​​​​​​​स्वास्थ्य केंद्र के कर्मचारी जिसे समझ रहे थे लैब टेक्निशियन, वह निकला शराब कारोबारी, 147 बोतल शराब जब्त

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 04/17/2018 - 17:48

East Champaran : बिहार में नीतीश सरकार ने शराब बंदी तो लागू कर दी, मगर शराब बंद होने का नाम ही नहीं ले रहा है. सरकार को अधिकारियों का साथ नहीं मिल रहा है, जिस कारण शराब बंदी सफल नहीं हो पा रहा है. कई मौकों पर शराब बंदी कानून का पालन नहीं होने के कारण नीतीश सरकार की किरकिरी हुई है. सोमवार को ही शराब माफियाओं को संरक्षण देने के आरोपों की जांच के लिए एसवीयू की टीम में मुजफ्फरपुर के एसएसपी विवेक कुमार के कई ठिकानों पर छापामारी कर करोड़ों की अवैध संपत्ति का पता लगाया है और अब पूर्वी चंपारण जिले के सुगौली प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र से शराब का अवैध धंधा संचालित किए जाने का खुलासा हुआ है. स्वास्थ्य केंद्र से अवैध शराब के धंधे के संचालन का यह पहला मामला सामने आया है. पुलिस ने सुगौली पीएचसी प्रभारी के आवास से कार्टन में रखी 147 बोतल रॉयल स्टेग शराब बरामद की है. इस कारोबार में आरोपी सह पीएचसी का लैब टेक्निशियन बीके सिंह फरार होने में सफल रहा.

सुगौली थानाध्यक्ष सुनील कुमार ने बताया कि शराब का कारोबार बीके सिंह संचालित कर रहा था. चिकित्सा पदाधिकारी डॉ सीके चौधरी के सेवानिवृत्त होने के बाद वहीं उस आवास में रह रहा था. उसकी गिरफ्तारी को लेकर छापेमारी की जा रही है.

प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ समीर सिन्हा (प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, सुगौली) ने बताया कि बीके सिंह स्वास्थ्यकर्मी नहीं है. अस्पताल के सभी लोग बीके सिंह को लैब टेक्निशियन समझ रहे थे. सोमवार की रात छापेमारी के बाद उसका असली चेहरा सामने आया. पूर्व के चिकित्सा प्रभारी के आवास की चाबी उसी के पास थी. छापामरी के वक्त वह आवास में मौजूद था, मगर वह वहां से भागने में सफल रहा.

इसे भी पढ़ें - बिहार में शराब बंदी की हवा निकाल रहे थे एसएसपी विवेक कुमार, सीएम के आदेश के बाद कभी भी हो सकती है गिरफ्तारी

गुप्त सूचना के आधार पर पुलिस ने की कार्रवाई

मिली जानकारी के अनुसार सुगौली थानाध्यक्ष को पीएचसी परिसर स्थित प्रभारी के आवास में भारी मात्रा में विदेशी शराब के भंडारण की गुप्त सूचना मिली थी. जिसके बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुये शराब के अवैध कारोबार का खुलासा किया. पटना निवासी बीके सिंह ही अवैध धंधे का संचालन करता है.

थानाध्यक्ष ने गोपनीय छापे में बीडीओ रमण सिन्हा, पुलिस निरीक्षक संजय कुमार सुमन व अस्पताल के चिकित्सक डॉ समीर सिन्हा को शामिल किया. छापे के दौरान अलग-अलग कार्टून में रखी 147 बोतल रॉयल स्टेग शराब बरामद की गई. मौके से कारोबारी बीके सिंह दीवार फांदकर फरार हो गया.

इसे भी पढ़ें - मुजफ्फरपुर : एसएसपी विवेक कुमार के ठिकानों पर SVU की रेड, पुराने नोट के साथ लाखों की संपत्ति जब्त

बीके सिंह समेत शराब के अवैध कारोबार से जुड़े लोगों की खोजबीन तेज

शराब जब्ती की कार्रवाई के बाद पुलिस कारोबारी सह स्वास्थ्यकर्मी की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है. वहीं इस धंधे में संलिप्त अन्य लोगों की भी पहचान की जा रही है. पुलिस इसका पता लगाने में जुटी है कि कैसे पीएचसी प्रभारी के आवास की चाबी बीके सिंह के पास गई. गौरतलब है कि यहां के प्रभारी सीके चौधरी पहले ही सेवानिवृत्त हो गए हैं. जिसके बाद बीके सिंह उनके आवास पर कब्जा कर शराब का कारोबार चला रहा था.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.