Skip to content Skip to navigation

रांची के एस्ट्रोटर्फ हॉकी स्टेडियम में निशुल्क प्रैक्टिस करते हैं गरीब स्टूडेंट्स

NEWSWING

Ranchi, 13 October : रांची के एस्ट्रोटर्फ हॉकी स्टेडियम को अंतर्राष्ट्रीय लेबल का स्टेडियम माना जाता है. वर्तमान में इस ग्राउंड पर साईं की हॉकी टीम, बरियातू स्कूल के स्टुडेंट्स और पुलिस टीम के खिलाड़ी प्रैक्टिस करते हैं. यहां किसी प्रकार की कोई फीस नहीं लगती है. इस स्टेडियम में तीन कोच की गाइड लाइन में खिलाड़ियों को प्रैक्टिस करायी जाती है. महिला खिलाड़ियों को भी यहां प्रशिक्षण दिया जाता है. फूलकेरिया नाग और करुणा कुमारी महिला खिलाड़ियों को प्रशिक्षण देती हैं. वहीं वी महापात्रा पुरुष खिलाड़ियों को प्रशिक्षित करते हैं.

ऑस्ट्रेलिया के पोलिग्रास से तैयार हुआ है मैदान

स्टेडियम के मैदान को ऑस्ट्रेलिया से मंगाये गये पोलिग्रास से तैयार किया गया है. इस वजह से खिलाड़ियों को प्रैक्टिक्स करने में दिक्कत नहीं होती है. 2013 से ही अंतर्राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी इस मैदान पर अपनी जौहर दिखा चुके हैं. इस मैदान पर हर वर्ष एक हॉकी इंडिया लीग (एचआईएल) का आयोजन होता है. जिसमें रास्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी भाग लेते हैं.

एक साथ पांच हजार लोग देख सकते हैं मैच

यह एस्ट्रोटर्फ हॉकी स्टेडियम इंटरनेशनल स्तर का है. इस समय सभी इंटरनेशनल स्तर के हॉकी स्टेडियम में पॉलीग्रास लगाया जा रहा है. वहीं इस स्टेडियम में खिलाड़ियों को अन्य सुविधाओं के साथ चेंजिंग रूम की भी सुविधा मिलेगी. इसके अलावा दर्शक दीर्घा भी लगभग बन कर तैयार है. इसमें लगभग पांच हजार लोगों के बैठने की क्षमता है.

साईं सेंटर के स्टूडेंट्स को यहां प्रैकटिस करने में आता है मजा

साईं सेंटर के हॉस्टल में रहने वाले स्टूडेंट्स इस मैदान से बेहद खुश रहते हैं. उन्हें यहां प्रैक्टिस करने में अधिक मजा आता है. गरीब तबके के छात्र-छात्राएं हॉस्टल में रहकर हॉकी का प्रैक्टिस करते है. साथ ही पढाई भी जारी रखते हैं. इन लोगों को सभी साधन निशुल्क उपलब्ध कराया जाता है. स्कूल और कॉलेज की फीस साईं सेंटर की ओर से दिया जाता है.

यहां के स्टूडेंट्स की क्या है स्थिति

साईं कोचिंग के छात्र संदीप टोप्पो सिमडेगा के रहने वाले हैं. इनके पिता किसान हैं और इनकी घर की माली हालत बिल्कुल ही ठीक नहीं है. सिमडेगा हॉकी सेंटर ने संदीप को साईं सेंटर में ट्रेनिंग के लिये भेजा गया. संदीप के अच्छे प्रदर्शन से उनका चयन राष्ट्रीय सब जूनियर हॉकी टीम में हो गया. संदीप मध्यप्रदेश के खिलाफ खेल चुके है. संदीप का कहना है कि स्टेडियम में सारी सुविधाएं निशुल्क हैं जिससे उन्हें काफी लाभ मिलता है.

विजय खेस भी सिमडेगा के निवासी हैं और अत्यंत गरीब परिवार से आते हैं. इनके पिता भी कृषि पर ही निर्धारित रहते हैं. विजय तीसरी क्लास से ही हॉकी का प्रैक्टिस अपने गांव में करते थे. स्कूल में अच्छा प्रदर्शन करते हुए इनका सेलेक्शन साईं हॉकी सेंटर के लिये हो गया. हॉस्टल में रहकर पढ़ाई के साथ एस्ट्रोटर्फ हॉकी स्टेडियम में सुबह और शाम दोनों समय प्रैक्टिस करते हैं. विजय भी राष्ट्रीय मैच खेल चुके हैं.

हॉकी खिलाड़ी सीमा कुमारी ने अपनी पढ़ाई के साथ हॉकी पर अधिक ध्यान देती हैं. सीमा गर रोज तीन से चार घंटे प्रैक्टिस और वार्मअप करती हैं. उन्होंने कहा कि वो अंसुता लकड़ा के तरह बनना चाहती हैं. सीमा फुलकेरिया नाग से प्रशिक्षण पा कर प्रखंड और राज्य स्तर तक हॉकी मैच खेल चुकी हैं. सीमा हमेशा बेहतर करने की कोशिश करती है.

सिमडेगा की रहने वाली अनिशा कुमारी के माता-पिता बहुत ही गरीब हैं. उन्होंने बताया कि उनके पिता अपने खेतों में सब्जी उगा कर जीवनयापन करते हैं. अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी बन कर अपने माता-पिता का नाम रौशन करना ही अनिशा का सपना है. अनिशा बताती हैं कि छुट्टियों में भी घर नहीं जाती और प्रैक्टिस करती हैं.

 

Lead
City List: 
Share

Add new comment

UTTAR PRADESH

News WingGajipur, 21 October : उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में मोटरसाइकिल पर आए हमलावरों ने राष्ट्रीय स्...
News Wing Uttar Pradesh, 20 October: धनारी थानाक्षेत्र में पुलिस के साथ मुठभेड़ में एक इनामी बदमाश औ...
Website Designed Developed & Maintained by   © NEWSWING | Contact Us