Skip to content Skip to navigation

न्यूज विंग के जागरूक पाठक अपनी समस्या, अपने आस-पास हो रही अनियमितता की तस्वीर या कोई अन्य खबर फोटो के साथ वाहट्सएप नंबर - 8709221039 पर भेजे. हम उसे यहां प्रकाशित करेंगे.

प्रदेश महामंत्री को पत्रकार ने वार्ता के बीच में रोका, कहाः इतिहास हम भी जानते हैं, कुछ नया हो तो बताएं

Akshay Kumar Jha

Ranchi, 14 November: इसे स्थापना दिवस समारोह का साइड इफैक्ट ही कहेंगे. 15 नवंबर से पहले सूबे के हर विपक्षी पार्टियों ने बीजेपी को अपनी ताकत दिखाने की कोशिश की. लेकिन, किसमें कितना दम है यह भीड़ की शक्ल ने सबको समझा दिया. झामुमो की बात अगर छोड़ दें, तो बाकी विपक्षी पार्टियों का प्रदर्शन निराशाजनक ही रहा. इधर बीजेपी प्रदेश कार्यालय में भी रोजाना भीड़ हो रही है. ये भीड़ कार्यकर्ताओं की नहीं बल्कि पत्रकारों की हो रही है. बीते तीन दिनों में बैक-टू-बैक तीन प्रेस वार्ता का आयोजन बीजेपी कार्यालय में किया गया. लेकिन तीनों में पत्रकार बंधु बोर ही हुए. प्रेस वार्ता से पहले और प्रेस वार्ता खत्म होने तक पत्रकार सस्पेंस में ही रहते हैं कि अब कुछ नया कहा जाएगा. लेकिन, ना तो इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को मुकम्मल बाइट मिल पाती है और ना ही प्रिंट मीडिया को दमदार हेडिंग.

जब पत्रकार ने रोक दिया बीजेपी के प्रदेश महामंत्री को

रांची शहर के राजभवन के पास जब एक तरफ झामुमो अपनी पूरी ताकत झोंक रही थी. ठीक उसी वक्त बीजेपी के प्रदेश कार्यालय में बीजेपी के प्रदेश महामंत्री दीपक प्रकाश ने प्रेस वार्ता के लिए पत्रकारों को बुलाया था. वार्ता शुरू हुई. बात की शुरुआत 1912 से हुई. लगा कि थोड़ा इतिहास बता कर महोदय मुद्दे पर लौटेंगे. लेकिन करीब 10 मिनट तक कलम घिसने के बाद भी प्रदेश महामंत्री दीपक प्रकाश इतिहास पर ही प्रकाश डालते रहे. पहली बार सुनने वाले लोगों को शायद ये बातें अच्छी भी लगती. लेकिन, बीजेपी के हर मंच से एक तरह का भाषण और कई बार प्रेस वार्ता में बीजेपी और झामुमो का इतिहास सुन चुके पत्रकारों को नींद सी आने लगी. मेरे बगल में बैठे एक प्रतिष्ठित अखबार के पत्रकार ने दो से ज्यादा बार झपकी भी ली. क्योंकि उन्हें नींद टूटने जैसी कोई बात बीजेपी के प्रेस वार्ता में सुनाई ही नहीं दे रही थी. खैर, इसी बीच एक पुराने और जाने-माने पत्रकार ने अचानक से वरीय बीजेपी नेता को बोलने से रोक दिया. कहाः ऐसा है कि झामुमो और झारखंड का इतिहास हम भी जानते हैं. हम भी इन सारी चीजों के गवाह रह चुके हैं. अगर आपके पास प्रेस वार्ता के लिए कुछ नया है तो प्लीज उसे बताएं.

इसे भी पढ़ेंः झारखंड गठन का झूठा दावा करती है झामुमोः भाजपा

प्रदेश महामंत्री ने टाल दी बात, इतिहास पर ही खत्म हुई वार्ता

वरीय पत्रकार की बात सुनकर भी नेता जी से कुछ नया नहीं निकला. प्रदेश महामंत्री ने कहा कि शायद आप लोगों को कई जगहों पर कवरेज के लिए जाना होगा. इसलिए आपलोग जल्दी में हैं. इतना कहते हुए एक बार फिर से वार्ता शुरू हुई. कोई नयी बात फिर से सामने नहीं आयी. कैमरा बंद होने के बाद भी मिल रहे सवालों को महामंत्री जी टालते रहे.        

 

 

Slide
City List: 
Share

Add new comment

loading...