Skip to content Skip to navigation

न्यूज विंग के जागरूक पाठक अपनी समस्या, अपने आस-पास हो रही अनियमितता की तस्वीर या कोई अन्य खबर फोटो के साथ वाहट्सएप नंबर - 8709221039 पर भेजे. हम उसे यहां प्रकाशित करेंगे.

एनआईए जांच की मांग को लेकर निर्मल व सुनील महतो के परिजन अनशन पर बैठे

News Wing

Ranchi, 14 November : झारखण्ड आंदोलनकारी निर्मल महतो और दिवंगत सुनील महतो के परिजन राजभवन के सामने अनशन पर बैठे हैं. परिवारवालों की मांग है कि निर्मल महतो और सुनील महतो की हत्या की जांच एनआईए से करायी जाये. ज्ञात हो कि झारखंड मुक्ति मोर्चा के तत्कालीन अध्यक्ष निर्मल महतो की हत्या जमशेदपुर के चमड़िया गेस्ट हाउस के समीप 08 अगस्त 1987 को की गई थी. वहीँ 4 मार्च 2007 को भीड़ से भरे खेल के मैदान बागुड़िया में सरेआम सांसद सुनील महतो की हत्या कर दी गई थी.

इनके परिजनों का आरोप है कि कई सालों बाद भी इन्हें समुचित न्याय नहीं मिल पाया है. सरकार इन हत्याओं को गंभीरता से नहीं ले रही है. रमेश सिंह मुंडा हत्याकांड का NIA द्वारा खुलासे के बाद निर्मल व सुनील महतो के परिजन मान रहे हैं कि एनआईए जांच से सारी सच्चाई सामने आ सकती है. इसलिए झारखंड राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर निर्मल और सुनील महतो के परिजन न्याय की गुहार में राजभवन के समक्ष अनशन पर बैठे हैं. परिजनों की मांग है कि इन हत्याओं की एनआईए से जांच करायी जाये.

एनआईए जांच में रमेश सिंह मुंडा हत्याकांड का हुआ था खुलासा, निर्मल, सुनील महतो के परिजनों को NIA से आस

नक्सली जोनल कमांडर कुंदन पाहन के सरेंडर के बाद दिवंगत विधायक रमेश सिंह मुंडा के पुत्र विकास सिंह मुंडा ने अनशन किया था. सरकार द्वारा केंद्रीय जांच एजेंसी से जांच कराने के आश्वासन के बाद अनशन तोड़ा था. विकास सिंह मुंडा के आवेदन पर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने मामले की जांच एनआइए से करायी. चार माह के भीतर ही एनआइए ने रमेश सिंह मुंडा की हत्या कराने के जुर्म में पूर्व मंत्री राजा पीटर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया.

रमेश सिंह मुंडा की हत्या मामले में एनआइए की कार्रवाई से यह साफ हो गया है कि झारखंड पुलिस ऐसे मामलों की जांच गंभीरता से नहीं करती है या फिर ऐसे मामलों की जांच करने की काबिलियत नहीं रखती.

Top Story
City List: 
Share

Add new comment

loading...