Skip to content Skip to navigation

न्यूज विंग के जागरूक पाठक अपनी समस्या, अपने आस-पास हो रही अनियमितता की तस्वीर या कोई अन्य खबर फोटो के साथ वाहट्सएप नंबर - 8709221039 पर भेजे. हम उसे यहां प्रकाशित करेंगे.

चार्टबस्टर बना रेलवे अधिकारी का लिखा गीत

News Wing

Lucknow, 09 November: ‘फन का कोई दायरा नहीं होता’ इस बात को सही साबित करते हुए रेलवे के एक अधिकारी का लिखा एक गीत इन दिनों लोगों की जुबान पर चढ़ा हुआ है. शुक्रवार को रिलीज होने वाली राजकुमार राव अभिनीत फिल्म ‘शादी में जरूर आना’ के इस गीत को ‘यूट्यूब’ पर अब तक करीब 35 लाख ‘हिट’ मिल चुके हैं.

गौरव कृष्ण बंसल ने लिखा है गाना

उत्तर मध्य रेलवे (एनसीआर)-इलाहाबाद के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी गौरव कृष्ण बंसल ने आज ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि रत्ना सिन्हा द्वारा निर्देशित फिल्म ‘शादी में जरूर आना’ के लिये उन्होंने ‘ठुकरा के दिल मेरा इंतेकाम देखेगी’ गीत लिखा है. 30 अक्तूबर को रिलीज हुए इस गाने को यूट्यूब पर अब तक करीब 35 लाख ‘हिट्स’ मिले हैं.

रत्ना और विनोद को फिल्म के लिए गीत लिखने की ख्वाहिश जाहिर की थी बंसल ने 

वर्ष 2000 बैच के आईआरटीएस अधिकारी बंसल ने बताया, ‘‘मेरे लिखे इस गीत को इतना ज्यादा पसंद किया जा रहा है. इससे मेरा उत्साह बढ़ा है. ऐसा लगता है कि मैं ‘सीक्रेट सुपरस्टार’ बन गया हूं.’’ रेलवे के एक अधिकारी का बॉलीवुड गीत लिखने का इत्तेफाक कैसे पेश आया, इस सवाल पर बंसल ने बताया कि इलाहाबाद उत्तर मध्य जोन सांस्कृतिक केन्द्र में फिल्म की शूटिंग के दौरान उन्होंने फिल्म के निर्माता विनोद बच्चन और निर्देशक रत्ना सिन्हा से मुलाकात की थी. बंसल ने बताया कि उन्होंने फिल्म का एक गीत लिखने की ख्वाहिश जताते हुए रत्ना और विनोद को अपनी कुछ कविताएं सुनायीं. इस पर उन्होंने एक कविता को अपनी फिल्म का गीत बनाने का फैसला कर लिया. इस गीत को आनन्द और कृष्णा बेउरा ने अपनी आवाज दी है.

मुझे शुरू से ही लिखने और कविताएं रचने का शौक था: बंसल

उन्होंने बताया कि राजकुमार राव और कृति खरबंदा की मुख्य भूमिकाओं वाली इस फिल्म के दोनों मुख्य किरदार उत्तर प्रदेश के हैं. इनमें से नायक इलाहाबाद का जबकि नायिका कानपुर की है लिहाजा इन दोनों ही शहरों में फिल्म की शूटिंग की गयी है. बंसल ने बताया कि उन्हें शुरू से ही लिखने और कविताएं रचने का शौक था और रेलवे की नौकरी भी उनके इस शगल में कभी बाधा नहीं बनी. उनकी पत्नी हमेशा चाहती थीं कि वह फिल्मों में भी गीत लिखें लेकिन नौकरी के बंधन की वजह से वह मुम्बई जाकर संघर्ष नहीं कर सकते थे. 

बंसल अक्सर कवि सम्मेलनों में शिरकत करते हैं और गोपाल दास नीरज, अशोक चक्रधर और सुरेन्द्र शर्मा जैसे कवियों के साथ मंच साझा कर चुके हैं.

Lead
Share

Add new comment

loading...