हनीमून के बाद बढ़ रहा है बेबीमून का क्रेज, प्रेग्नेंसी के दौरान करें सैर-सपाटा

Publisher NEWSWING DatePublished Thu, 03/29/2018 - 12:46

Ranchi : शादी के बाद हनीमून और फिर घर की जिम्मेदारियां निभाते-निभाते ना चाहकर भी पति-पत्नी एक-दूसरे को टाइम नहीं दें पाते. ऐसे में अगर बेबी प्लान कर लिया जाए तो लाइफ का सारा एक्साइटमेंट जैसे खत्म होने लगता है. अगर बात महिलाओं की करें तो इस दौरान महिलाओं में शारीरिक और मानसिक बदलाव होते है, और इन बदलाव की वजह से पत्नी ज्यादा से ज्यादा टाइम अपने पति के साथ बिताना चाहती है. डॉक्टर के अनुसार भी महिलाओं में प्रेग्नेंसी के टाइम बदलाव के कारण वो काफी तनाव से गुजरती हैं. इसलिए आजकल अब हनीमून की तरह ही बेबी से पहले बेबीमून का क्रेज बढ़ रहा है. यह नया ट्रेंड रायल फैमिलीज से होते हुए, सेलेब्रिटीज में आया और अब ये क्रेज धीरे-धीरे पूरे देश का क्रेज बनता जा रहा है. 

इसे भी पढ़ें: क्या मॉडर्न लाइफस्टाइल की वजह से कहीं खोते जा रहे हैं हमारे रिश्ते

डिलीवरी से पहले पार्टनर के साथ करें एंजॉय

ऐसे कपल्स की संख्या तेजी से बढ़ रही है, जो प्रेग्नेंसी के टाइम छुट्टियां मनाने बाहर जा रहे हैं. इसे ही बेबीमून कहते हैं. वैसे तो ये हनीमून ही है, लेकिन थोड़ा अलग है. जैसे आपने सेकंड हनीमून का नाम सुना है, वैसे ही बेबी की डिलीवरी से पहले अपने पार्टनर के साथ इस पल को एंजॉय करने के लिए कपल घूमने जा रहे हैं और ये ही बेबीमून. बेबीमून का कान्सेप्ट प्रिंस विलियम और केट मिडल्टन बेबी के जन्म के समय से आया. बात अगर ट्रैवल एजेंसियों की करें तो इस ट्रेंड को बढ़ावा देने के लिए बेबीमून के स्पेशल पैकेज चलाती है.

 

िु्िुि्ु

 

इसे भी पढ़ें: मनोविकार के उपचार में सहायक हो सकता है पूरक आहार

होटलों में खास तैयारी

होटलों में पोस्ट और प्री प्रेग्नेंसी स्पा ऑप्शन रहा है. प्रेग्नंट महिला को देखते हुए इस तरह के स्पा बनाए जा रहे हैं, जिनके इस्तेमाल से उन्हें आराम तो मिले ही, साथ ही न्यूट्रिशंस भी मिल सके. ट्रैवल एडवाइजर्स ने प्रेग्नंट महिलाओं के लिए एडवाइजरी तैयार की हैं, जैसे उन्हें कितने घंटे ट्रैवल करना चाहिए, ट्रैवल के वक्त कैसी डाइट हो या फिर डॉक्टर को कॉल करने जैसी फैसिलिटीज भी दे रहे हैं.

्ोे्ेो्िि

इस बात का रखें ख्याल

बेबीमून के लिए ऐसी जगह चुने जहां डॉक्टर की व्यवस्था आसानी से हो सके और सफर कठिन न हो. हालांकि इसका मतलब ये नहीं है कि आप किसी हिल स्टेशन नहीं जा सकते.

- बेबीमून के लिए फ्लाइंग करते वक्त प्रेग्नेंट महिला अपनी सीट बेल्ट हल्के बांधे.

- सीट बेल्ट पेट के नीचे बांधनी चाहिए.

- पेट के बीचो-बीच भूल से भी सीट बेल्ट न लगाये.

- अपनी गाड़ी से जा रहे है तो 8 से 10 घंटे का सफर न करे.

- अपनी जरुरी दवाइयां साथ रखना न भूले.

- बेबीमून की प्लानिंग करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह ले लें.

- जहां आप जा रहे है वहां इमरजेंसी में डॉक्टर की सुविधा मिल जाये, इसका पता पहले लगा लें.

 

े्ेो्ेो्

 

इसे भी पढ़ें: महिला सुरक्षा एप्प की है भरमार, जाने एप्प के जरिए कैसे रखे खुद को सुरक्षित

कहां जाए

बेबीमून के लिए इंडिया में इन दिनों केरल, तमिलनाडू, लद्दाख, सिक्किम, नैनीताल, शिमला और ओडि़सा बेस्ट है. यदि सी साइड जाने का मूड है तो अण्डमान, लक्ष्यदीप सबसे अच्छा ऑप्शन है.

ेो्ेो्े्

 

इसे भी पढ़ें: नौकरीपेशा महिलाओं की तुलना में हर सप्ताह 42 घंटे अधिक काम करती है घरेलू महिला

क्या कहते हैं कपल्स

इस बारे में कपल्स कहते है कि हम अपने काम में इतना बिजी हो गए है कि चाहकर भी अपने परिवार को और खुद को टाइम नहीं दे पाते है. इस बिजी लाइफ स्टाइल के बीच बेबीमून का ट्रेड हमारे लिए एक रिलैक्स करने का एक अच्छा बहाना है. कम से कम इसी बहाने हम पति-पत्नी को एक साथ टाइम बिताने का मौका भी मिल जाता है. ये टाइम लाइफ में बार-बार नहीं आता है. इसलिए इस टाइम को हम एन्जॉय करके बहुत खुश है.  

ोेोेोे

  न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.