कांग्रेस जिला अध्यक्ष शंकर यादव की बम ब्लास्ट में मौत, दो की हालत नाजुक

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 02/13/2018 - 17:55

Koderma / Ranchi: कांग्रेस कमेटी के कोडरमा जिलाध्यक्ष शंकर यादव की विस्फोट में मौत की सूचना है. बम विस्फोट में गाड़ी का चालक कृष्णा की स्थिति नाजुक बतायी जा रही है, वहींं प्राइवेट गार्ड की भी बम विस्फोट में मौत गयी. बम विस्फोट एक ऑटो में हुई, जिसकी चपेट में शंकर यादव की स्कॉर्पियो आ गयी, जिसमें उनकी मौत हो गयी. बम विस्फोट इतना घातक था कि गाड़ी के परखच्चे उड़ गये. वहीं जिलाअध्यक्ष शंकर यादव का शव क्षत-विक्षत हो गया. चंदवारा थाना अंतर्गत ढाब थाम स्थित माइंस एरिया में यह हादसा हुआ है. पुलिस घटना स्थल पर पहुंची, पुलिस मामले की जांच कर रही है. 

a
बलास्ट

इसे भी पढ़ें - रांची में आयोजित कुड़मी महारैली के जवाब में 28 जनवरी को ईचागढ़ में कुड़मी वनभोज व रंगारंग कार्यक्रम, जुटेंगे कई बड़े नेता

तीन माह पूर्व इसी स्थान पर हुआ था हमला

तीन माह पूर्व शंकर यादव अपनी स्कॉर्पियो पर सवार होकर चौपारण चंदवारा के सीमावर्ती क्षेत्र ढाब थाम में स्थित अपने पत्थर खदान में गये थे. पत्थर खदान पहुंचकर शंकर यादव मोबाइल से बात कर रहे थे. इसी दौरान मोटरसाइकिल सवार दो युवकों ने पिस्तौल निकाली और सीधे शंकर के सीने में गोली मार दी. अपराधी मोटरसाइकिल पर सवार हुए और फरार हो गये. लंबे समय से अस्पताल में रहने के बाद मौत के मुंह से वे बाहर निकले थे.

इसे भी पढ़ें - रघुवर दास बचा रहे हैं हेमंत सोरेन को, सारे सबूत देने के बाद भी तीन साल से धूल फांक रही है सीएमओ में फाइल

पत्थर कारोबार से जुड़े हुए थे शंकर यादव

ब्लास्ट में क्षत-विक्षत ऑटो
ब्लास्ट में क्षत-विक्षत ऑटो

कांग्रेस नेता शंकर यादव पत्थर कारोबार से जुड़े हुए थे.  कारोबार में वर्चस्व को लेकर इनकी कई लोगों से अदावत भी चल रही थी. पत्थर कारोबारियों के बीच ऐसी घटना होने की चर्चा थी. लेकिन फिर भी पुलिस इस मामले को लेकर शांत बैठी हुई थी. यहां तक कि पिछली बार जब शंकर यादव पर हमला हुआ, उसके बाद भी पुलिस ने कोई खास कार्रवाई नहीं की. वहीं घटना के बाद पूरे कोडरमा जिले में तनाव का माहौल है. घटना स्थल पर वरीय पुलिस अधिकारी पहुंच रहे हैं. दूसरी तरफ राजनीति छवि होने की वजह से सूबे के राजनीतिक गलियारे में भी घटना को लेकर काफी चर्चा हो रही है. खासकर कांग्रेस में घटना को लेकर काफी आक्रोश देखने को मिल रहा है. आने वाले दिनों में कांग्रेस घटना को लेकर सड़क पर भी उतर सकती है.

नक्सली का हाथ होना कहना जल्दबाजी होगी - एसपी

एसपी शिवानी तिवारी ने बताया कि इस घटना के पीछे नक्सलियों का हाथ  है या नहीं, यह कहना  अभी जल्दबाजी होगी. यह घटना एक दुर्घटना भी हो सकती है. मौके पर एफएसल की टीम को रवाना कर दिया गया है.  एफएसल की रिपोर्ट से यह तय होगा कि इस घटना की सच्चाई क्या है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.