरे ने भी लगायी फटकार

पत्थलगड़ी समर्थकों ने किया दुष्कर्म, फादर सहित दो गिरफ्तार, जांच जारीः एडीजी

स्वच्छता सर्वेक्षण की सिटीजन फीडबैक कैटेगरी में रांची को फर्स्ट पोजीशन, केंद्रीय मंत्री ने किया पुरस्कृत

J&K: बीजेपी विधायक की पत्रकारों को धमकी, कहा- खींचे अपनी एक लाइन

दुनिया की सबसे बड़ी ऑनलाइन मेगा परीक्षा कराने जा रही है रेलवे, डेढ़ लाख लोगों को मिलेगा रोजगार

“महिला सिपाही पिंकी का यौन शोषण करने वाले आरोपी को एसपी जया रॉय ने बचाया, बर्खास्त करें”

यूपीः भीषण सड़क हादसे में एक ही परिवार के पांच लोगों की मौत

सरकार जमीन अधिग्रहण करेगी और व्यापक जनहित नाम पर जमीन का उपयोग पूंजीपति करेगें : रश्मि कात्यायन

16 अधिकारियों का तबादला, अनिश गुप्ता बने रांची के एसएसपी, कुलदीप द्विवेदी गए चाईबासा