Skip to content Skip to navigation

बड़ी उपलब्धि : भारत में 50-50 के करीब पहुंचा GIRLS और BOYS एजुकेशन का आकंड़ा

News Wing

भारत गर्ल्स स्टूडेंटस और ब्याज स्टूडेंट की बराबरी की संख्या को जल्द ही छूनेवाला है. और यह पूरे विश्व के सामने भारत की एक अनोखी उपलब्धि होगी. एक तरफ 1950 के दौरान जहां गर्ल्स स्टूडेंट की संख्या ब्यॉज की अपेक्षा मात्र 25 प्रतिशत थी वहीं 2015-16 के दौरान यह आंकड़ा 48 प्रतिशत तक पहुंच चुका है. अब जाहिर है 50-50 का आंकड़ा ज्यादा दूर नहीं. और यह निसंदेह भारत की महिला शिक्षा के मामले में एक बड़ी उपलब्धि है. 

ताजा रिपोर्ट के अनुसार भारत में महिला शिक्षा का प्रतिशत 48

हयूमन रिसोर्स डेवलपमेंट मिनिस्ट्री की ताजा रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2015-16 के दौरान महिला शिक्षा में जबरदस्त तेजी देखी गयी और यह आंकड़ा 48 प्रतिशत दर्ज किया गया. इन आंकड़े में स्कूल, कॉलेज, और यूनिवर्सिटी में पढ़ाई कर रही लड़कियां और महिलाएं शामिल हैं.

आश्चर्यजनक रूप से बढ़ा शिक्षा के मामले में महिलाओं का प्रतिशत

पिछले आकंड़ों पर गौर करें तो एजुकेशन के क्षेत्र में महिलाओं और लड़कियों की संख्या का आंकड़ा निराश करनेवाला था वर्ष 1950-51 के बीच मात्र 25 प्रतिशत महिलाएं और लड़कियां स्कूल और कॉलेजों में थीं. यह आकंड़ा 40 वर्षों के बाद 1990-91 में 39 प्रतिशत तक पहुंचा जबकि 2000-01 के बीच यह आंकड़ा 42 प्रतिशत तक आया और अब 2015-16 में यह आंकड़ा बढ़कर 48 प्रतिशत यानि 50 प्रतिशत के बेहद करीब पहुंच चुका है.

गर्ल्स एजुकेशन मामले में दुनिया के विकसित और एडवांस्ड देशों के करीब भारत

एक अन्य आंकड़े की बात करें तो लड़कों की अपेक्षा डिग्रियां लेने में लड़कियों को बेहतर बताया गया है यानि लड़कों की अपेक्षा लड़कियां ज्यादा डिग्री ले रही हैं. भारत में गर्ल्स एजुकेशन पर जारी यह नया आंकड़ा भारत को दुनिया के सबसे विकसित देशों के समक्ष लगा कर खड़ा करता है. गर्ल्स एजुकेशन के मामले में अगर हम दुनिया के ऐसे खास देशों की बात करें जो काफी एडवांस्ड हैं तो इसमें नाम आता है ईयू का जहां महिला शिक्षा का आंकड़ा 54 प्रतिशत है. यूएस का आंकड़ा 55 प्रतिशत जबकि चीन में महिला शिक्षा का आंकड़ा 54 प्रतिशत है.

 

भारतीय महिलाओं की स्थिति अन्य सेक्टरों में बेहतर नहीं

इस दौरान एक अहम बात जिसकी चर्चा आवश्यक है, वह यह है कि शिक्षा के साथ ही इन विकसित देशों में महिलाएं सिर्फ शिक्षा में ही आगे नहीं हैं बल्कि अन्य विभिन्न क्षेत्रों जैसे जॉब सेक्टर, राजनीति, सामाजिक, आर्थिक और प्रशासनिक सेक्टरों में भी महिलाएं यहां अपनी बेहतरीन उपस्थिति दर्ज करा रही हैं. जबकि भारत इस मामले में अभी बहुत पीछे है. शिक्षा के क्षेत्र में यह आंकड़ा 50 50 का जरूर होने वाला है लेकिन सामाजिक, राजनीतिक, आर्थिक, प्रशासनिक क्षेत्रों में महिलाओं की भूमिका यहां अभी भी बहुत चिंता जनक है.

 

जानें भारत के विभिन्न सेक्टर में महिलाओं का प्रतिशत

स्टूडेंट- 48%

कर्मचारियों की संख्या- 27%

पार्लियामेंट- 11%

राज्य विधायिका- 8.8%

भारत के 500 टॉप सीओ में- 3.4%

 

महिला शिक्षा के क्षेत्र का सिलसिलेवार आंकड़ा

1950-51 25%

1990-91 39%

2000-01 42%

2015-16 48%

 

Share

Add new comment

UTTAR PRADESH

News WingGajipur, 21 October : उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में मोटरसाइकिल पर आए हमलावरों ने राष्ट्रीय स्...
News Wing Uttar Pradesh, 20 October: धनारी थानाक्षेत्र में पुलिस के साथ मुठभेड़ में एक इनामी बदमाश औ...
Website Designed Developed & Maintained by   © NEWSWING | Contact Us