aq

 

TODAY'S NW TOP NEWS

त्रिपुरा में 18 फरवरी को जबकि मेघालय और नगालैंड में 3 मार्च को होंगे विधानसभा चुनाव

Submitted by NEWSWING on Thu, 01/18/2018 - 13:13

New Delhi: तीन उत्तरपूर्वी राज्यों मेघालय, त्रिपुरा, नागालैंड में विधानसभा चुनावों की तारीखों का ऐलान चुनाव आयोग ने कर दिया है. मुख्य चुनाव आयुक्त ए के जोती ने चु

हेमंत ने कहा "अध्यक्ष तो भीष्म पितामह बन जाते हैं", तो प्रदीप यादव ने कहा "विधायक CM और CS की चापलूसी कर रहे हैं"

Submitted by NEWSWING on Thu, 01/18/2018 - 13:02

Ranchi : सदन का दूसरा दिन भी हंगामेदार रहा. मुख्य सचिव राजबाला वर्मा और डीजीपी डीके पांडेय को पदमुक्त कराने की मांग को लेकर सदन नहीं चलने दिया गया. करीब 12 बजे विधानसभा अध्यक्ष दिनेश उरांव ने सदन को भोजन अवकाश यानि दो बजे तक के लिए निलंबित कर दिया. इस बीच कई ऐसी चीजें हुई जो देखने लायक थी.

भूषण सिंह हत्याकांड में तोरपा विधायक पौलुस सुरीन फरार, नहीं आ रहे विधानसभा

Submitted by NEWSWING on Thu, 01/18/2018 - 12:42

- पुलिस के एसपीओ थे भूषण सिंह

Khunti: खूंटी के तोरपा विधानसभा क्षेत्र से झामुमो के विधायक पौलुस सुरीन  विधानसभा सत्र में हिस्सा नहीं रहे हैं. पता चला है कि पोलूष सुरीन गिरफ्तारी के डर से विधानसभा नहीं आ रहें हैं. सूत्रों के मुताबिक कर्रा के भूषण सिंह हत्याकांड में हाईकोर्ट से पौलुस सुरीन  का बेल रिजेक्ट हो गया है. जिसके बाद पुलिस रिकॉर्ड में वह वांटेड हो गए हैं.

घाघरा: तुसगांव जनता दरबार में छलका ग्रामीणों का गुस्सा, अपने गांवों में नेताओं के प्रवेश पर लगायी रोक

Submitted by NEWSWING on Thu, 01/18/2018 - 12:33
प्रशासन द्वारा घाघरा के तुसगांव में लगाये गये जनता दरबार में, उपस्थित लोगों का सरकार के प्रति आक्रोश साफ दिखा. सरकार के प्रति अपना आक्रोश दिखाते हुए उपस्थित लोगों ने कहा कि अब वे अपने गांव में सांसदों और विधायकों के घुसने नहीं देंगे. दरअस्ल ये ग्रामीण अपने गांव में हो रहे विकास कार्यों और जनोपयोगी योजनाओं की अनदेखी किये जाने से आक्रोशित हैं. ग्रामीणों ने आगामी चुनावों में वोट बहिष्कार का भी आह्वान किया है. मामला घाघरा प्रखंड के दीरगांव व विमरला पंचायत के गांवों का है.

लातेहार : पुलिस और जेजेएसपी में हुए मुठभेड़ में कुख्यात उग्रवादी गुड्डू यादव ढ़ेर, इलाके में सर्च अभियान जारी (देखें वीडियो)    

Submitted by NEWSWING on Thu, 01/18/2018 - 11:43

Latehar : जिले में पुलिस और जेजेएमपी के बीच सदर थाना क्षेत्र के जेर पहाड़ी पर भीषण मुठभेड़ हुई. इस मुठभेड़ में जेजेएमपी का कुख्यात उग्रवादी गुड्डू यादव मारा गया. घटनास्थल से पुलिस ने कई हथियार समेत अन्य सामानों को बरामद किया है. मुठभेड़ में मारा गया उग्रवादी गुड्डू यादव मनिका थाना के कुई गांव का रहनेवाला था.

अरुप चटर्जी का पलटवार, ढुलू महतो को बताया धनबाद का सबसे बड़ा माफिया

Submitted by NEWSWING on Thu, 01/18/2018 - 10:31

Dhanbad: ढुलू महतो के बयान से आहत निरसा के विधायक अरुप चटर्जी ने पलटवार करते हुए बाघमारा के विधायक ढुलू महतो को धनबाद का सबसे बड़ा माफिया बताया है. ढुलू महतो पर कोयला करोबारियों से वसूली का आरोप लगाते हुए अरुप चटर्जी ने कहा है कि विधायक ढुलू रंगदारी का रेट और क्षेत्र बढ़ाने के लिए मजदूरों के नाम पर आंदोलन को बदनाम कर रहे हैं. आंदोलन के नाम पर वह लोगों को गुमराह कर रहे हैं.

पब्लिक प्लेस में शराब पीना पड़ेगा महंगा, सख्त नियमावली को सीएम की मिली मंजूरी, जानें क्या होंगे नये नियम

Submitted by NEWSWING on Thu, 01/18/2018 - 09:50

Ranchi: अवैध शराब का कारोबार करना या पब्लिक प्लेस पर शराब पीना, हल्ला हंगामा करना अब बहुत महंगा पड़ सकता है. क्योंकि इससे संबंधित नियमावली सरकार जल्द ही लानेवाली है. सीएम ने इसके लिए अपनी रजामंदी दे दी है जिसे अब कैबिनेट में मंजूर किया जाना है, जिसके बाद विधानसभा द्वारा इसे पास किया जायगा और विधानसभा में पास होने के बाद यह कानूनी रूप से पूरे राज्य में प्रभावी होगा.

बुंडू के 320 लाभुकों के आधार नंबर सार्वजनिक किये जाने को लेकर गरमायेगा बजट सत्र

Submitted by NEWSWING on Thu, 01/18/2018 - 09:32

Ranchi : क्‍या आप बुंडू के हैं. यह सवाल आजकल लोग तब करते हैं जब कोई शख्‍स बेवकूफी भरा काम करता है. वहीं आज के दिन झारखंड विधान सभा के बजट सत्र में बुंडू का नाम खूब गूंजेगा. क्योंकि बुंडू में सरकारी गड़बडियों के लिए विपक्ष सरकार पर सवालों के बौछार करेगा. एक ओर बुंडू में एक जमीन आवंटन पर मंत्री सरयू राय ने सवाल खड़ा किये हैं, वहीं दूसरी ओर बुंडू के 320 लाभुकों का आधार नंबर झारखंड सरकार के वेबसाइट पर सार्वजनिक करने का मामला सामने आया है.

डायन-बिसाही मामलों की रोकथाम के लिए हर साल बढ़ रहा बजट, लेकिन कम नहीं हो रहीं घटनाएं

Submitted by NEWSWING on Wed, 01/17/2018 - 20:02
Subhash Shekhar, Ranchi: आज हम डिजिटल इंडिया की बात कर रहे हैं. शहर-शहर और गांव-गांव लोगों के पास स्‍मार्टफोन और इंटरनेट पहुंच रहा है, वहीं दूसरी ओर झारखंड में अंधविश्‍वास की जड़ें खत्‍म लेने का नाम नहीं ले रही हैं. झारखंड सरकार के समाज कल्‍याण विभाग ने पिछले वित्तीय वर्ष में डायन बिसाही और महिला हिंसा के खिलाफ जागरूकता कार्यक्रम के लिए करीब चार करोड़ रूपये खर्च कर दिये. जानकारी के मुताबिक आगामी वित्तीय वर्ष में यह बजट करीब 10 प्रतिशत बढ़ेगा. बावजूद इसके झारखंड में डायन बिसाही के नाम पर हो रही हत्‍याओं पर नकेल कसने में सरकार नाकाम रही है.

क्या झूठ बोल रहे हैं हेमंत, या सच में उनकी सरकार पर हावी थी IAS लॉबी ?

Submitted by NEWSWING on Wed, 01/17/2018 - 18:47
हेमंत ने कहा मेरे कार्यकाल में मुझे आईएएस राजबाला वर्मा की जानकारी अधिकारियों ने नहीं दी. Akshay Kumar Jha Ranchi: राज्य में विकास कितना हुआ ? किस विधानसभा में क्या गड़बड़ी है ? सूबे की जनता किस वजह से परेशान है ? किसानों का, व्यापारियों का, शिक्षकों का, शिक्षा की, चिकित्सा की, उद्योग का राज्य में क्या हाल है. इस बात की चिंता किसी को नहीं है. ऐसा विधानसभा सत्र में उठे मुद्दों को देख कर अंदाजा लगाया जा रहा है. फिलवक्त मुद्दा बना हुआ है सीएम के दोनों सिपहसलार सीएस राजबाला वर्मा और डीजीपी डीके पांडे पर कार्रवाई का. मामले पर विपक्ष ने अपना रुख साफ कर दिया है. सीधा संकेत दे दिया है कि अगर दोनों अधिकारियों पर कार्रवाई नहीं होती है तो वो सदन को नहीं चलने देंगे. वहीं सरकार ने भी स्टैंड ले लिया है. संसदीय कार्यमंत्री सरयू राय ने साफ कर दिया है कि सरकार पर शर्तों को थोपा नहीं जाना चाहिए. सरकार की तरफ से ये भी कहा जा रहा कि रघुवर सरकार ने तो राजबाला वर्मा को नोटिस भी दिया, लेकिन पिछले सरकारों ने तो इतना करने की जहमत भी नहीं उठायी. इस पर नेता प्रतिपक्ष ने मीडिया के सामने जो बयान दिया है. वो चौंकाने वाला ही नहीं, बल्कि कई सवाल खड़े करता है.

दुमका: राज्य सरकार का खजाना खाली! स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों को समय पर नहीं किया जा रहा वेतन का भुगतान

Submitted by NEWSWING on Wed, 01/17/2018 - 12:22

Dumka: दुमका जिले के चिकित्सा एवं जन स्वास्थ्य कर्मचारी संघ ने उपायुक्त के नाम पत्र लिख कर वेतन भुगतान नहीं होने के संबंध में जानकारी दी है.वेतन भुगतान न होने के मामले को सामने रखते हुए कहा कि जिले में कार्यरत स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों को पिछले छह महीने से वेतन नहीं मिला है, जिस कारण

um

 

JHARKHAND GRID

हेमंत ने कहा "अध्यक्ष तो भीष्म पितामह बन जाते हैं", तो प्रदीप यादव ने कहा "विधायक CM और CS की चापलूसी कर रहे हैं"

भूषण सिंह हत्याकांड में तोरपा विधायक पौलुस सुरीन फरार, नहीं आ रहे विधानसभा

घाघरा: तुसगांव जनता दरबार में छलका ग्रामीणों का गुस्सा, अपने गांवों में नेताओं के प्रवेश पर लगायी रोक

विधानसभा सत्र में सरकार को घेरेगी आजसू पार्टी, रणनीति तय करने के लिए होगी विधायक दल की बैठक

लातेहार : पुलिस और जेजेएसपी में हुए मुठभेड़ में कुख्यात उग्रवादी गुड्डू यादव ढ़ेर, इलाके में सर्च अभियान जारी (देखें वीडियो)    

थाने में सुलह की कोशिश हुई नाकाम, जानें क्यों पूनम ने अपने दो बच्चों और पति को छोड़ा!

विधानसभा बजट सत्र के दूसरे दिन भी विपक्ष का हंगामा, जारी है सीएस और डीजीपी को हटाने की मांग, सदन स्थगित

पलामू : ठण्ड और गरीबी ने ले ली महिला की जान, सरकारी दावों की खुली पोल

tourian
in

 

रांची क्राइमः मोबाइल चोरी करते रंगेहाथ पकड़े गये युवक की धुनाई, जमीन फर्जीवाड़ा मामले में एक गिरफ्तार

Submitted by NEWSWING on Wed, 01/17/2018 - 21:13

Ranchi: रांची के कांटाटोली चौक पर एक मोबाइल दुकान में मोबाईल चोरी करते फिरोज नामक युवक को रंगेहाथ पकड़ा गया. इसके बाद दुकानदार और आसपास के लोगों ने युवक की पिटाई शुरू कर दी. लोगों की भीड़ देख कांटाटोली चौक पर तैनात ट्रैफिक पुलिस घटना स्थल पर पहुंची और आरोपी को अपने कब्जे में ले लिया. पीसीआर को इसकी सूचना दी गयी और फिर घटना स्थल पर पहुंचकर पीसीआर 6 ने आरोपी को कब्जे में ले लिया. आरोपी फिरोज रतन टॉकिज के पास का रहने वाला है.

गुजरात: मोरबी, वांकानेर के टाइल्स उद्योग में दिहाड़ी मजदूरों का हो रहा है शोषण, ठेकेदारी प्रथा के चलते श्रमिक बने बंधुआ मजदूर

Submitted by NEWSWING on Tue, 01/16/2018 - 10:42

रीता विश्वकर्मा

श्रमिक शोषण और उन्हें बन्धक बनाकर बंधुआ मजदूरों की तरह काम कराने की प्रथा अंग्रेजों के जमाने से लेकर वर्तमान स्वाधीन राष्ट्र में भी कायम है. अंग्रेजी शासनकाल में हिन्दुस्तानियों के साथ अमानवीय व्यवहार करते हुए उनका और उनके श्रम का शोषण अंग्रेज किया करते थे. चाहे वह देश में रहा हो या अन्य मुल्कों में ले जाकर श्रम कानून की अनदेखी कर हिन्दुस्तानियों का शोषण करना आम बात रही. तब की बात और थी तब देश गुलाम था लेकिन अब स्वाधीन भारत में यदि ब्रितानियाँ हुकूमत के कारनामों की पुनरावृत्ति हो तो यह अवश्य ही शोचनीय विषय बन जाता है.