Skip to content Skip to navigation

सुप्रीम कोर्ट ने पद्मावती के आपत्तिजनक दृश्य हटाने की याचिका ठुकराई

News Wing

New Delhi, 20 November: सुप्रीम कोर्ट ने फिल्म ‘पद्मावती’ से कुछ कथित आपत्तिजनक दृश्य हटाने के लिये दायर याचिका खारिज कर दी. प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर और न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड की तीन सदस्यीय खंडपीठ को सूचित किया गया कि इस फिल्म को अभी तक केन्द्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड से प्रमाण पत्र नहीं मिला है. इस पर पीठ ने कहा, इस याचिका में हमारे हस्तक्षेप का मतलब पहले ही राय बनाना होगा जो हम करने के पक्ष में नहीं है.

यह भी पढ़ें: रानी पद्मावती और अलाउद्दीन खिलजी के बीच कोई ड्रीम सिक्वेंस नहींः भंसाली

यह भी पढ़ें: पद्मावती का एक दिसम्‍बर को रिलीज होना शांति व्‍यवस्‍था के हित में नहीं : उप्र सरकार

कुछ दृश्यों को फिल्म के प्रदर्शन से पहले हटाने का निर्देश देने का अनुरोध

यह याचिका अधिवक्ता मनोहर लाल शर्मा ने दायर की थी. उन्होंने आरोप लगाया कि सेन्सर बोर्ड ने इस फिल्म को प्रमाण पत्र नहीं दिया है लेकिन इसके गीत पहले ही जारी किये जा चुके हैं. शर्मा ने रानी पद्मावती के चरित्र का कथित हनन करने वाले सारे दृश्यों को फिल्म के प्रदर्शन से पहले हटाने का निर्देश देने अनुरोध कया था.

यह भी पढ़ें: फिर मुश्किल में फंसी 'पद्मावती'

यह भी पढ़ें: पद्मावती विवाद : एक दिसंबर को करणी सेना का भारत बंद, सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष ने कहा फिल्म नहीं देखी

वायकाम 18 ने कहा था कि फिल्म का प्रदर्शन स्थगित कर दिया गया है

दीपिका पादुकोण, रणवीर सिंह और शाहिद कपूर अभिनीत इस फिल्म के निर्माता वायकाम 18 ने कहा था कि फिल्म का प्रदर्शन स्थगित कर दिया गया है. फिल्म एक दिसंबर को प्रदर्शित होने वाली थी.

यह भी पढ़ें:पद्मावती विवाद: शबाना आजमी का बड़ा बयान, कहा मोदी सरकार में चल रही सबकी दुकान

 

Lead
Share

Add new comment

loading...