अफगान चौकी पर हमले में सुरक्षा बलों के 10 कर्मियों की मौत

Publisher NEWSWING DatePublished Wed, 03/14/2018 - 15:11

Kabul : अफगानिस्तान के पश्चिमी हिस्से में सुरक्षा बलों की एक चौकी पर उग्रवादियों ने बुधवार की सुबह हमला कर कम से कम 10 सुरक्षाकर्मियों की हत्या कर दी. अभी तक किसी ने हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है. गौरतलब है कि फराह प्रांत में तालिबान द्वारा पिछले कुछ सप्ताह में लगातार किये जा रहे हमलों में सुरक्षा बलों के 38 कर्मी मारे गये हैं, पांच अन्य को उन्होंने बंधक बनाया है जबकि कई अन्य घायल हुए हैं.

इसे भी पढ़ें: पटना : मुख्य सचिव अंजनी कुंमार की बर्खास्तगी की मांग पर अड़ा राजद, सदन के अंदर और बाहर किया हंगामा

फराह शहर पर है तालिबान का कब्जा

फराह प्रांतीय परिषद के सदस्य अब्दुल समद सालेही ने बताया कि बुधवार को मारे गये 10 सुरक्षाकर्मियों में से छह खुफिया विभाग के थे जबकि चार पुलिसकर्मी थे. सालेही ने कहा कि  हमने केन्द्र सरकार से कहा है, कि इससे पहले कि फराह शहर पर तालिबान का कब्जा हो , वह हमें अतिरिक्त सैन्य बल भेज दे. उन्होंने कहा कि सुरक्षा बल तीन अलग-अलग मोर्चों पर तालिबान से लड़ रहे हैं और उग्रवादी प्रांतीय राजधानी की विभिन्न चौकियों पर हमले कर रहे हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

भूमि अधिग्रहण पर आजसू का झामुमो पर बड़ा हमला, मांगा पांच सवालों का जवाब

सूचना आयोग में अब वीडियो कांफ्रेंसिंग से होगी सुनवाई, मोबाइल ऐप से पेश कर सकते हैं दस्तावेज

झारखंड को उद्योगपतियों के हाथों में गिरवी रखने की कोशिश है संशोधित बिल  :  हेमंत सोरेन

जम्मू-कश्मीर : रविवार से आतंकियों व अलगाववादियों के खिलाफ शुरु हो सकता है बड़ा अभियान

उरीमारी रोजगार कमिटी की दबंगई, महिला के साथ की मारपीट व छेड़खानी, पांच हजार नगद भी ले गए

विपक्ष सहित छोटे राजनीतिक दलों को समाप्त करना चाहती है केंद्र सरकार : आप

बॉडी गार्ड की चाहत में जिप अध्यक्ष ने खुद पर करवायी फायरिंग, पकड़े गए अपराधियों ने किया खुलासा

गोड्डा मॉब लिंचिंग : सांसद निशिकांत ने कहा प्रशासन ने सही किया या गलत पता नहीं, लेकिन केस लड़ने के लिए आरोपियों की करेंगे मदद

समय पर बिजली बिल नहीं मिला तो लगेगा 420 वोल्ट का झटका, जेबीवीएनएल को नहीं कोई फिकर

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में मानवाधिकार उल्लंघन पर मानवाधिकार परिषद लेगी फैसला : यूएन 

शुजात बुखारी को उनके पैतृक गांव में दफनाया गया, जनाजा में बड़ी संख्या में उमड़ी थी भीड़