Skip to content Skip to navigation

लातेहार: मंडल कारा में विचाराधीन कैदी की मौत, तीन दिन पहले हुआ था गिरफ्तार

News Wing

Latehar, 13 October: लातेहार के मंडल कारा में कैद एक विचाराधीन कैदी की आज रहस्यमय तरीके से मौत हो गयी. कैदी का नाम ललकु उरांव बताया जा रहा है. वह बालूमाथ के बालू गांव का रहने वाला था. तीन दिन पहले ही वह मंडलकारा में आया था. कैदी की तबीयत अचानक खराब होने पर उसे स्थानीय सदर अस्पताल ले जाया गया था.

सांस नहीं ले पा रहा था, बेहोश था लेकिन जिंदा था

अस्पताल के डॉक्टर लक्षमण प्रसाद के अनुसार, जब कैदी को अस्पताल लाया गया था, वह सांस नहीं ले पा रहा था. हालांकि वह बेहोश था लेकिन जिंदा था. इलाज के बावजूद उसे बचाया नहीं जा सका. डॉक्टर के अनुसार कैदी की मृत्यु के कारणों की जानकारी पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आने के बाद ही मालूम होगी.

मृतक के शव को अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में रखा गया

वहीं कैदी की मृत्यु के संबंध में मंडलकारा के अधिकारी कुछ भी कहने से परहेज कर रहे हैं. मृतक के शव को अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में रखा गया है, जहां किसी भी मीडियाकर्मी को फटकने नहीं दिया जा रहा.

परिजनों को सूचित कर दिया गया

कैदी की मृत्यु के संबंध में उसके परिजनों को सूचित कर दिया गया है. मामले की जांच के लिए मजिस्ट्रेट की टीम भी गठित की गयी है, जो इस विषय की जांच पड़ताल करेगी.

मारपीट का केस दर्ज था, सात साल बाद हुआ था गिरफ्तार

मृतक के बारे में बालूमाथ थाना प्रभारी नंदकिशोर प्रसाद ने बताया कि मृतक पर वर्ष 2010 में मारपीट का केस दर्ज किया गया था. (105/10) कांड संख्या धारा 341, 323, 307, 504 और 34 भारतीय दंड विधान के तहत मामला दर्ज था. उक्त व्यक्ति को मामले में सात साल बाद 11 अक्टूबर को गिरफ्तार किया गया था. उन्होंने बताया कि कैदी की तबीयत अचानक खराब हो गयी थी. अस्पताल ले जाया गया लेकिन वह नहीं बचा.

Lead
City List: 
Share

Add new comment

loading...