15 अप्रैल को ‘दीन बचाओ देश बचाओ’ कॉन्फ्रेंस, आपसी सौहार्द बढ़ाना मकसद

Publisher NEWSWING DatePublished Sat, 04/14/2018 - 13:25

Patna:बिहार, झारखंड और ओडिशा के मुस्लिम संगठन 15 अप्रैल को पटना के गांधी मैदान में जुट रहे हैं. प्रख्यात संगठन इमारत-ए-शरिया, फुलवारी शरीफ, पटना की ओऱ से दीन बचाओ देश बचाओ कान्फ्रेंस का आयोजन गांधी मैदान में दोपहर एक बजे से अमीर-ए- शरीयत मौलाना मोहम्मद वली रहमानी की अध्यक्षता में किया है. दीन यानी धर्म धर्म बचाओ-देश बचाओ कॉन्फ्रेंस का मकसद आपसी भाईचारे, सौहार्द को बढ़ाना है. और ये एक गैर राजनीतिक कार्यक्रम होगा. ये जानकारी इमारत-ए-शरिया के नाजिम मौलाना अनिसुर रहमान कासमी ने शुक्रवार को प्रेसवार्ता कर दी.

इसे भी पढ़ें:आनेवाले दिनों में भारत में गहरा सकता है जल संकट, सैटेलाइट से मिले संकेत

कुछ लोग नफरत को दे रहे बढ़ावा

चंद सालों में देश के मुसलमानों को संविधान में मिले अधिकार को समाप्त करने की कोशीश की जा रही है. बेवजह मुसलमानों के शरई कानून में छेड़ छाड़ की कोशिश की जा रही है. लोगों में बेचैनी है और लोग यह सोचने पर मजबूर हो रहे हैं कि इस के बाद संविधान ने जो हमें अपने दीन और शरीयत पर चलने का अधिकार दिया है,  हमारे शैक्षिक संस्थान स्थापित करने की अनुमति दी है. कहीं न कहीं एक साजिश के तहत उस को मिटाने की कोशिश तेज़ हो गई है . कुछ लोग नफरत को बढ़ावा देने में लगे हुए हैं जो इस देश के लिए हानिकारक है. ऐसे हालत में इमारत शरियाह ने अपना ये फर्ज़ समझा कि इस के विरुद्ध आवाज़ उठाए.

इसे भी पढ़ें:बाबा साहेब आंबेडकर द्वारा 25 नवम्बर 1949 को संविधान सभा का काम पूरा होने पर दिये गये भाषण का अंश

आपसी भाईचारा बढ़ाना उद्देश्य

रविवार को पटना के गांधी मैदान में बड़ी संख्या में जुट रहे मुस्लिम विद्वानों की कॉन्फ्रेंस का उद्देश्य यह है कि जो लोग हिन्दू-मुस्लिम सौहार्द और आपसी भाईचारे के खिलाफ़ हैं उन्हें सचेत किया जाए. भारतीय संविधान की मर्यादा और गरिमा को बनाए रखा जाए,  धार्मिक उन्माद की राजनीति को समाप्त किया जाए, देश की गिरती आर्थिक स्थिति को सुधारा जाए, देश के विकास में जो बाधाएँ हैं उसे समाप्त किया जाए देश की तरक्की में जो रुकावटें आ रही हैं उन्हें समाप्त किया जाए हर हाथ को काम और देश के हर युवा को रोजगार दिया जाए.

इसे भी पढ़ें:अमेरीका ने फ्रांस, ब्रिटेन के साथ मिलकर किया सीरिया पर हमला, रुस ने परिणाम भुगतने की दी चेतावनी

इससे पहले तीन तलाक विधेयक के खिलाफ सड़क पर मुस्लिम महिलाएं उतरी थी. अब एकबार फिर बड़ी संख्या में मुस्लिम समाज के लोग जुटकर अपना विरोध दर्ज करायेंगे. देश के इतिहास में ये शायद पहला मौका होगा, जब मुस्लिम संगठनों को लग रहा है कि उनका दीन-धर्म खतरे में है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

हजारीबाग डीसी तबादला मामला : देखें कैसे बीजेपी के जिला अध्यक्ष कर रहे हैं कन्फर्म  

न्यूज विंग की खबर का असर :  फर्जी  शिक्षक नियुक्ति मामले में तत्कालीन डीएसई दोषी करार 

बिजली बिल के डिजिटल पेमेंट से मिलता है कैशबैक, JBVNL नहीं शुरू कर पायी है डिजिटल पेमेंट की व्यवस्था

स्वीकार है भाजपा प्रदेश अध्यक्ष की खुली बहस वाली चुनौती : योगेंद्र प्रताप

लाठी के बल पर जनता की भावनाओं से खेल रही सरकार, पांच को विपक्ष का झारखंड बंद : हेमंत सोरेन   

सुप्रीम कोर्ट का आदेश : नहीं घटायी जायेंगी एमजीएम कॉलेज जमशेदपुर की मेडिकल सीट

मैट्रिक व इंटर में ही हो गये 2 लाख से ज्यादा बच्चे फेल, अभी तो आर्ट्स का रिजल्ट आना बाकी  

बीजेपी के किस एमपी को मिलेगा टिकट, किसका होगा पत्ता साफ? RSS बनायेगा भाजपा सांसदों का रिपोर्ट कार्ड

आतंकियों की आयी शामतः सीजफायर खत्म, ऑपरेशन ऑलआउट में दो आतंकी ढेर- सर्च ऑपरेशन जारी

दिल्ली: अनशन पर बैठे मंत्री सत्येंद्र जैन की बिगड़ी तबियत, आधी रात को अस्पताल में भर्ती

भूमि अधिग्रहण पर आजसू का झामुमो पर बड़ा हमला, मांगा पांच सवालों का जवाब