उन्नाव गैंगरेप केस:चौतरफा दबाव के बाद बीजेपी विधायक पर FIR दर्ज, बड़ा सवाल कब होगी गिरफ्तारी ?

Publisher NEWSWING DatePublished Thu, 04/12/2018 - 09:54

Lucknow: उन्नाव गैंगरेप केस में चौतरफा घिरी योगी सरकार ने दबाव के बाद आरोपी विधायक के खिलाफ कार्रवाई के मूड में दिख रही है. आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ FIR दर्ज कर ली गई है. आरोपी भाजपा विधायक पर उन्नाव के माखी थाने में बुधवार देर रात आईपीसी की धारा 363, 366, 376 और पॉक्सो कानून की विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है. इसके साथ यूपी सरकार ने इस मामले की सीबीआई जांच की सिफारिश भी कर दी है. गृह विभाग ने पीड़िता के पिता की मौत की जांच की सिफारिश भी सीबीआई से की है. इस मामले में उन्नाव जिला अस्पताल के 2 डॉक्टर सस्पेंड किए गए हैं. वही जेल अस्पताल के भी तीन डॉक्टरों पर गाज गिरी है. इनपर पीड़िता के पिता के इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप है. वहीं, सीओ सफीपुर कुंवर बहादुर सिंह भी लापरवाही के आरोप में सस्पेंड किए गए हैं.

इसे भी पढ़ें:सुप्रीम कोर्ट का अस्तित्व खतरे में, इतिहास हमेंं माफ नहीं करेगाः जस्टिस कुरियन

आरोपी विधायक के खिलाफ कार्रवाई का फैसला तब लिया गया जब मामले की जांच के लिए अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (लखनऊ जोन) के अधीन गठित एसआईटी ने जांच रिपोर्ट सरकार को सौंपी. वही मामले पर सवत: संज्ञान ले चुकी  इलाहाबाद हाईकोर्ट ने वरिष्ठ अधिवक्ता गोपाल स्वरूप चतुर्वेदी के पत्र पर राज्य सरकार से घटना पर उसका रुख पूछा और मामले की सुनवाई गुरुवार तक के लिए स्थगित कर दी गयी है. अब देखने वाली बात ये है कि आरोपी विधायक की गिरफ्तारी कब होती है.

बुधवार शाम SSP आवास के बाहर हाईवोल्टेज ड्रामा

इधर बुधवार की शाम को लखनऊ एसएसपी के आवास के बाहर हाईवोल्टेज ड्रामा देखने को मिला. आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर देर रात बेहद नाटकीय घटनाक्रम के तहत एसएसपी आवास पहुंच गए. अनुमान लगाया जा रहा था कि वो सरेंडर करेंगे. लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ. उन्होंने खुद को बेगुनाह बताते हुए कहा कि वह सिर्फ एसएसपी से मिलने आए थे. साथ ही कहा कि मैं यहां मीडिया के समक्ष आया हूं. मैं भगोडा नहीं हूं. और राजधानी लखनऊ में हूं. बताइये क्या करूं. वही सरेंडर के सवाल पर उन्होंने कहा कि जैसा पार्टी हाईकमान आदेश देगा, वे उसका पालन करेंगे.


इसे भी पढ़ें:गोमिया-सिल्ली उपचुनाव : कुरमी बहुल इलाके में कुरमी उम्मीदवार, कुरमी वोटरों को रिझाने में अपना रहे हैं हर कुरमियाना तरीका 

विधायक का आरोपों से इनकार

िपुरुरप
बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर

गैंगरेप मामले और पीड़िता के पिता की संदिग्ध मौत के मामले में बुरी तरह फंसे आरोपी विधायक सेंगर खुद को बेगुनाह बता रहे हैं.उन्होंने पूरे घटनाक्रम को उनके खिलाफ एक साजिश बताया है. उन्होंने कहा कि मेरा मीडिया ट्रायल किया गया है. मैं चाहता था कि निष्पक्ष जांच हो.  इधर आरोपी विधायक की पत्नी संगीता सेंगर ने भी बुधवार को DGP ओपी सिंह से मुलाकात की थी. उन्होंने कहा कि उनके पति निर्दोष हैं. आरोपी की पत्नी ने पीड़िता और आरोपी का नार्को टेस्ट कराये जाने की मांग की. साथ ही कहा कि यदि झूठे केस में मीडिया ट्रायल हुआ, तो वह अपनी दो बेटियों के साथ जहर खा लेंगी.

क्या है मामला

उल्लेखनीय है कि पीड़िता का आरोप है कि उसके साथ 4 जून 2017 को बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर और उनके साथियों ने गैंगरेप था. उसने बीजेपी विधायक से रेप का विरोध किया, तो उसने परिवार वालों को मारने की धमकी दी. जब वो थाने में गई तो एफआईआर नहीं लिखी गई. इसके बाद तहरीर बदल दी गई. वह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने लखनऊ गई. मुख्यमंत्री से आरोपी विधायक की शिकायत की थी. उन्होंने इंसाफ का भरोसा दिलाया था, लेकिन एक साल हो गया. अब तक कुछ नहीं हुआ. दिल्ली से उसके पिता गांव आए, तो विधायक के लोगों ने उनको बहुत मारा. उनको घसीटकर ले गए. पीटने के बाद उन्हें अपने घर के बाहर फेंक दिया. इसके बाद उन्हें जेल में बंद कर दिया गया, जहां उनकी मौत हो गई है.

इसे भी पढ़ें:पीएम के दावे पर तेजस्वी का बड़ा हमला, बिहार में कैसे बने हर मिनट 84.31 टॉयलेट

गौरतलब है कि इस मामले में पुलिस ने आरोपी विधायक के अतुल सिंह और विधायक के चार समर्थकों को गिरफ्तार कर चुकी है. वही थाना प्रभारी समेत 6 पुलिसकर्मी को पहले ही सस्पेंड किया जा चुका है. हर तरफ से बनते दबाव और उठते सवालों के बीच आरोपी विधायक के खिलाफ एफआईआर तो दर्ज कर ली गयी, लेकिन बड़ा सवाल ये है कि आरोपी भाजपा विधायक की गिरफ्तारी कब होगी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

Main Top Slide
loading...
Loading...