सातवें दिन भी जारी रहा छात्रों का अनशन, सरकार से फर्जी मुकदमे वापस लेने की मांग

Publisher NEWSWING DatePublished Wed, 05/16/2018 - 21:15

Ranchi : 2 अप्रैल के बंद के दैरान हुए छात्रों पर मुकदमे को वापस लेने की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन अनशन व धरना राजभवन के समक्ष बुधवार को भी जारी रहा. आदिवासी दलित समन्वय समिति की ओर से आयोजित अनशन में छात्रों ने कहा कि आज के अनशन में छात्र-छात्राओं, जनसंगठन के अगुवाओं ने पीड़ित छात्रों के समर्थन मे अपना विरोध जताया है साथ ही सरकार से तमाम फर्जी मुकदमों को वापस लेने की मांग की है. मांगें पूरी होने तक धरना जारी रखने की बात भी उन्होंने बात कही. बता दें कि बंद के दौरान संजय महलीअनु कुमारीरूपा कुजूर, सुरावली टुडू और सुमंन्ती टुडू पर मुकदमा हुआ था. आदिवासी छात्र मोर्चा के अध्यक्ष अजय टोप्पो ने कहा की यह मांग जायज है और जब तक हमारे छात्र-छात्राओं के साथ न्याय नहीं होगा तब तक यह संघर्ष जारी रहेगा. सरकार इस पर तत्वरित पहल करे. अगर सरकार पहल नहीं करती है तो मुहिम को तेज करते सड़क से सदन तक एंव जन-जन तक पहुंचा कर इसे जन आंदोलन का रूप दिया जाएगा.

इसे भी पढ़ें- मरीजों को असहनीय तकलीफ दे रहा रिम्स का बर्न वार्ड, चार एसी खराब, पंखे भी बेकाम  

अनशन में भारी संख्या में छात्र-छात्राओं ने शिरकत की

बुधवार के अनशन में निंरजना टोप्पो, हेरेंज, पारस लकड़ाक्षेत्रीय पडहा समिति हटिया की और से पड़हा अध्यक्ष सिवरन मुन्डा, कार्यकारी अध्यक्ष निकोलस एक्का, झरिया उरांव आदिवासी लोहरा समाज के विक्की लोहरा, अखिल भारतीय आदिवासी विकास परिषद ओरमांझी के सुरेंद्र उरावविमल उरावनवीन उरावसुनील मुंडाआदिवासी युवा मोर्चा  एल्विन लकड़ा सहित सैकड़ों की संख्या में लोग उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें- चंदवा : कोयले के धंधे में वर्चस्व कायम करने को लेकर दो गुट आमने-सामने, अलर्ट मोड पर प्रशासन   

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

na