आजसू पार्टी की केंद्रीय सभा जोन्हा में,  जनता के सवालों को लेकर सड़कों पर उतरने का संकल्प

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 02/20/2018 - 21:40

RANCHI :  आजसू पार्टी की केंद्रीय सभा जोन्हा में हुई, इसमें राज्य की सवा तीन करोड़ जनता के सवालों को लेकर सड़कों पर उतरने का संकल्प लिया गया;  सभा को संबोधित करते हुए केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश कुमार महतो ने कहा कि झारंण्ड में विकट परिस्थितियां बनती जा रही हैं. मौजूदा शासन व्यवस्था  में प्रदेश के 83 प्रतिशत मूल निवासियों की हितों एव  नीति निर्धारण में भावनाओं और जन आकांक्षाओं की लगातार अनदेखी की जा रही है. प्रदेश के सरकारी एवं गैर-सरकारी नौकरियों में स्थानीय नीति की खामियों की वजह से आदिवासी/मूलवासी युवाओं का हक छीना जा रहा है.  तीन वर्षों से पार्टी सरकार को पत्र, आंदोलन, मीडिया के माध्यम से आगाह कराती आ रही है। सरकार के कानों तक आवाजें पहुंचती भी होगी, लेकिन इसका असर नहीं होता दिखता. 

इसे भी पढ़ें - PNB घोटलाः रांची के न्यूक्लियस मॉल के निर्वाण और नक्षत्र ज्वेलर्स में ईडी का छापा

इसे भी पढ़ें - PNB धोखाधड़ी : 200 मुखौटा कंपनियां व बेनामी संपत्ति जांच के दायरे में, अब तक 5674 करोड़ के जेवर जब्त

सामाजिक न्याय की लड़ाई को अंजाम तक पहुंचायेंगे 

उन्होंने कहा कि सामाजिक न्याय की लड़ाई को अंजाम तक पहुंचाएंगे। पिछड़ी जाति को  27 प्रतिशत, अुनसूचित जाति को 14 प्रतिशत, अनुसूचित जनजाति को 32 प्रतिशत आरक्षण की मांग को लेकर राज्य स्तरीय कार्यक्रम किया जायेगा. उन्होंने कहा कि झारखंडियों  की जमीन असुरक्षित है। भू-अर्जन कानून का चौतरफा विरोध के बाद उसमें संशोधन के लिए फिर से केंद्र को भेजा गया है। राजधानी रांची में ही 2200 एकड़ से अधिक सीएनटी जमीन पर उल्लंघन हुआ, जिनके मामले एसएआर कोर्ट में सालों से लंबित है.  

इसे भी पढ़ें - PNB के बाद अब कानपुर में 5,000 करोड़ का घोटाला

जमीन की बंदरबांट की जा रही है 

सरकारी उपक्रमों के नाम अधिग्रहित जमीन, भू-अधिग्रहणकानूनों का उल्लंघन कर बंदरबांट की जा रहा है. उन्होंने कहा कि शासक वर्गों  का ध्यान सिर्फ यहां की खनिज और वन सम्पदा पर है. 75 प्रतिशत मूल निवासी आज भी कृषि पर निर्भर, लेकिन उनकी उपेक्षा बरकरार है. कहा गया कि बडी संख्या में श्रमिकों-महिला कामगारों का पलायन अब भी जारी है.  सबसे बड़ी पंचायत विधानसभा में क्या हो रहा है, यह पूरे राज्य के सामने है;  बजट बिना बहस के पास हो रहा है. वर्तमान में अलग राज्य के गठन का औचित्य पर सवाल खडा हो गया है. झारखंडवाद की स्थानीय भाषा-संस्कृति, पर्व -त्योहार, परम्पराओं को लगातार विलुप्त करने की कोशिश हो रही है. केन्द्रीय सभा को मंत्री चन्द्रप्रकाश चौधरी ने  कहा कि राज्य के सर्वांगीण विकास के लिए हमें आगे आना होगा. पार्टी अपने जिम्मेदारी निभाने से कहीं पीछे खड़ी नहीं है. विधायक रामचन्द्र सहिस ने कहा कि स्थानीय नीति और नियोजन नीति में सरकार संशोधन करे.  हमने सीएम को पत्र लिखकर स्थानीय और नियोजन नीति में संशोधन के लिए सुझाव सौंपा है.    झारखंडी जनभावनाओं के अनुरूप नीतियां बने. इससे पहले जोन्हा में भगवान बिरसा मुंडा की प्रतिमा लगाने के लिए भूमि पूजन केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश कुमार महतो, मंत्री चंद्र प्रकाश चैधरी, विधायक रामचंद्र सहिस, शहीद सिद्धू-कान्हू के वंशज मंडल मुर्मू,  संजय बसु  मल्लिक, डोमन सिंह मुंडा , डा देवशरण
भगत उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ेंः हिंडाल्को द्वारा बॉक्साइड साइडिंग चालने में उड़ाई जा रही नियमों की धज्जियां, धड़ल्ले से हो रहा प्रदूषण मापदंडों का उल्लंघन

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

एसपी जया राय ने रंजीत मंडल से कहा था – तुम्हें बच्चे की कसम, बदल दो बयान, कह दो महिला सिपाही पिंकी है चोर

बीजेपी पर बरसे यशवंतः कश्मीर मुद्दे से सांप्रदायिकता फैलायेगी भाजपा, वोटों का होगा धुव्रीकरण

अमरनाथ यात्रा पर फिदायीन हमले का खतरा, NSG कमांडो होंगे तैनात

डीबीटी की सोशल ऑडिट रिपोर्ट जारी, नगड़ी में 38 में से 36 ग्राम सभाओं ने डीबीटी को नकारा

इंजीनियर साहब! बताइये शिवलिंग तोड़ रहा कांके डैम साइड की पक्की सड़क या आपके ‘पाप’ से फट रही है धरती

देशद्रोह के आरोप में जेल में बंद रामो बिरुवा की मौत

मैं नरेंद्र मोदी की पत्नी वो मेरे रामः जशोदाबेन

दुनिया को 'रोग से निरोग' की राह दिखा रहा योग: मोदी

स्मार्ट मीटर खरीद के टेंडर को लेकर जेबीवीएनएल चेयरमैन से शिकायत, 40 फीसदी के बदले 700 फीसदी टेंडर वैल्यू तय किया

मोदी सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार ने निजी कारणों से दिया इस्तीफा

बीसीसीआई अधिकारियों को सीओए की दो टूकः अपने खर्चे पर देखें मैच