चाईबासा : हाथी को मार कर दांत का अवैध कारोबार करने वाले पांच तस्कर गिरफ्तार, 18 लाख जब्त

Publisher NEWSWING DatePublished Thu, 01/18/2018 - 15:53

- एक माह पहले चाईबासा के टोंटो में मिला था हाथी का शव, सर था गायब.

- तस्करों के संबंध ओडिशा, अरुणाचल प्रदेश से भी, कटक से हुई गिरफ्तारी.

Ranchi : झारखंड और ओडिशा में हाथी को मार कर उसके दांत का अवैध कारोबार करने वाला गिरोह सक्रिय है. चाईबासा पुलिस ने तस्कर गिरोह के पांच सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया है. साथ ही हाथी दांत को बेचकर मिले रुपये में से 18 लाख रुपया जब्त कर लिया है. हालांकि अभी तक हाथी का दांत बरामद नहीं हुआ है. पुलिस दांत खरीदने वाले व्यक्ति की गिरफ्तारी की कोशिश में लगी हुई है. गिरफ्तार किए गए लोगों में से एक की गिरफ्तारी ओडिशा के कटक से हुई है. हाथी दांत के तस्करों के नेटवर्क झारखंड के अलावा ओडिशा और अरुणाचल प्रदेश तक होने की बात सामने आयी है. पुलिस इस नेटवर्क पर काम कर रही है. 

हाथी का सिर कटा शव मिला था

जानकारी के मुताबिक करीब एक माह पहले चाईबासा के टोंटो जंगल में एक हाथी का शव मिला था. वन विभाग ने हाथी का शव तो बरामद किया था, लेकिन उसका सिर नहीं मिला था. सिर को काट कर तस्कर अपने साथ लेते गए थे. इसके बाद पुलिस ने मामले में प्राथमिकी दर्ज करके कार्रवाई शुरु की थी. जांच में हाथी दांत की तस्करी में स्थानीय लोगों के मिले होने की बात भी सामने आयी. जिसके बाद अन्य तस्करों की गिरफ्तारी संभव हो सकी.

पहले भी कर चुके हैं हाथियों की हत्या

हाथी दांत की तस्करी करने वाले गिरोह के सदस्यों ने गिरफ्तारी के बाद पुलिस को बताया है कि उन लोगों ने पहले भी चाईबासा के जंगलों में इस तरह की घटनाअों को अंजाम दिया है. हाथी की हत्या करके उसका सिर काट लेते थे. बाद में हाथी के सिर से दांत को निकाल कर उसे तस्करों के यहां बेच देते हैं. पुलिस अब उनके बयान की सत्यता की जांच कर रही है. ताकि यह पता चल सके कि यह गिरोह झारखंड के किन-किन जिलों में हाथियों को मार कर उसके दांत का अवैध कारोबार करता है.

इसे भी पढ़ें : हेमंत ने कहा "अध्यक्ष तो भीष्म पितामह बन जाते हैं", तो प्रदीप यादव ने कहा "विधायक CM और CS की चापलूसी कर रहे हैं

इसे भी पढ़ें : घाघरा: तुसगांव जनता दरबार में छलका ग्रामीणों का गुस्सा, अपने गांवों में नेताओं के प्रवेश पर लगायी रोक