Skip to content Skip to navigation

Add new comment

'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' के पोस्टर में अलगाववादी नेता की तस्वीर, CDPO सस्‍पेंड

News Wing Srinagar, 12 October: जम्मू कश्मीर सरकार ने 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ के पोस्टर में अलगाववादी नेता आसिया अंद्राबी की तस्वीर छपने के मामले की जांच के आदेश दिए हैं. 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' के पोस्टर में दुख्तारन-ए-मिल्लत की नेता आसिया की तस्वीर छापी गई थी. इस पोस्टर में आसिया के अलावा जम्मू एवं कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती, पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी, नोबेल पुरस्कार विजेता मदर टेरेसा और पुडुचेरी की उपराज्यपाल किरण बेदी की तस्वीर भी लगी है. पोस्टर पर मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और अन्य महिला हस्तियों के साथ अलगावादी नेता आशिया अंद्राबी की तस्वीर छपे होने के मामले में अनंतनाग जिले के ब्रेंग ब्लॉक के बाल विकास परियोजना अधिकारी को निलंबित कर दिया गया है.

बालिका शिक्षा को प्रोत्साहित करने के लिए लगाया गया था पोस्टर

कोकेरनाग में बालिका शिक्षा को प्रोत्साहित करने के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में यह पोस्टर लगाया गया था, लेकिन देश की महिला हस्तियों की तस्वीरों वाला यह पोस्टर एक अलगाववादी नेता की तस्वीर के कारण जम्मू-कश्मीर सरकार के लिए शर्मिंदगी का सबब बन गया है. इस पोस्टर में टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा, सुर साम्राज्ञी लता मंगेशकर और पुडुचेरी की उपराज्यपाल किरन बेदी आदि की भी तस्वीरें हैं.

जम्मू-कश्मीर को पाकिस्तान में मिलाने की बात करती है आसिया अंद्राबी 

जन सुरक्षा कानून के तहत आसिया अंद्राबी की हिरासत में लिया गया है. वह अंद्राबी दुखतरान-ए-मिल्लत नाम की संस्था की प्रमुख है. यह संगठन खुले तौर पर जम्मू-कश्मीर को पाकिस्तान में मिलाने की बात करता है. अंद्राबी के खिलाफ पाकिस्तान के स्वतंत्रता दिवस और पाकिस्तान के राष्ट्रीय दिवस 14 अगस्त और 23 मार्च को पाकिस्तानी झंडा फहराने सहित अन्य मामले दर्ज हैं.

भाजपा-पीडीपी सरकार की नई प्रतीक आशिया अंद्राबीः कांग्रेस

तस्वीर पर सवाल उठाते हुए कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने टि्वटर पर पोस्ट किया है. उन्होंने लिखा है- भाजपा-पीडीपी सरकार की नई प्रतीक आशिया अंद्राबी है, जो मुंबई आतंकवादी हमले के मास्टर माइंड हाफिज सईद के साथ मंच साझा करती है. सुरजेवाला ने यह भी लिखा है मोदी सरकार की टीवी स्टुडियो में चलने वाली लड़ाइयां राष्ट्रीय सुरक्षा को कमजोर बना रही हैं. ''क्या भाजपा में इसका जवाब देने की हिम्मत है?''

Top Story
Share
loading...