बिहार : शराबबंदी की खुली पोल, नशे में धुत भाजपा सांसद का बेटा गिरफ्तार

Publisher NEWSWING DatePublished Mon, 04/23/2018 - 13:48

Patna: बिहार में शराबबंदी है. यानी शराब पीने, खरीदने-बेचने पर रोक है. नीतीश सरकार भी अक्सर शराबबंदी को सफल बताती है. लेकिन इस दावे की पोल उस वक्त खोल गयी जब सरकार में शामिल बीजेपी के  सांसद हरि मांझी के बेटे राहुल मांझी को पुलिस ने नशे में धुत्त गिरफ्तार किया.  पुलिस ने बताया कि सांसद पुत्र शनिवार शाम बोधगया के नीमगांव में अपने दोस्तों के साथ शराब पी रहा था. गिरफ्तारी के तुरंत बाद पुलिस ने राहुल मांझी का मेडिकल टेस्ट करवाया, जिसमें राहुल के शरीब में शराब के अंश की मौजूदगी की पुष्टि हुई. इसके बाद पुलिस ने रविवार को राहुल मांझी को कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है.

इसे भी पढ़ें:झारखंड सरकार के सूचना एवं जन संपर्क विभाग के Whatsapp ग्रुप से सांप्रदायिक वीडियो प्रसारित

छापेमारी के दौरान गिरफ्तारी

पुलिस ने सांसद के बेटे को अवैध शराब ठिकानों पर छापेमारी के दौरान गिरफ्तार किया है. इस दौरान पुलिस ने राहुल मांझी को उसके दोस्तों के साथ पार्टी में शराब पीते पाया. दरअसल, पुलिस का सूचना मिली थी कि बोधगया में शराब माफिया मुंडारीक यादव के यहां अवैध शराब का कारोबार चल रहा है. इसी जानकारी के आधार पर उसके ठिकाने पर छापेमारी की गई. लेकिन वहां तो खुद सांसद का बेटा शराब के नशे में धुत मिला. हालांकि सांसद हरि मांझी ने इस पूरे मामले पर अपनी सफाई देते हुए अपने बेटे को निर्दोष बताया और कहा कि शनिवार की रात उनका बेटा अपने एक रिश्तेदार के यहां शादी समारोह में गया हुआ था और वहीं से वापस लौट रहा था. हरि मांझी का कहना है कि पुलिस ने उसे बेवजह पकड़ लिया. उनका कहना है कि कुछ दिन पहले उनके बेटे राहुल की स्थानीय लोगों के साथ मारपीट हुई थी और उन्हीं लोगों ने साजिश के तहत उनके बेटे को शराब कांड में फंसा दिया है.

गिरफ्तारी पर राजनीति

शराबबंदी के नीतीश सरकार के दावे को फेल करते हुए बीजेपी सांसद के बेटे का यूं गिरफ्तार होना, अपने में गंभीर मसला है. वही विपक्ष को सरकार को घेरने का बैठे-बिठाये मुद्दा मिल गया है. विपक्षी नेताओं ने इस मामले को लेकर बयानबाजी शुरु कर दी है. वही राजद उपाध्यक्ष, शिवानंद तिवारी इस पूरे मामले को अलग ही रुप देते दिखे. उन्होंने कहा कि दलित होने के कारण बीजेपी सांसद के बेटे को गिरफ्तार किया गया है. अगर कोई दबंग जाति का होता तो उसके साथ ऐसा नहीं किया जाता. दूसरी तरफ बीजेपी के नेता विनोद नारायण झा कहना है कि बिहार में कानून का राज है. कानून उल्लंघन करने वालों को सजा जरूर मिलेगी.

इसे भी पढ़ें:कठुआ में बच्ची के साथ बलात्कार न होने की ‘दैनिक जागरण’ की​ रिपोर्ट झूठी है

किसी सत्तारूढ़ दल के परिवार वालों के शराबबंदी का उल्लंघन करने के आरोप में हाल में ये सबसे बड़ी गिरफ़्तारी है. इससे पहले पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के कई परिवार के सदस्य या शराब के नशे में या शराब के साथ गिरफ़्तार हो चुके हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

top story (position)