नाबालिग रेप मामले में आसाराम को उम्रकैद, शिल्पी और शरतचंद्र को 20-20 साल की सजा

Publisher ADMIN DatePublished Wed, 04/25/2018 - 14:49

Jodhpur : नाबालिग दलित युवती से रेप के मामले में जोधपुर की विशेष अदालत ने आसाराम को उम्रकैद की सजा सुनाई है. एससी-एसटी कोर्ट के विशेष जज मधुसूदन शर्मा की अदालत ने नाबालिग से रेप के मामले में आसाराम को उम्रकैद की सजा सुनाई है. इसके अलावा उनके साथ सहअभियुक्त शिल्पी और शरतचंद्र को 20-20 साल कैद की सजा सुनाई गई है. सजा सुनाये जाने के बाद आसाराम भावुक होकर रो पड़े. 

मालूम हो कि पॉक्सो और एससी-एसटी एक्ट समेत 14 धाराओं में दोषी करार दिए गए आसाराम को 10 साल से लेकर उम्रकैद तक की सजा सुनाये जाने की बात की जा रही थी. सजा सुनाये जाने से पहले आसाराम के वकीलों ने उनकी उम्र का हवाला देकर उन्हें कम से कम सजा देने की वकालत की थी.

इसे भी पढ़ें - नाबालिग से रेप मामले में आसाराम सहित तीन दोषी करार, दो आरोपी हुए बरी

16 वर्षीय नाबालिग लड़की ने लगाया था रेप का आरोप

गौरतलब है कि आसाराम बापू राजस्थान की जोधपुर सेंट्रल जेल में लंबे अर्से से बंद है. बाबा ने कई बार कोर्ट से सुनवाई जल्द पूरी करने की गुहार लगाई है. ऐसे में उनकी मुराद पूरी होने ही वाली है, 25 अप्रैल को उनके भाग्य का फैसला हो जाएगा. कोर्ट अगर आसाराम के खिलाफ फैसला सुनाती है तो फर्जी बाबा को और जेल की हवा खानी पड़ सकती है. 16 वर्षीय नाबालिग पीड़िता ने आसाराम पर जोधपुर आश्रम में रेप का सनसनीखेज आरोप लगाया था. इस केस के सिलसिले में पुलिस ने आसाराम को इंदौर से गिरफ्तार किया था. जिसके बाद आसाराम को जोधपुर जेल में शिफ्ट कर दिया गया था. नाबालिग पीड़िता के सामने आने के बाद आसाराम पर आरोपों की झड़ी लग गयी थी. कई अन्य पीड़िताओं ने पुलिस में आसाराम के खिलाफ यौन उत्पीड़न की शिकायत की थी. 

इसे भी पढ़ें - नाबालिग रेप मामला : आसाराम बापू पर बुधवार को आएगा फैसला, जोधपुर की सीमा सील, धारा 144 लागू

जोधपुर में लगा धारा 144

दिल्ली समेत राजस्थान तक में फैसले के बाद कोई अव्यवस्था नहीं फैले इसके लिए दोनों राज्यों की सरकारों ने पुख्ता इंतजाम कर लिए हैं. दिल्ली पुलिस पूरी तरह से अलर्ट है वहींजोधपुर में भी धारा 144 लगा दी गई है. कहीं भी भीड़ के जमा होते ही ऐक्शन लिया जाएगा. दिल्ली पुलिस के अधिकारी यूपी और हरियाणा पुलिस से भी संपर्क बनाए हुए हैं. पुलिस लोकल इंटेलिजेंस के जरिए आसाराम के आश्रमों और उनके समर्थकों की गतिविधियों पर नजर रख रही है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.