Skip to content Skip to navigation

न्यूज विंग के जागरूक पाठक अपनी समस्या, अपने आस-पास हो रही अनियमितता की तस्वीर या कोई अन्य खबर फोटो के साथ वाहट्सएप नंबर - 8709221039 पर भेजे. हम उसे यहां प्रकाशित करेंगे.

खूंटी: चलो गांव की ओर अभियान शुरू, बिरसा मुंडा के वंशजों ने सौंपी बीजेपी को पवित्र मिट्टी

NEWS WING

KHUNTI, 14 NOVEMBER : खूंटी के उलिहातू से भाजपा की अनुसूचित जनजाति मोर्चा द्वारा आयोजित चलो गांव की ओर अभियान की शुरूआत आज भव्य तरीके से हुई. उलिहातु में भगवान बिरसा मुंडा के वंशजों ने केंद्रीय मंत्री जुएल उरांव , सुदर्शन भगत, पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा, मंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा, मंत्री लुइस मरांडी की उपस्थिति में पवित्र मिट्टी सौंपी.  इससे पहले सभी लोगों ने भगवान बिरसा मुंडा की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धांजलि दी. इस दौरान भारी संख्या में भाजपा कार्यकर्ताओं भी मौजूद रहे. वहीं कार्यकर्ताओं संग पदयात्रा पर निकलने से पहले केंद्रीय मंत्री जुएल उरांव ने कहा की झारखंड के अलग राज्य बनने के बाद से पिछले 17 सालों में काफी परिवर्तन आया है. जिसमें पिछले तीन सालों में राज्य की रघुवर सरकार ने आदिवासियों के विकास के लिए ज्यादा कार्य किया है. यही वजह है कि जब आदिवासियों ने सीएनटी एक्ट संसोधन का विरोध किया तो सरकार ने उसे वापस ले लिया.

वहीं पूर्व सीएम अर्जुन मुंडा ने इस यात्रा को लेकर उम्मीद जताई कि पदयात्रा के जरिये आदिवासियों की स्थिति को समझने का एक और मौका मिलेगा, ताकि उनके कल्याण के लिए सरकार ज्यादा कार्य कर सके. वहीं कल्याण मंत्री लुईस मरांडी ने भी उम्मीद जताई कि, कल्याण विभाग द्वारा शुरू किये गए शहीद ग्राम विकास योजना से शहीदों के गांव के विकास के लिए सरकार की प्रतिबद्धता ज्यादा नजर आ रही है. साथ ही उन्होंने कहा कि  उलिहातू का उसी तर्ज पर विकास भगवान बिरसा मुंडा की संघर्ष को दुनिया के सामने लाने की एक कोशिश है.

इस मौके पर विधायक रामकुमार पाहन, गंगोत्री कुजूर, शिवशंकर उरांव, रांची की मेयर आशा लकड़ा, पूर्व विधायक कोचे मुंडा, पूर्व विधायक समीर उरांव, भगवान बिरसा मुंडा के वंशज सुखराम मुंडा मौजूद थे. 

बता दें कि , भगवान बिरसा मुंडा की जन्मस्थली उलिहातु से शुरू होने वाली चलो गांव की ओर पदयात्रा 15 नवंबर को रांची पहुंचेगी. जहाँ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को यह पवित्र मिट्टी सौंपी जाएगी. वहीं यात्रा अगले महीने 15 दिसंबर को संथाल परगना में समाप्त होगी.

Top Story
City List: 
Share

Add new comment

loading...