योगी सरकार ने जारी किया कैलेंडर, मदरसों में दीवाली और दशहरा की छुट्टी अनिवार्य

Submitted by NEWSWING on Wed, 01/03/2018 - 16:08

Lucknow : उत्तर प्रदेश के मदरसों को लेकर योगी आदित्यनाथ सरकार ने यूपी के अनुदान प्राप्त मदरसों के लिए नए कैलेंडर जारी किया है. मंगलवार को जारी कैलेंडर के मुताबिक दूसरे धर्मों के त्योहारों पर भी मदरसों को बंद रखने का निर्देश दिया गया है. इससे पहले योगी सरकार ने मदरसों में राष्ट्र गान गाने को अनिवार्य कर दिया था, साथ ही स्वतंत्रता दिवस के दिन पूरे कार्यक्रम की वीडियो रिकॉर्डिंग करवाने का भी आदेश दिया था. मदरसों के लिए छुट्टियों का नया कैलेंडर के मुताबिक मदरसों के अधिकार में रहने वाली छुट्टियों को कम कर दिया गया है. कलेंडर जारी होने के बाद से आरोप-प्रत्यारोप का दौर भी शुरू हो गया है. सरकार के इस फैसले के बाद मदरसे से जुड़े कई संगठनों ने इस पर नाराजगी जताई है. 

प्रदेश के सभी मदरसों में एक ही टाइम पर लगेंगी कक्षाएं

नए आदेश में यहां कक्षाओं का समय भी तय किया गया है. सभी मदरसों में अब एक ही टाइम पर कक्षाएं लगेंगी. मदरसा बोर्ड से तैतानिया, फौकानिया, आलिया और उच्च आलिया स्तर के मान्यता प्राप्त सभी मदरसे अब इन त्योहारों पर भी बंद रहेंगे. मान्यता प्राप्त सभी मदरसों को अवकाश के बारे में आदेश जारी किए गए हैं. एक अप्रैल से 30 सितंबर तक सुबह 8 बजे से दोपहर एक बजे तक कक्षाएं संचालित करनी होंगी. सुबह 10:30 बजे से 11 बजे तक इंटरवल रहेगा. वहीं, एक अक्बटूर से 31 मार्च तक कक्षाएं सुबह 9 बजे से दोपहर 2 बजे तक चलेंगी. इसमें 12 से 12:30 बजे के बीच आधे घंटे का इंटरवल रहेगा.

कई छुट्टियां की गयीं खत्म

सलाना अवकाश में कटौती कर इसे 92 के बजाय 86 दिन किया गया है. बोर्ड ने नए आदेश जारी कर मदरसा शिक्षकों और छात्र-छात्राओं की छुट्टियां तो बढ़ा दी हैं लेकिन उनके दिनों मे कटौती कर दी है. सर्दियों की छुट्टियां 13 दिन की जगह 10 दिन होंगी. क्रिसमस को अलग करने के साथ ही रमजान और ईद के सालाना अवकाश 46 के बजाय 42 दिन किए गए हैं. मदरसा प्रबंधन को मिलने वाला 10 दिन का विशेष अवकाश भी समाप्त कर दिया गया है.

हिंदू त्योहारों पर मदरसों में छुट्टी

प्रदेश सरकार ने यूपी के सभी 16,461 मदरसों को महानवमी, दशहरा, दीपावली, रक्षाबंधन, बुद्ध पूर्णिमा और महावीर जयंती पर बंद करने का आदेश जारी किया गया है. यह अवकाश मोहर्रम या किसी अन्य मौके पर लिया जाता है. बोर्ड ने साप्ताहिक अवकाश बरकरार रखते हुए जुमा (शुक्रवार) ही रखा है. मदरसों में अब कुल 92 के बजाय 86 दिनों की ही छुट्टियां मिल सकेंगी. नए कैलेंडर मुताबिक 7 नई छुट्टियां जोड़ी गई है, वहीं मदरसों के अधिकार में रहने वाली 10 छुट्टियों को घटाकर 4 कर दिया गया है. इनमें ईद-उल-जुहा और मुहर्रम भी शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें: 12.25 करोड़ के गहनों की अजब चोरी की गजब कहानीः चोर ने चोरी की, गहने छोड़ गए दुकान के उपर बनी पानी टंकी में

फैसले से नाखुश है मदरसा बोर्ड

उत्तर प्रदेश मदरसा बोर्ड के रजिस्ट्रार राहुल गुप्ता ने कहा कि मदरसों में दी जाने वाली 10 छुट्टियों को कम करके महान नेताओं की जयंती पर छुट्टी देने का फैसला किया गया है. देश के महान नेताओं के बारे में बच्चों को जानना अनिवार्य है. उन्होंने कहा कि मदरसों को शिक्षा नियमों के अंतर्गत लाने के लिए ये फैसला लिया गया है. हालांकि उत्तर प्रदेश के मदरसा अधिकारी इस फरमान से खुश नहीं हैं. इस्लामिक मदरसा टीचर्स एसोशिएशन के अध्यक्ष एजाज अहमद ने कहा कि अन्य धर्मों के त्योहारों पर छुट्टी देने का फैसला ठीक है, लेकिन हमारे अधिकार वाली 10 छुट्टियों को कम करना ठीक नहीं.

यूपी के मदरसों में राष्ट्रगान गाना अनिवार्य

उल्लेखनीय है कि पिछले साल अक्टूबर में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने मदरसों में राष्ट्रगान को अनिवार्य करने तथा सभी मदरसों को 15 अगस्‍त को तिरंगा फहराने साथ ही इस कार्यक्रम की अनिवार्य रूप से वीडियो रिकॉर्डिंग करने का भी फरमान सुनाया था. राष्ट्रगान को अनिवार्य करने खिलाफ मदरसों ने इलाहाबाद हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी. लेकिन याचिका को खारिज करते हुए कोर्ट ने राज्य सरकार के फैसले पर मुहर लगा दी. सुनवाई के दौरान हाई कोर्ट ने साफ शब्दों में कहा कि मदरसों को राष्ट्रगान गाने से छूट नहीं दी जाएगी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Top Story
loading...
Loading...