पीएनबी के बाद अब ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स में 389 करोड़ का घोटाला, बैंक ने कहा- नीरव की तरह सभ्य सेठ भी भागे विदेश

Publisher NEWSWING DatePublished Sat, 02/24/2018 - 12:37

New Delhi:  पीएनबी में हुए 11,400 करोड़ के घोटाले के बाद एक और घोटाला उजागर हुआ है. सीबीआई ने दिल्ली के एक हीरा कारोबारी पर ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स से 389.85 करोड़ रुपये की कथित तौर पर ऋण धोखाधड़ी करने का मामला दर्ज किया है. सीबीआई ने कथित धोखाधड़ी के लिए द्वारका दास सेठ इंटरनेशनल लिमिटेड पर मामला दर्ज किया है. सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक की शिकायत के छह महीने बाद सीबीआई ने कंपनी के निदेशकों सभ्य सेठ, रीता सेठ, कृष्ण कुमार सिंह, रवि सिंह एवं एक अन्य कंपनी द्वारका दास सेठ एसईजेड इनकॉर्पोरेशन के खिलाफ मामला दर्ज किया है.द्वारका दास सेठ इंटरनैशनल कंपनी डायमंड, गोल्ड और सिल्वर ज्वेलरी मैन्युफैक्चरिंग और ट्रेडिंग का काम करती है. साथ ही इस कंपनी ओबीसी की ग्रेटर कैलाश-II की शाखा से 2007 में फॉरन लेटर ऑफ क्रेडिट, फॉरन हासिल करने के बाद ही कई तरह से लोन निकाला. कुंपनी की बागडोर सभ्य सेठ और रीता सेठ के पास है. जबकि कृष्ण कुमार सिंह के साथ ही रवि कुमार सिंह भी इस कंपनी से जुड़े हुए हैं.

इसे भी पढ़ें - 11,400 करोड़ का महाघोटाला करनेवाले बैंक PNB को तीन साल में मिले सतर्कता के तीन विजिलेंस एक्सलेंसी अवार्ड

इसे भी पढ़ें - PNB के मुंबई ब्रांच में 10 हजार करोड़ रुपये के फर्जीवाड़े का हुआ खुलासा

इस मामले में बैंक ने जांच में इस बात का दावा किया था कि , पिछले 10 महीनों से सभ्य सेठ और कंपनी के अन्य डायरेक्टर्स को उनके घर नहीं पाया गया है. इससे इस बात की आशंका बैंक ने जाहिर की है कि नीरव मोदी और विजय माल्या की तरह ही सभ्य सेठ भी भारत छोड़कर भाग चुके हैं.

गौरतलब है कि सरकारी क्षेत्र के बैंक ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स ने 16 अगस्त, 2017 को ही सीबीआई से द्वारका दास सेठ इंटरनैशनल के खिलाफ शिकायत दर्ज करवायी थी. इसके साथ ही बैंक ने दावा किया है कि द्वारका दास सेठ इंटरनैशनल ने लेटर ऑफ क्रेडिट के तहत ही और भी क्रेडिट फैसिलिटीज का लाभ उठाया है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

.

7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

भूमि अधिग्रहण पर आजसू का झामुमो पर बड़ा हमला, मांगा पांच सवालों का जवाब

सूचना आयोग में अब वीडियो कांफ्रेंसिंग से होगी सुनवाई, मोबाइल ऐप से पेश कर सकते हैं दस्तावेज

झारखंड को उद्योगपतियों के हाथों में गिरवी रखने की कोशिश है संशोधित बिल  :  हेमंत सोरेन

जम्मू-कश्मीर : रविवार से आतंकियों व अलगाववादियों के खिलाफ शुरु हो सकता है बड़ा अभियान

उरीमारी रोजगार कमिटी की दबंगई, महिला के साथ की मारपीट व छेड़खानी, पांच हजार नगद भी ले गए

विपक्ष सहित छोटे राजनीतिक दलों को समाप्त करना चाहती है केंद्र सरकार : आप

बॉडी गार्ड की चाहत में जिप अध्यक्ष ने खुद पर करवायी फायरिंग, पकड़े गए अपराधियों ने किया खुलासा

गोड्डा मॉब लिंचिंग : सांसद निशिकांत ने कहा प्रशासन ने सही किया या गलत पता नहीं, लेकिन केस लड़ने के लिए आरोपियों की करेंगे मदद

समय पर बिजली बिल नहीं मिला तो लगेगा 420 वोल्ट का झटका, जेबीवीएनएल को नहीं कोई फिकर

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में मानवाधिकार उल्लंघन पर मानवाधिकार परिषद लेगी फैसला : यूएन 

शुजात बुखारी को उनके पैतृक गांव में दफनाया गया, जनाजा में बड़ी संख्या में उमड़ी थी भीड़