अवैध तरीके से चल रहे बिहार के रजौली में अवैध खनन के दौरान चाल धंसने से चार लोगों की मौत, कई लोगों के फंसे होने की आशंका

Publisher NEWSWING DatePublished Fri, 03/16/2018 - 12:11

Rajauli : बिहार के रजौली के सवैया टाड़ पंचायत स्थित शारदा माइंस में अवैध तरीके से संचालित माइका खदान में चाल धंसने का मामला सामने आया है. चाल धंसने की वजह से चार लोगों की मौत हो गयी है. जिनका शव निकाल लिया गया है. वहीं कई और लोगों के फंसे होने की आशंका है. घटना के कारणों का पता नहीं चल पाया है. और फिलहाल खदान में फंसे बाकी लोगों को निकालने का कार्य जारी है. गौरतलब है कि घटना में मरने वालों में से तीन कोडरमा के बताये जा रहे हैं वही एक गिरिडीह का बताया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें- नगर निकाय चुनाव : डीसी साहब ! आपके कैंपस में हो रहा है आदर्श आचार संहिता का उल्‍लंघन

खदान में फंसे लोगों को बचाने के लिये नहीं पहुंची बचाव टीम

इस घटना के बाद बचाव कार्य के लिये कोई भी बचाव टीम घटनास्थल पर नहीं पहुंची है. बचाव कार्य वहीं के स्थानीय लोगों व खदान के मजदूरों के द्वारा किया जा रहा है. स्थानीय लोगों ने चार लोगों के शव को बाहर निकाला है लेकिन फिर भी उनका कहना है कि फिलहाल वहां और भी लोग फंसे हुये हैं.

इसे भी पढ़ें- सीएम को शिकायत सहित भेजा 10 लाख का चेक : शिकायतकर्ता की चुनौती-बात झूठ निकले तो रख लें पूरी राशि

मौके पर नहीं पहुंची है पुलिस

घटना में चार लोगों की मौत और कई लोगों के फंसे होने के बावजूद भी पुलिस खबर लिखे जाने तक नहीं पहुंची. गौरतलब है कि यह इलाका रजौली थाना के अंतर्गत आता है. रजौली थाने में घटना की खबर दे दी गयी है लेकिन फिर भी पुलिस की ओर से किसी प्रकार की कोई कार्यवाई नहीं की गयी है. वहीं घटनास्थल कोडरमा सीमा से नजदीक है इसलिये वहां के थाने में भी इस घटना के बारे में जब पुछा गया तो उन्होंने कहा कि हम घटना पर नजर बनाये हुये है. हांलाकि घटनास्थल कोडरमा थाना के अंतर्गत नहीं आता है इसलिये हमारी टीम वहां नहीं पहुंची है.

इसे भी पढ़ें- उज्‍जवला योजना : 45 दिनों 15 लाख लाभुकों को गैस कनेक्‍शन, 2 महीने में 312 नये एलपीजी डीलर का लक्ष्‍य -रघुवर दास       

खदान में किया जा रहा है अवैध खनन

जिस खदान में चाल धंसने की घटना हुयी है उसका नाम शारदा माइंस है. और यहां अवैध खनन का काम किया जा रहा है. ऐसे में पुलिस व प्रशासन को इसके खिलाफ कड़ी कार्यवाई करनी चाहिये, लेकिन घटना के बाद कार्यवाई की बात तो दूर पुलिस घटना स्थल पर भी नहीं पहुंची है. गौरतलब है कि घटनास्थल  नक्सल प्रभावित इलाका है इसलिये यहां पुलिस भी जाने से डरती है.

इसे भी पढ़ें- कौन बनेगा कोल इंडिया का चैयरमैन !

पहले भी हो चुकी है ऐसी ही घटनायें

उल्लेखनीय है कि उस इलाके में अवैध तरिके से कई खदान संचालित है. पहले भी इस तरह की घटना इन खदानों में हो चुकी है लेकिन फिर भी इसे रोकने के लिये किसी भी तरह की कोई कार्यवाई नहीं की जा रही है. हाल के दिनों में ही अवैध खनन के वर्चस्व को लेकर इस इलाके में खनन में काम आने वाले वाहन शक्तिमान को आग के हवाले कर दिया गया था. जिसके बाद माफिया के दो गुटों के बीच जमकर फायरिंग भी हुयी थी. इन खदानों में लोग अपनी जाम जोखिम में डालकर काम करते हैं. वहीं  जान जाने के बाद भी इनके लिये कुछ नहीं किया जाता है. यहां तक की प्रशासन भी इसकी सूध लेने वाला नहीं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Main Top Slide
loading...
Loading...