डिजिटल शिक्षा को बढ़ावा देने के लिये ‘ई..पाठशाला’ एवं ‘मेरी ई पुस्तक’ अभियान की हुई शुरूआत

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 01/23/2018 - 15:34

New Delhi : डिजिटल शिक्षा को बढ़ावा देने की पहल के तहत सरकार ने ई..पाठशाला कार्यक्रम को आगे बढ़ाने के साथ मेरी ई पुस्तक’’ अभियान शुरू किया है. मानव संसाधन विकास मंत्रालय के एक अधिकारी ने भाषाको बताया कि केंद्रीय शिक्षा सलाहकार बोर्ड की 15 जनवरी को हुई बैठक में स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग की ओर से, उठाये गए कदमों के बारे में केंद्र और राज्यों समेत शिक्षा से जुड़े विभिन्न पक्षकारों ने चर्चा कीइसमें ई पाठशाला , शाला सिद्धि, शाला दर्पण समेत डिजिटल शिक्षा से जुड़े विविध आयाम शामिल हैं.

स्कूलों में डिजिटल शिक्षा को आगे बढ़ाने की पहल के तहत एनसीईआरटी की किताबों के अलावा एनसीईआरटी, एससीईआरटी, राज्य बोर्ड की ओर से तैयार संशाधनों को ई पुस्तकके रूप में संकलित करने की पहल शुरू की है. इन सामग्रियों को 'ई-पाठशाला' पर मुफ्त में ऑनलाइन उपलब्ध कराया गया है.

इसे भी पढ़ें - झारखंड बजट-2018 : जानें कहां से होगा पैसों का प्रबंध और कहां होगा खर्च, 14 फीसदी राशि ऋण लेगी सरकार

30 राज्यों में पाठ्यपुस्तकों का डिजिटलीकरण किया गया है

इस पहल के तहत केंद्रीय शैक्षणिक प्रौद्योगिकी संस्थान :सीआईईटी और राष्ट्रीय शैक्षणिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद :एनसीईआरटी ने स्कूली शिक्षकों, शिक्षक प्रशिक्षकों और राज्यों में कोर ग्रुप के लिये ई..पाठशाला पर 12 क्षमता निर्माण कार्यक्रमों को लागू किया है और 30 राज्यों में पाठ्यपुस्तकों का डिजिटलीकरण किया है.

वहीं मंत्रालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार, इसके साथ ही शिक्षा से जुड़े विभिन्न पक्षकारों के लिये ‘‘मेरी ई..पुस्तक’’ पहल को भी आगे बढ़ाया जा रहा है. सीआईईटी और एनसीईआरटी ने हरियाणा को डिजिटल पाठ्यपुस्तक के साथ मोबाइल एप मेरी ई पुस्तकतैयार करने में सहयोग प्रदान किया है. ई..पाठशाला पहल के तहत वेब पोर्टल और मोबाइल एप तैयार किया गया है और इसे लागू किया गया है.

इसे भी पढ़ें - शिक्षा मंत्री से मिले अभिभावक संघर्ष समिति के सदस्य, कहा- 'स्कूलों और अधिकारियों की मिलीभगत से नामांकन से वंचित हो रहे छात्र'

ई..पाठशाला पर सभी विषयों की किताबें उपलब्ध होंगी

इसे पोर्टल पर अब तक 3027 वीडियो एवं आडियो सामग्रियों के साथ 650 ई बुक, 540 फ्लिप बुक जारी किया गया है. अब तक इसे 2,49,67,224 लोग देख चुके हैं. यूट्यूब पर इसे 80,31,220 लोग देख चुके हैं. इसे 11,88,129 लोग डाउनलोड भी कर चुके हैं. ई..पाठशाला पहल के तहत आंध्रप्रदेश, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर, हरियाणा, पंजाब, चंडीगढ़, राजस्थान, तेलंगाना, उत्तरप्रदेश और उत्तराखंड में अनुकूलन कार्यक्रम में चलाया गया है.

ई..पाठशाला पर सभी विषयों की किताबें उपलब्ध होंगी. पीडीएफ फारमेट में हर विषय की चैप्टर वाइज किताबों को डाउनलोड़ किया जा सकेगा. मोबाइल फोन एप में जारी होने से प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारियों के लिए भी राह आसान हो गई है. वेबसाइट पोर्टल के माध्यम से कंप्यूटर सिस्टम पर भी किताबों को डाउनलोड़ किया जा सकेगा.

एनसीईआरटी की किताबों की तलाश में अब भटकने की जरूरत नहीं है. इंटरनेट कनेक्शन से जुड़े मोबाइल फोन के एक क्लिक पर स्कूली किताबों को आसानी से डाउनलोड किया जा सकता है. इन किताबों को डाउनलोड कर आफ लाइन (बिना इंटरनेट कनेक्शन) भी पढ़ा जा सकता है. प्रिंट आउट निकाल कर किताबों को बाइंड भी करवा सकते हैं.

इसे भी पढ़ें - पहली बार बिना विपक्ष के सीएम ने पढ़ा बजट, काला नकाब लगाकर आये विधायकों को अध्यक्ष ने किया था निलंबित   

एनसीईआरटी की किताबों को डाउनलोड करने में सिर्फ इंटरनेट का खर्च आएगा

एनसीईआरटी की किताबों को डाउनलोड करने में सिर्फ इंटरनेट का खर्च आएगा और इसके लिए अन्य कोई भी पैसा नहीं चुकाना पड़ेगा. इन किताबों को पढ़ने के लिए मोबाइल फोन पर पीडीएफ फाइल रीडर होना आवश्यक है. पढ़ाई को रोचक और आसान बनाने के लिए यह सुविधा दी गई है.

एनसीईआरटी भी स्कूलों में दर्जे एक से लेकर 12वीं तक की कक्षा के लिए ई सामग्री तैयार कर रही है. एनसीईआरटी द्वारा अब तक 2,350  ई सामग्री तैयार की जा चुकी हैं. साथ ही 50 से अधिक तरह के ई बस्ते भी तैयार किए जा चुके हैं. अब तक 3,294 ई बस्तों के साथ में 43,801 ई सामग्री को डाउनलोड भी कर लिया गया है.

इसे भी पढ़ें - अधिकारीगण सावधान ! सोच-समझ कर मुस्कुराइए आप विधानसभा में हैं, हंगामा हो सकता है...

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.