Skip to content Skip to navigation

न्यूज विंग के जागरूक पाठक अपनी समस्या, अपने आस-पास हो रही अनियमितता की तस्वीर या कोई अन्य खबर फोटो के साथ वाहट्सएप नंबर - 8709221039 पर भेजे. हम उसे यहां प्रकाशित करेंगे.

Add new comment

टैक्सास के चर्च में बंदूकधारी ने की गोलीबारी, 26 की मौत

News Wing

Huston, 06 November : कोर्ट मार्शल की कार्रवाई का सामना कर चुके एक पूर्व अमेरिकी वायुसेना कर्मी ने टेक्सास के एक ग्रामीण चर्च में कल प्रार्थना के दौरान श्रद्धालुओं पर अपनी राइफल से अंधाधुंध गोलियां चलाईं जिसमें कम से कम 26 लोगों की मौत हो गई. साथ ही 20 अन्य घायल हो गये. बंदूकधारी द्वारा नरसंहार की यह ताजा घटना है.

अधिकारियों ने कहा कि काले रंग के कपड़े पहने संदिग्ध ने सदरलैंड स्प्रिंग्स के पहले बैप्टिस्ट चर्च में घुसकर रविवार की सुबह प्रार्थना शुरू होने के तुरंत बाद अपनी हमलावर राइफल से गोलियां बरसाना शुरू कर दिया. हताहतों की उम्र पांच से 72 वर्ष के बीच है. मृतकों में कई बच्चे, एक गर्भवती महिला एवं पादरी की 14 साल की बेटी शामिल है. टेक्सास के गवर्नर ग्रेग एबोट ने इस गोलीबारी को प्रांत के इतिहास की ‘‘सबसे बड़े नरसंहार वाली गोलीबारी’’ बताया और कहा कि प्रांत में झंडे आधे झुक रहेंगे.

हथियारों से लैस श्वेत नागरिक

अधिकारियों ने पुष्टि की कि चर्च में गोलीबारी करने वाले की उम्र 20 से 30 वर्ष के बीच है और वह हथियारों से लैस श्वेत व्यक्ति था. हालांकि अधिकारियों ने उसका नाम नहीं बताया. लेकिन मीडिया ने बंदूकधारी की पहचान डेविन पैट्रिक केली (26) के रूप में की है जो 2014 में अमेरिकी वायु सेना से निष्कासित हुआ था. पुलिस ने कहा कि बंदूकधारी ने अपने वाहन में सड़क पार की और बाहर निकलकर अपनी राइफल से गोलियां चलाने लगा. वह चर्च के दाहिनी तरफ आगे बढा और गोली चलाते हुए इमारत के अंदर घुसा.



बाहर निकलने पर उसका सामना एक स्थानीय निवासी से हुआ जिसने उसकी राइफल छीन ली और उस पर गोलियां चलाने लगा. इसके बाद स्थानीय व्यक्ति ने बंदूकधारी का पीछा किया जो अपने वाहन में मौके से फरार हो गया.

बंदूकधारी अपने वाहन के अंदर मृत मिला

बंदूकधारी अपने वाहन के अंदर मृत मिला. अधिकारी यह पता करने में जुटे हैं कि बंदूकधारी की मौत खुद को पहुंचाई चोट से हुई या स्थानीय व्यक्ति के हमले से हुई.



टेक्सास के लोक सुरक्षा विभाग ने कहा कि बंदूकधारी की मौत की सटीक परिस्थितियों की जांच जारी है. सैन एंटोनियो की एफबीआई शाखा ने कहा कि बंदूकधारी की मंशा स्पष्ट नहीं है. वायु सेना की प्रवक्ता एन स्टैफानेक ने कहा कि केली का 2012 में अपनी पत्नी तथा बच्चों पर हमला करने के लिए कोर्ट मार्शल हुआ था. उसने एक साल जेल में बिताया. वायु सेना में उसकी रैंक भी कम कर दी गई थी. 

एशियाई दौरे के तहत जापान में मौजूद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने नरसंहार के मृतकों के प्रति संवेदना जाहिर की और गवर्नर एबॉट से बात की. उन्होंने कहा, ‘‘यह भयावह और दुष्ट कृत्य उस समय हुआ जब लोग अपने परिवारों के साथ प्रार्थना के लिए पवित्र स्थल पर थे. हम उस दर्द एवं दुख को शब्दों में बयां नहीं कर सकते, जिसे हम महसूस कर रहे हैं और न ही उन लोगों की पीड़ा का अंदाजा लगा सकते हैं, जिन्होंने अपने प्रिय लोग खोए हैं.’ ट्रंप ने कहा, ‘‘ऐसे दुखद समय में, अमेरिकी वह करेंगे, जिसे वे बखूबी करते हैं..हम एकजुट होंगे. एक दूसरे का हाथ थामेंगे और आंसुओं एवं दुख के बीच हम मजबूती से खड़े हैं.’’ उन्होंने कहा कि उनका प्रशासन राज्य और स्थानीय अधिकारियों को इस भयावह अपराध की जांच में पूरा सहयोग कर रहा है.



गोलीबारी के पीड़ितों को तत्काल सहायता

ट्रंप ने कहा, ‘‘मैंने गवर्नर एबॉट से बात की है और हमने सबसे पहले मदद के लिए आगे आने वालों का शुक्रिया अदा किया है जिन्होंने संदिग्ध को रोका और गोलीबारी के पीड़ितों को तत्काल सहायता प्रदान की. मैं आगे भी मामले पर करीबी नजर बनाए रखूंगा.’’ अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘सभी अमेरिकी ईश्वर से घायलों और उनके परिवारों के लिए दुआएं कर रहे हैं. हम कभी उनका साथ नहीं छोड़ेंगे.’’ ट्रंप लगातार टेक्सास के अधिकारियों और अन्य संघीय अधिकारियों के साथ संपर्क में हैं.



इस गोलीबारी के बाद बंदूकों पर नियंत्रण से जुड़े एक सवाल का जवाब देते हुये ट्रंप ने कहा कि बंदूकधारी को ‘‘मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्या’’ थी और यह ‘‘बंदूकों की स्थिति से संबंधित नहीं है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘शुरुआती रिपोर्ट यह दर्शाती है कि वह एक बेहद व्यथित व्यक्ति था जिसे काफी लंबे समय से समस्या थी. हमारे देश में मानसिक स्वास्थ्य संबंधी काफी समस्यायें हैं.’’ ट्रंप ने कहा कि गनीमत है कि वहां मौजूद एक अन्य शख्स के पास बंदूक थी, अन्यथा ‘‘स्थिति और खराब होती.’’

Lead
Share
loading...