ईस्टर्न कोलफील्ड लिमिटेड को एक इंच जमीन नहीं देंगे : ग्राम प्रधान शीलवती मुर्मू

Publisher NEWSWING DatePublished Thu, 06/14/2018 - 19:31

Dumka  : कोयला उडूंग काते ओकोइ आक फायदा होयोक आ,? कॉम्पनि याक आर सरकार रेन मंत्री कोवाक, होड़ होपोन दोबोंन बेजुमीक आ, देला गोपोडोक पे सोलहा एमोक पे,सोना दिसोम जुमी ताबोन बाबोंन आदा, बोयहा देबोंन रुखियाय, सरसाबाद ग्रामीणों ने एक सूर में Estern coal field LTD के विरूद्व ग्रामसभा में कहा. संभावित विस्थापन को देखते हुए काठीकुंड के ग्रामीण फिर एक बार गोलबंद होने लगे. सरकार ने ईस्टर्न कोलफील्ड लिमिटेड की कोल माइंस के लिए आठ गांवों की पहचान की है. इस संदर्भ में उपायुक्त दुमका के द्वारा कांठीकुंड अचंल अधिकारी को 4 मई को पत्र लिख कर ग्राम सभा करने की बात कही गयी थी, इसी के आलोक में अंचल अधिकारी कांठीकुंड ने 6 मई को आठ गांवों के ग्राम प्रधान को पत्र लिखा था.  ग्रामसभा करने के सर्दभ में गुरुवार को सरसाबाद में ग्रामसभा प्रशासन के द्वारा तय की गयी थी, जिसमें ग्रामीणों ने ईस्टर्न कोलफील्ड लिमिटेड के लिए जमीन देने संबंधी और इलाके का सर्वे करने का प्रस्‍़ताव को सिरे से खारिज  कर दिया. ग्रामीणों का कहना है हम किसी भी  कीमत पर अपनी जमीन कंपनी को नहीं देंगे.

इसे भी पढ़ें - सरकारी शराब सिंडिकेटः कैबिनेट के फैसले को पलट कर सहायक उत्पाद आयुक्त को बनाया पपेट, जिला में आयुक्त सिर्फ ओके बटन दबाते हैं (3

कोयला खदान खोलने की बात पर ग्रामीण आक्रोशित हो गये

काठीकुंड के सीओ के द्वारा ग्रामीणों के बीच ग्राम सभा का आयेाजन किया. जिसमें Estern coal field LTD   के MD, सरसाबाद गांव के ग्रामीण शामिल हुए. ग्राम सभा की अध्यक्षता ग्राम प्रधान शीलवती मुर्मू ने की.  ग्रामसभा में अपनी बात रखते हुए Estern coal field LTD के MD ने जैसे ही अपनी बात रखी कि यहां कोयला खदान खोलने के लिए प्रथम सर्वे का कार्य बोरिंग होना है, तो ग्रामीणा आक्रोशित हो गये. ग्रामीणों के आक्रोश देखते हुए Estern coal field LTD  के MD और अंचल अधिकारी काठीकुंड छोड़ वापस लौट गये.  ग्रामप्रधान शीलवती मुर्मू ने कहा कि हम किसी भी कीमत पर अपनी जमीन नहीं देंगे. कहा कि कंपनियों के द्वारा लालच प्रपंच करते हुए ग्रामीणों से जमीन का अधिग्रहण कर लिया जाता है.  इसके बाद दर-दर की ठोकरें खाने के लिए ग्रामीणों को छोड़ दिया जाता है.  ऐसे उदाहरण दुमका के पचवारा से लेकर पैनम कोल माइंस में भी देखा गया है.

  कब किस गांव में होनी है ग्रामसभा

 hhhhh

2008 में विस्थापन के विरोध में काठीकुंड प्रखंड में आंदोलन हुआ था

इससे पूर्व भी 2008 में विस्थापन के विरोध में काठीकुंड प्रखंड में  आंदोलन हुआ था, जिसमें प्रखंड के दर्जनों गांवों के हजारों लोग कंपनी के विरोध में खड़े हुए थे.  उस दैरान छह दिसंबर 2008 में प्रस्तावित पावर प्लांट के विरोध में लोग सड़क पर उतर गये थे. पुलिस की ओर से चलायी गोली में दलदली गांव के लुखीराम टुडू और शिकारीपाड़ा थाना क्षेत्र के पंचवाहिनी गांव के सायगाट मरांडी की मौत हो गयी थी. ग्रामीणों ने दोनों को शहीद का दर्जा दिया. हर साल छह दिसंबर को शहीद दिवस के रूप में मनाकर उनकी शहादत को याद किया जाता है. 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

na
7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

बिहार के माथे पर एक और कलंक, चपरासी ने 8,000 रुपये में कबाड़ी को बेची थी 10वीं परीक्षा की कॉपियां

स्वच्छता में रांची को मिले सम्मान पर भाजपा सांसद ने ही उठाये सवाल, कहा – अच्छी नहीं है कचरा डंपिंग की व्यवस्था

तो क्या ऐसे 100 सीटें बढ़ायेगा रिम्स, न हॉस्टल बनकर तैयार, न सुरक्षा का कोई इंतजाम, निधि खरे ने भी लगायी फटकार

पत्थलगड़ी समर्थकों ने किया दुष्कर्म, फादर सहित दो गिरफ्तार, जांच जारीः एडीजी

स्वच्छता सर्वेक्षण की सिटीजन फीडबैक कैटेगरी में रांची को फर्स्ट पोजीशन, केंद्रीय मंत्री ने किया पुरस्कृत

J&K: बीजेपी विधायक की पत्रकारों को धमकी, कहा- खींचे अपनी एक लाइन

दुनिया की सबसे बड़ी ऑनलाइन मेगा परीक्षा कराने जा रही है रेलवे, डेढ़ लाख लोगों को मिलेगा रोजगार

“महिला सिपाही पिंकी का यौन शोषण करने वाले आरोपी को एसपी जया रॉय ने बचाया, बर्खास्त करें”

यूपीः भीषण सड़क हादसे में एक ही परिवार के पांच लोगों की मौत

सरकार जमीन अधिग्रहण करेगी और व्यापक जनहित नाम पर जमीन का उपयोग पूंजीपति करेगें : रश्मि कात्यायन

16 अधिकारियों का तबादला, अनिश गुप्ता बने रांची के एसएसपी, कुलदीप द्विवेदी गए चाईबासा