इंदौर: 4 माह की मासूम की रेप के बाद निर्मम हत्या, संवेदनहीनता पर एएसआई निलंबित

Publisher NEWSWING DatePublished Sat, 04/21/2018 - 13:49

Indore: कठुआ गैंगरेप केस को देश भुला नहीं सका है, वही एक और वारदात ने लोगों को सकते में डाल दिया है. इंदौर में चार महीने की दूधमुंही मासूम बच्ची का अपहरण कर रेप करने के बाद उसकी निर्मम हत्या कर दी गई. मामले में पुलिस की लापरवाही भी सामने आई है. हालांकि पुलिस ने घटना वाले दिन ही देर शाम तक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने बताया कि आरोपी और कोई नहीं बल्कि बच्ची की मां का मौसा ही है.  इस बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घटना पर दुख व्यक्त किया है. वही मामले में कथित संवेदनहीनता एवं लापरवाही बरतने के कारण एएसआई को निलंबित कर दिया गया है.

इसे भी पढ़ें
बच्चियों से रेप के दोषी को होगी फांसी की सजा ! मोदी सरकार आज ला सकती है ऑर्डिनेंस

पुलिस की गिरफ्त में आरोपी

मामले की जानकारी देते हुए डीआईजी हरिनारायणाचारी मिश्रा ने शनिवार को बताया कि शुक्रवार देर रात नवीन गाडगे नामक आरोपी को गिरफ्तार किया गया है. वो बच्ची का दूर का रिश्तेदार है. डीआईजी ने बताया कि बच्ची के परिजन गुब्बारे बेचकर गुजारा करते हैं. शुक्रवार की अहले सुबह जब वे ऐतिहासिक राजबाड़ा महल के सामने अपने परिवार के साथ खुले में सो रहे थे तभी गाडगे ने बगल में सो रही दुधमुंही बच्ची को कथित तौर पर अगवा कर लिया था. घटना इंदौर के राजबाड़ा इलाके की है.

सीसीटीवी फुटेज से हुआ खुलासा

bgnbm
मासूम बच्ची का शव

पुलिस ने बताया कि CCTV फुटेज से आरोपी की पहचान हुई, जिसमें वह कंधे पर बच्ची को उठाकर ले जाता हुआ दिखाई दिया. आरोपी और पीड़िता का परिवार गुब्बारे बेचने का काम करता है और रात में पूरा परिवार राजबाड़ा किले के मुख्य गेट के पास खुले में सोता है. पुलिस ने बताया कि शुक्रवार को तड़के करीब 4.45 बजे 25 वर्षीय सुनील भील मां-बाप के बीच सो रही 4 माह की बच्ची को उठाकर पास ही में श्रीनाथ पैलेस बिल्डिंग के बेसमेंट में ले गया. वहां उसने करीब 15 मिनट तक बच्ची के साथ रेप किया, फिर पटककर बच्ची की हत्या कर दी. सीसीटीवी फुटेज में 5 बजे के करीब वह अकेले ही लौटते भी दिख रहा है.

लापरवाही पर एएसआई निलंबित

पूरे मामले में पुलिस की लापरवाही सामने आयी है. शुक्रवार की सुबह जब बच्ची के परिजन बच्ची की गुमशुदगी का केस दर्ज कराने गए तो उन्हें दोपहर में आने के लिए कहा गया. जब बच्ची का शव मिला उसके बाद पुलिस ने केस दर्ज करने की जहमत उठायी. इस बीच परिजन 8 घंटे तक रोते-बिलखते रहे. जबकि घटनास्थल से पुलिस थाना महज कुछ सौ मीटर की दूरी पर है. पुलिस की लापरवाही यही नहीं खत्म हुई, बच्ची के शव की सूचना मिलने के भी करीब डेढ़ घंटे बाद टीम घटनास्थल पर पहुंची. हालांकि काम में लापरवाही और सूचना मिलने के बावजूद वरिष्ठ अधिकारियों को घटना की जानकारी न देने के लिए DIG ने सराफा थाने के एएसआई त्रिलोकचंद बरकड़े को सस्पेंड कर दिया है.

इसे भी पढ़ें:बिहार: पिता ने ही किया बेटी से रेप, पीड़िता ने की खुदकुशी, मामला दर्ज

एक दिन पहले हुआ था मां से झगड़ा

मिली जानकारी के मुताबिक, मासूम की मां के साथ आरोपी का एकदिन पहले ही झगड़ा हुआ था. दरअसल आरोपी की पत्नी उसे छोड़कर चली गई है. और वो बच्ची की मां से सुलह कराने की मध्यस्था करने को कह रहा था, जिसे लेकर विवाद बढ़ा. झगड़े को लेकर पुलिस ने आरोपी को दो-चार डंडे लगाकर छोड़ दिया था.

घटना से मन व्यथित है-शिवराज

इस वारदात पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा 'आज मन बहुत व्यथित है, इंदौर की घटना ने आत्मा को झकझोर दिया है. इतनी छोटी बच्ची के साथ ऐसा घिनौना कृत्य ! समाज को अपने अंदर झांकने की ज़रूरत है. प्रशासन ने त्वरित कार्रवाई करते हुए आरोपी को गिरफ़्तार किया है. हम सुनिश्चित करेंगे कि उसे जल्द से जल्द कड़ी से कड़ी सज़ा मिले.'

इसे भी पढ़ें:छत्तीसगढ़: माओवादियों की गोलीबारी में सीआरपीएफ अधिकारी शहीद

गौरतलब है कि पुलिस ने बच्ची के शव का पोस्टमार्टम एमवाई हॉस्पिटल में करवाया. रिपोर्ट में कहा गया कि, बच्ची के प्राइवेट पार्ट में जख्म के निशान हैं. साथ ही बच्ची के सिर पर गहरा जख्म है, जिसे डॉक्टर्स  ने मौत का कारण बताया है. डॉक्टर्स का कहना है कि बच्ची को जमीन पर जोर से पटका गया है, जिससे उसकी मौत हो गई.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.