हिंडाल्को द्वारा बॉक्साइड साइडिंग चालने में उड़ाई जा रही नियमों की धज्जियां, धड़ल्ले से हो रहा प्रदूषण मापदंडों का उल्लंघन

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 02/20/2018 - 13:26

सूर्यप्रकाश उरांव का कहना है कि स्थानीय जनप्रतिनिधि के लिए हिंडाल्को कंपनी की ओर से मासिक धनराशि बंधी हुई है. इसी कारण स्थानीय जनप्रतिनिधि हिंडालको की दादागिरी के खिलाफ आवाज नहीं उठाते हैं. इसमें स्थानीय विधायक भी शामिल हैं. सिर्फ जनता को भ्रमित करने के लिए विधायक प्रकाश राम कभी-कभी हिंडालको के खिलाफ कुछ बोलते हैं. जितना बोलते हैं, उतना ही कंपनी से वसूलते भी हैं.

Pravin Kumar

Latehar: हिंडाल्को कंम्पनी 1984 से ही राज्य के गुमला और लोहरदगा जिला में बॉक्साइड का खनन करता आ रहा है. लोहरदगा जिला के सेरगदाग माइंस के आसपास जहां कंपनी को खनन लीज मिला है, वह उस क्षेत्र में खनन का कार्य तो कर ही रही है, साथ ही वन क्षेत्र में भी ठेकेदारों के माघ्यम से अवैध खनन करा के इसे वैध करने का काम वर्षों से करती रही है. जानकारों की मानें तो वन क्षेत्र से किये गये इस खनन पर किसी तरह का लागम लगाने में वन विभाग की अब तक कोई रूचि नहीं है.

इसे भी पढ़ेंः गुमला के वनक्षेत्र में हो रहा अवैध खनन, हिंडाल्को के कारनामे पर वन विभाग बना धृतराष्ट्र (देखें वीडियो)

सिर्फ खनन कार्य में ही मनमानी नहीं करती हिंडाल्को, अन्य कई कार्य किये जाते हैं नियम विरुद्ध

आदित्य बिड़ला समूह की कंपनी हिंडाल्को सिर्फ खनन कार्य में ही मनमानी नहीं करती, बल्कि खनन के बाद गुमला और लोहरदगा जिला से बॉक्साइड निकाल कर टोरी लाया जाता है. यहां भी नियमों को धड़ल्ले से तोड़ कर बॉक्साइड साइडिंग चलाया जा रहा है. चंदवा टोरी में कंपनी द्वारा नियम विरूद्ध एवं मनमाने ढंग से बॉक्साइड साइडिंग का संचालन करते हुये बॉक्साइड लोडिंग एवं अनलोडिंग का काम किया जा रहा है. इससे स्थानीय लोगों को किसी तरह का लाभ तो नहीं मिल रहा है लेकिन कंपनी के करनामों के करण स्थानीय लोगों को धूल भरी जिंदगी, बीमारी, दुर्घटना, मौत और प्रदूषण जरूर मिल रहा है.  बॉक्साइड खनिज का परिवहन, लोडिंग, अनलोडिंग और साइडिंग का संचालन हिंडाल्को कंपनी स्वयं करती है. चंदवा बॉक्साइड साइडिंग में पर्यावरण संबंधी नियमों की धज्जियां लगतार उड़ायी जा रही है. जबकि राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा साइडिंग चालने के लिए नियम बनाये गये हैं.

इसे भी पढ़ेंः पलामू : मारपीट और गोलीबारी से आक्रोशित ग्रामीणों ने बंद करायी हिंडाल्को की कठौतिया कोल माइंस

किन नियमों की धज्जियां उड़ा रही है हिंडाल्को कंपनी

बॉक्साइड खनिज का परिवहन, लोडिंग, अनलोडिंग और साइडिंग के कार्य में प्रदूषण से स्थानीय आबादी को बचाने के नियम बने हुये हैं. नियम अनुसार वैसे स्थान पर साइडिंग होनी चाहिए, जो शहर या आबादी से दूर हो लेकिन इस नियम का भी पलान नहीं किया जा रहा है. चंदवा में कम्पनी की साइडिंग शहर के करीब है और वहां घनी आबादी की बसहाट है. साथ ही बॉक्साइड का परिवहन चंदवा मुख्य बाजार से ही किया जाता है, जो घनी आबादी का क्षेत्र है. पर्यावरण बोर्ड के निर्देशों के अनुसार साइडिंग जलस्रोत से 100 मीटर दूर होनी चहिए लेकिन कंपनी की यह साइडिंग चंदवा शहर के मुख्य जलस्त्रोत अलौदिया नाला के पास है, जिस कारण अलौदिया नाला का अस्तित्व मिटता जा रहा है.

साइडिंग मुख्य सड़क से 100 मीटर दूर होनी चहिए

पर्यावरण बोर्ड के निर्देश में कहा गया है, कोई भी साइडिंग मुख्य सड़क से 100 मीटर दूर होनी चहिए लेकिन राष्ट्रीय राजमार्ग -99 पर ही है, जिसके कारण मुख्य संड़क में भी जाम लगता रहता है. वर्षों से चल रहे बॉक्साइड साइडिंग में अभी तक किसी तरह की कोई चारदिवारी नहीं बनायी गयी है. जो कि स्थानीय लोगों के लिए प्रदूषण से बचाव के लिए जरूरी माना गया है, जबकि हिंडाल्को कंपनी की साइडिंग अत्यंत भीड़भाड़ वाले शहर के जगहों मुख्य बाजार, बस स्टैंड एवं रेलवे स्टेशन के मिलान वाले स्थान पर अवस्थित है. जहां साफ सफाई की किसी तरह की कोई व्यवस्था नहीं है. बॉक्साइड लदे ट्रकों के बॉडी को साइडिंग में घुसने और निकलने से पहले धुलाई की ब्यवस्था होनी चाहिए जो कंपनी द्वारा नहीं की गयी है.

इसे भी पढ़ेंः RTI की रिपोर्ट में खुलासाः पीएमओ से गायब हो गयी फाइल, बंद कर दी गयी हिंडाल्को के खिलाफ जांच

क्यों चुप है जिला प्रशासन लातेहार

कंपनी के द्वारा मानमाने ढंग से खनन करने के कई मामले खनन इलाके में दिखाई देते हैं. सरे खनन कार्य दूरदराज के वन क्षेत्र में किया जाता है लेकिन कंपनी के द्वारा बॉक्साइड साइडिंग पर नियमों की अनदेखी कर कार्य किया जा रहा है. इसे देख कर भी जिला प्रशासन लातेहार चुप क्यों है, यह स्थानीय लोगों को समझ में नहीं आ रहा. स्थानीय जनप्रतिनिधि भी आमजनों को हो रही इस परेशोनी से दूर हैं.

hindalco

हिंडाल्को कंम्पनी की बॅाक्साइट साइडिंग पर क्या कहते हैं स्थानीय विधायक

स्थानीय विधायक प्रकाश राम कहते हैं- चंदवा टोरी रेलवे साइडिंग के पास कोयला और बॉक्साइट का वर्षों से साइडिंग चलाया जा रहा है. जहां पूरी तरह पर्यावरण संबंधी नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए हिंडाल्को कंपनी काम कर रही हैं. अधिकारियों को भी लिखे जाने पर किसी तरह की कार्रवाई नहीं होती है. कंपनी के खिलाफ आंदोलन करने पर कुछ दिन के लिए कुछ नियम का पालन होता है, बाद में मनचाहे ढंग से हिंडाल्को काम करने लगती है.

इसे भी पढ़ेंः चतरा में हिंडाल्को कंपनी के कर्मचारी से 8 .77 लाख रुपए की लूट

जनप्रतिनिधियों को कंपनी की ओर से मिलती है मासिक धनराशि

उपरोक्त संदर्भ में सूर्यप्रकाश उरांव का कहना है कि स्थानीय जनप्रतिनिधि के लिए हिंडाल्को कंपनी की ओर से मासिक धनराशि बंधी हुई है. इसी कारण स्थानीय जनप्रतिनिधि हिंडालको की दादागिरी के खिलाफ आवाज नहीं उठाते हैं. इसमें स्थानीय विधायक भी शामिल हैं. सिर्फ जनता को भ्रमित करने के लिए विधायक प्रकाश राम कभी-कभी हिंडालको के खिलाफ कुछ बोलते हैं. जितना बोलते हैं, उतना ही कंपनी से वसूलते भी हैं. (सूर्यप्रकाश उरांव, जेएमएम युवा मोर्चा, जिला सचिव)

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

top story (position)
7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

बिहार के माथे पर एक और कलंक, चपरासी ने 8,000 रुपये में कबाड़ी को बेची थी 10वीं परीक्षा की कॉपियां

स्वच्छता में रांची को मिले सम्मान पर भाजपा सांसद ने ही उठाये सवाल, कहा – अच्छी नहीं है कचरा डंपिंग की व्यवस्था

तो क्या ऐसे 100 सीटें बढ़ायेगा रिम्स, न हॉस्टल बनकर तैयार, न सुरक्षा का कोई इंतजाम, निधि खरे ने भी लगायी फटकार

पत्थलगड़ी समर्थकों ने किया दुष्कर्म, फादर सहित दो गिरफ्तार, जांच जारीः एडीजी

स्वच्छता सर्वेक्षण की सिटीजन फीडबैक कैटेगरी में रांची को फर्स्ट पोजीशन, केंद्रीय मंत्री ने किया पुरस्कृत

J&K: बीजेपी विधायक की पत्रकारों को धमकी, कहा- खींचे अपनी एक लाइन

दुनिया की सबसे बड़ी ऑनलाइन मेगा परीक्षा कराने जा रही है रेलवे, डेढ़ लाख लोगों को मिलेगा रोजगार

“महिला सिपाही पिंकी का यौन शोषण करने वाले आरोपी को एसपी जया रॉय ने बचाया, बर्खास्त करें”

यूपीः भीषण सड़क हादसे में एक ही परिवार के पांच लोगों की मौत

सरकार जमीन अधिग्रहण करेगी और व्यापक जनहित नाम पर जमीन का उपयोग पूंजीपति करेगें : रश्मि कात्यायन

16 अधिकारियों का तबादला, अनिश गुप्ता बने रांची के एसएसपी, कुलदीप द्विवेदी गए चाईबासा