Skip to content Skip to navigation

न्यूज विंग के जागरूक पाठक अपनी समस्या, अपने आस-पास हो रही अनियमितता की तस्वीर या कोई अन्य खबर फोटो के साथ वाहट्सएप नंबर - 8709221039 पर भेजे. हम उसे यहां प्रकाशित करेंगे.

Add new comment

मेरीकॉम को एशियाई चैम्पियनशिप में पांचवां स्वर्ण

NEWS WING

Vietnam,8 November :
 भारतीय मुक्केबाजी की  वंडर गर्ल एम सी मेरीकॉम ( 48 किलो ) ने एशियाई मुक्केबाजी में पांचवीं बार स्वर्ण पदक अपने नाम कर लिया. जबकि सोनिया लाथेर (57 किलो ) को रजत पदक से ही संतोष करना पड़ा .पांच बार की विश्व चैम्पियन और ओलंपिक कांस्य पदक विजेता मेरीकाम ने उत्तर कोरिया की किम ह्यांग मि को 5 .0 से हराया.

2014 के बाद मेरीकॉम का पहला अंतरराष्ट्रीय स्वर्ण पदक

यह 2014 एशियाई खेलों के बाद मेरीकॉम का पहला अंतरराष्ट्रीय स्वर्ण पदक है और एक साल में उनका पहला पदक है .विश्व चैम्पियनशिप की रजत पदक विजेता सोनिया को रजत पदक से संतोष करना पड़ा .वह बंटे हुए फैसले में चीन की यिन जोन्हुआ से हार गई.भारत को इस टूर्नामेंट में एक स्वर्ण, एक रजत और पांच कांस्य पदक मिले .

मेरीकॉम ने जीत के साथ टूर्नामेंट में शानदार रिकार्ड बनाया

मेरीकॉम ने इस जीत के साथ टूर्नामेंट में अपना शानदार रिकार्ड बरकरार रखा है. वह छह बार फाइनल में पहुंची और बस एक बार रजत पदक से संतोष करना पड़ा. उन्होंने 2003, 2005, 2010 और 2012 में भी इसमें पीला तमगा जीता था. पैंतीस बरस की मेरीकॉम का सामना मि के रूप में सबसे आक्रामक प्रतिद्वंद्वी से था. लेकिन वह इस चुनौती के लिये तैयार थी. अब तक पहले तीन मिनट एक दूसरे को आंकने में जाते रहे थे, लेकिन इस मुकाबले में शुरूआती पलों से ही खेल आक्रामक रहा.

मेरीकॉम ने प्रतिद्वंद्वी के हर वार का माकूल जवाब दिया

मेरीकॉम ने अपनी प्रतिद्वंद्वी के हर वार का माकूल जवाब दिया. दोनों ओर से तेज पंच लगाये गए. मेरीकॉम उसके किसी भी वार से विचलित नहीं हुई और पूरे सब्र के साथ खेलते हुए जीत दर्ज की. दूसरी ओर सोनिया का मुकाबला काफी थकाने वाला था. जोन्हुआ ने संतुलित जवाबी हमले किये और अच्छे पंच भी लगाये.

भारतीय मुक्केबाजी महासंघ के अध्यक्ष ने की तारीफ

भारतीय मुक्केबाजी महासंघ के अध्यक्ष अजय सिंह ने भारतीय टीम खासकर मेरीकॉम की तारीफ की. उन्होंने कहा कि, मेरीकॉम का स्वर्ण भारत की महिला शक्ति की जीत है. तीन बच्चों की मां ने दिखा दिया कि मन में लगन हो तो कुछ भी हासिल किया जा सकता है. मैं पूरी टीम को बधाई देता हूं.

Top Story
Share
loading...