Skip to content Skip to navigation

न्यूज विंग के जागरूक पाठक अपनी समस्या, अपने आस-पास हो रही अनियमितता की तस्वीर या कोई अन्य खबर फोटो के साथ वाहट्सएप नंबर - 8709221039 पर भेजे. हम उसे यहां प्रकाशित करेंगे.

तीरंदाजी का जुनून ऐसा चढ़ा कि सोनीपत से सिल्ली पहुंच गयी आयुषी, आर्चरी मैदान में घंटों बहा रही पसीना

News Wing Ranchi, 22 October: तीरंदाजी का जुनून उसपर ऐसा चढ़ा कि वो सोनीपत से झारखंड के सिल्ली खिंची चली आयी. तीरंदाजी सीखने के जुनून में व्यवसायी की 15 वर्षीय बेटी आयुषी कादियान सोनीपत से वाया बैंकाक सिल्ली पहुंच गयी है. रोहतक के सीजी इंटरनेशनल स्कूल की नौंवी क्लास की छात्रा आयुषी इन दिनों बिरसा मुंडा आर्चरी अकादमी के मैदान में घंटों पसीना बहा रही है. दरअसल बैंकॉक में आयोजित प्रिंसेस कप तीरंदाजी प्रतियोगिता के दौरान आयुषी और उनके पिता देवेन्द्र कादियान बिरसा मुंडा आर्चरी अकादमी के आर्चरों के व्यवहार और सादगी से प्रभावित हुए और अकादमी की अध्यक्ष नेहा महतो से संपर्क किया. इसके बाद आयुषी अपने माता-पिता के साथ सिल्ली पहुंची और अकादमी का जायजा लेने के बाद वापस चली गयी. एक पखवाड़े बाद आयुषी दोबारा सिल्ली पहुंच गयी. वह यहां पिछले तीन माह से रिकर्व स्पर्धा का प्रशिक्षण प्राप्त कर रही है.  

बिरसा मुंडा आर्चरी एकेडमी के खिलाड़ियों के प्रदर्शन से प्रभावित हुई आयुषी

नेहा महतो जब बिरसा मुंडा आर्चरी एकेडमी के टीम को लेकर प्रिंसेस कप में भाग लेने के लिये के जून में बैंकॉक गयी थी. उस समय इस अकेडमी के सिम्पी कुमारी को रजत मेडल मिला था, उसके साथ एक दिव्यांग बालिका भोंज सुण्डी को भी सिल्वर मैडल मिला था इसी प्रदर्शन को देखकर आयुषी के पिता ने नेहा महतो से मुलाकात करके अपने बेटी को सिल्ली के बिरसा आर्चरी अकेडमी में ट्रेनिंग के लिये आवेदन दिया. फिर कुछ समय बाद  उनके आवेदन को सुदेश महतो ने स्वीकार किया. आयुषी करीब ढाई महीने से हॉस्टल में रहकर प्रशिक्षण ले रही है. तीरंदाजी प्रशिक्षक ( प्रकाश राम) आयुषी कादियान को बिरसा मुंडा आर्चरी एकेडमी में सुबह शाम प्रशिक्षण देते हैं. उनका कहना है कि हमारे एकेडमी में कम से कम 100 तीरंदाज ट्रेनिंग लेते हैं. सभी का हम एक समान ख्याल रखते हैंऔर ट्रेनिंग देते है.  

क्रीड़ा सेंटर के प्रशिक्षुओं के साथ आयुषी सीख रही तीरंदाजी के गुर

स्कूली स्तर पर इंडियन राउंड की स्वर्ण पदक विजेता रही आयुषी अभी रिकर्व स्पर्धा में प्रशिक्षण प्राप्त कर रही हैं. उसके प्रशिक्षक प्रकाश राम के अनुसार पिछले दो-तीन माह में प्रदर्शन में काफी सुधार देखने का मिल रहा है. वह सारी अत्याधुनिक सुविधाओं को छोड़ सिल्ली स्थित राज्य सरकार के आवासीय क्रीड़ा सेंटर के प्रशिक्षुओं के साथ रहकर तीरंदाजी की बारिकियों को सीख रही है. अकादमी में आयुषी सबसे मिलजुल कर रहती है, लेकिन उसकी सबसे ज्यादा निकटता अंतरराष्ट्रीय तीरंदाज मधुमिता और सिंपी से है.

सिल्ली की आबोहवा में घुल-मिल गयी है आयुषी

बिरसा मुंडा आर्चरी अकादमी के प्रशिक्षुओं और प्रशिक्षकों ने आयुषी का खुले दिल से स्वागत किया. इसके कारण आयुषी को पिछले दो-तीन माह में यहां कोई दिक्कत नहीं हुई. अब आयुषी सिल्ली की आबोहवा में इस कदर घुलमिल गयी हैं, कि दीपावली की छुट्टियों में रोहतक में उसका मन नहीं लग रहा वो जल्द से जल्द सिल्ली वापस लौटना चाहती है. अकादमी की ओर से आयुषी के रहने और खाने की सुविधा निःशुल्क उपलब्ध करायी जा रही है.

प्रशिक्षुओं से मिलकर मिलती थी पॉजिटिव एनर्जीः देवेंद्र कादियान

आयुषी के पिता देवेन्द्र कादियान ने बताया कि बैंकाॅक में अकादमी के प्रशिक्षुओं से मिलकर जो पाॅजिटिव एनर्जी हमें मिली थी, उसे शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता. इसके बाद जब हम पहली बार सिल्ली पहुंचे तो हमें आशंका थी कि हमारी बेटी यहां कैसे रह पाएगी लेकिन, आयुषी तैयार थी और बेटी के तीरंदाजी के प्रति जुनून को देखते हुए हमने हामी भर दी. अब जब भी छुट्टियों में गुड़िया (आयुषी) आती है तो उसकी मुस्कुराहट सब कुछ बयां कर देती है. बेटी की खुशी में ही हमारी खुशी है. अगले साल हम अपने भांजे को भी अकादमी में डालेंगे.

जुनूनी खिलाड़ियों का खुले दिल से स्वागत : सुदेश महतो

बिरसा मुंडा आर्चरी अकादमी के संरक्षक सुदेश महतो ने  बताया कि आयुषी के पिता ने बैंकाॅक में हमसे संपर्क साधा था और आयुषी के जुनून को देखते हुए हमने हामी भरी थी, लेकिन परिवेश के अंतर को देखते हुए हमने उन्हें सिल्ली में मौजूद सुविधाओं का जायजा लेने का आग्रह किया था. वे सिल्ली पहुंचे और व्यवस्था से संतुष्ट दिखे. आयुषी का तीरंदाजी के प्रति जुनून और लगन का असर उसके प्रदर्शन में  भी देखने को मिल रहा है. ऐसे खिलाड़ियों के लिए अकादमी के द्वार हमेशा खुले हुए हैं. अकादमी में आने के बाद आयुषी के प्रदर्शन में लगातार सुधार हो रहा है, उसमें एक सफल तीरंदाज बनने की सभी खूबियां मौजूद हैं.

 

Top Story
City List: 
Share

Add new comment

loading...