टूट रहा है पूर्वी अफ्रीका, बदल जायेगा दुनिया का नक्शा,  नया महासागर लेगा जन्म !

Publisher NEWSWING DatePublished Mon, 04/02/2018 - 15:43

New Delhi :  दुनिया का नक्शा बदलने वाला है. लेकिन आपको चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है. क्योंकि इसमें लाखों वर्ष लगेंगे. हालांकि इसकी नींव पड़ चुकी है. वैज्ञानिकों का मानना है कि पूर्वी अफ्रीका टूट रहा है. कारण यह कि इस  महाद्वीप के पूर्वी हिस्से में विशालकाय 5000 किमी लंबी टेक्टॉनिक प्लेट बाउंड्री है, जो ईस्ट अफ्रीकन रिफ्ट सिस्टम की सतह की तरह है. यह अफ्रीकन प्लेट सोमालियन और नुबियन टेक्टॉनिक प्लेटों में बंटी हुई है. दोनों प्लेटें एक-दूसरे को दूर धकेल रही हैं. इसका अर्थ लगाया जा रहा है कि है कि लगभग एक करोड़ वर्ष में वहां एक नया महासागर जन्म लेगा,  जो ईस्ट अफ्रीकन रिफ्ट सिस्टम पूर्वी अफ्रीका को महाद्वीप से अलग कर देगा.

इसे भी पढ़ें :चीन का हेवनली पैलेस द तियांगोंग-1 दक्षिण प्रशांत महासागर में गिरा और बिखर गया

 वैज्ञानिकों के अनुसार 13 करोड़ 80 लाख वर्ष पूर्व भी इसी प्रक्रिया के तहत दक्षिणी अमेरिका और अफ्रीका महाद्वीप अलग हुए थे.  आज भी दोनों महाद्वीपों के तटीय क्षेत्रों की समानता इसकी पुष्टि करती है. बताया गया है कि दक्षिण पश्चिम देश केन्या में मीलों लंबी और काफी चौड़ी दरार पड़ चुकी है. इलाके में लगातार भूकंप आ रहे हैं. यहां तक की नैरोबी-नरोक हाईवे लगभग तहस-नहस हो चुका है.

इसे भी पढ़ें :हिंसक हुआ भारत बंद प्रदर्शन: एमपी के मुरैना में एक शख्स की मौत के बाद लगा कर्फ्यू, सरकार ने दायर की पुर्नविचार याचिका, शांति की अपील

धरती का लिथोस्फेयर टेक्टॉनिक प्लेटों में बंटा होता है, जो स्थिर नहीं रहतीं

फाल्ट डायनामिक्स रिसर्च ग्रुप लंदन रॉयल होलोवे के लुसिया पेरेज डियाज ने इस संबंध में जानकारी दी है. उनकी थ्योरी के अनुसार धरती का लिथोस्फेयर (क्रस्ट और मैंटल का ऊपरी हिस्सा) टेक्टॉनिक प्लेटों में बंटा होता है और ये प्लेटें स्थिर नहीं रहतीं. प्लेटें अलग-अलग गति से एक-दूसरे की तरफ बढ़ती रहती हैं. ज्यादा चलायमान एस्थेनोस्फेयर (लिथोस्फेयर के नीचे की परत) के ऊपर सरकती रहती हैं. थ्योरी कहती है कि एस्थेनोस्फेयर के बहाव और प्लेटों की बाउंड्री से पैदा हुए बल इन्हेंगतिमान बनाये रखते हैं. कभी-कभी प्लेटों को तोड़ भी देती हैं. ऐसा होने से धरती में दरार पैदा होती है. साथ ही नयी प्लेट बाउंड्री का निर्माण होता है. ईस्ट अफ्रीकन रिफ्ट वैली उत्तर में अदन की खाड़ी से लेकर दक्षिण में जिंबाब्वे तक के 3000 किमी क्षेत्र के दायरे में फैली है. ये अफ्रीकी प्लेट को दो असमान हिस्सों सोमाली और नुबियन प्लेटों में बांटती है. 

इसे भी पढ़ें:पेट्रोल के दामों ने तोड़ा चार साल का रिकॉर्ड, डीजल अबतक के सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंचा

इथियोपिया, केन्या, तंजानिया में भूगर्भ हलचल तेज है

हार्न ऑफ अफ्रीका, इथियोपिया और सोमालिया में हिंद महासागर में एक आइलैंड बनने की संभावना है. इस रिफ्ट वैली के पूर्वी हिस्से यानी इथियोपिया, केन्या, तंजानिया में भूगर्भ हलचल तेज है. अफ्रीकन रिफ्ट वैली की पूरी सतह ज्वालामुखीय चट्टानों से बनी है. यहां लिथोस्फेयर बहुत पतली है जिसके दो टुकड़ों में बंटने की बहुत गुंजाइश है. जब ऐसा होगा तो खाली हुए स्थान में मैग्मा के जमने से नया महासागर बनने की प्रक्रिया शुरू हो जायेगी. एक करोड़ साल बाद समुद्र तल बढ़कर पूरी दरार को अपने लपेटे में ले लेगा.  महासागर का आकार बढ़ेगा और अफ्रीका महाद्वीप छोटा हो जायेगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

हजारीबाग डीसी तबादला मामला : देखें कैसे बीजेपी के जिला अध्यक्ष कर रहे हैं कन्फर्म  

न्यूज विंग की खबर का असर :  फर्जी  शिक्षक नियुक्ति मामले में तत्कालीन डीएसई दोषी करार 

बिजली बिल के डिजिटल पेमेंट से मिलता है कैशबैक, JBVNL नहीं शुरू कर पायी है डिजिटल पेमेंट की व्यवस्था

स्वीकार है भाजपा प्रदेश अध्यक्ष की खुली बहस वाली चुनौती : योगेंद्र प्रताप

लाठी के बल पर जनता की भावनाओं से खेल रही सरकार, पांच को विपक्ष का झारखंड बंद : हेमंत सोरेन   

सुप्रीम कोर्ट का आदेश : नहीं घटायी जायेंगी एमजीएम कॉलेज जमशेदपुर की मेडिकल सीट

मैट्रिक व इंटर में ही हो गये 2 लाख से ज्यादा बच्चे फेल, अभी तो आर्ट्स का रिजल्ट आना बाकी  

बीजेपी के किस एमपी को मिलेगा टिकट, किसका होगा पत्ता साफ? RSS बनायेगा भाजपा सांसदों का रिपोर्ट कार्ड

आतंकियों की आयी शामतः सीजफायर खत्म, ऑपरेशन ऑलआउट में दो आतंकी ढेर- सर्च ऑपरेशन जारी

दिल्ली: अनशन पर बैठे मंत्री सत्येंद्र जैन की बिगड़ी तबियत, आधी रात को अस्पताल में भर्ती

भूमि अधिग्रहण पर आजसू का झामुमो पर बड़ा हमला, मांगा पांच सवालों का जवाब