मुख्य सूचना आयुक्त का आदेश : NTPC जमीन अधिग्रहण से संबंधित दस्तावेज अधिवक्ता सत्य प्रकाश को दिखायें

Publisher NEWSWING DatePublished Sat, 05/12/2018 - 12:02

हजारीबाग के बड़कागांव में है एनटीपीसी की पकरी-बरवाडीह कोल परियोजना

Ranchi: हजारीबाग के बड़कागांव में एनटीपीसी की पकड़ी-बरवाडीह कोल परियोजना से संबंधित दस्तावेज दिखाने का आदेश मुख्य सूचना आयुक्त ने दिया है. मुख्य सूचना आयुक्त ने दिल्ली हाईकोर्ट के अधिवक्ता सत्य प्रकाश पांडेय के आवेदन पर सुनवाई करते हुए यह आदेश दिया है. आदेश में कहा गया है कि एनटीपीसी को अगर कागजात दिखाने में आपत्ति है, तो वह अधिवक्ता को सभी तरह के कागजात को इंस्पेक्ट करने की व्यवस्था करें. यह काम चार सप्ताह के भीतर करे. 

यहां उल्लेखनीय है कि अधिवक्ता सत्यप्रकाश ने आम लोगोंं से जुड़ी जानकारियां एनटीपीसी से मांगी थी. कुछ जानकारी तो एनटीपीसी ने अधिवक्ता को उपलब्ध करा दी थी, लेकिन कुछ को अलग-अलग तरह की वजहोंं का जिक्र करते हुए उपलब्ध कराने से इंकार कर दिया था. जिसके बाद अधिवक्ता ने मुख्य सूचना आयुक्त के यहां अपील दायर किया था.

इसे भी पढ़ेंः हजारीबाग के बड़कागांव में हुए 3000 करोड़ के मुआवजा घोटाले की सीबीआई जांच शुरु

अधिवक्ता ने जो जानकारी मांगी थी

- एनटीपीसी की पकरी-बरवाडीह परियोजना से किसी भी तरह से प्रभावित होने वाले परिवारों  की सूची.

- परियोजना के लिए जिनकी जमीन का अधिग्रहण किया गया, उनके नाम की सूची.

- जिन परिवारोंं की जमीन का अधिग्रहण किया गया, उन्हें मुआवजा के रुप में कितने रुपये दिये गये, इसकी सूची.

- प्रभावित लोगोंं के पुनर्वास के लिए क्या-क्या व्यवस्था की गयी. 

- परियोजना के लिए किये गये सोशल इंपैक्ट असेसमेंट, पर्यावरण पर पड़ने वाले प्रभाव का असेसमेंट, सामाजिक प्रभाव का असेसमेंट, आर्थिक असेसमेंट की रिपोर्ट

- परियोजना से प्रभावित होने वाले परिवारों और लोगों के कल्याण के लिए कंपनी की तरफ से क्या योजना बनायी गयी है, उसमें कितना काम हुआ है और काम कब तक पूरा होगा.

- पुनर्वास के लिए जिन स्वयं सेवी संस्थाओं या एजेंसियोंं का चयन किया गया है, उनके नाम.

- परियोजना के लिए जमीन का अधिग्रहण लैंड एक्वीजिशन एक्ट-1894 के तहत किया गया या 2013 के तहत.

- परियोजना के लिए अधिग्रहित जमीन की प्रक्रिया के तहत किस साल कितनी जमीन का अधिग्रहण किया गया.

- अधिग्रहण किये गये जमीन के मालिकों को किस चेक या बैंक ड्राफ्ट के जरिये मुआवजा राशि दी गयी, उस चेक व ड्राफ्ट का नंबर.

इसे भी पढ़ेंः जीरो टॉलरेंस वाली सरकार ने नहीं करायी 3000 करोड़ रुपये के मुआवजा घोटाला की विस्तृत जांच

इसे भी पढ़ेंः 3000 करोड़ मुआवजा घोटालाः जिस CO ने की ज्यादा गड़बड़ी, भू-राजस्व विभाग ने उसे टंडवा भेजा, जहां एनटीपीसी कर रहा था भूमि अधिग्रहण

जमीन अधिग्रहण में हुआ है 3000 करोड़ से अधिक का घोटाला

जानकारी के मुताबिक बड़कागांव में कोल परियोजना के लिए जमीन अधिग्रहण में 3000 करोड़ रुपये से अधिक का घोटाला हुआ है. गड़बड़ियों की रिपोर्ट हजारीबाग के तत्कालीन उपायुक्त ने सरकार से की थी. जिसके बाद सरकार ने एसआईटी से मामले की जांच करायी थी. एसआईटी की जांच में इस बात की पुष्टि हुई है कि बड़कागांव में एनटीपीसी के द्वारा किये गये जमीन अधिग्रहण में बड़े पैमाने पर घोटाला हुआ है. घोटाला 3000 करोड़ रुपये से अधिक का होने का अनुमान है. इस घोटाले में एनटीपीसी के अधिकारियोंं के अलावा सरकार के नीचे से लेकर उपर तक के अफसर के शामिल होने की आशंका है. एसआईटी ने मामले की सीबीआई जांच की अनुशंसा सरकार से की थी. लेकिन सरकार ने लंबे समय तक एसआईटी की अनुशंसा पर कोई कार्रवाई नहीं की. हालांकि सीबीआई अपने स्तर से इस मामले की जांच शुरु कर चुकी है. 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

top story (position)
na