अब ऑनलाइन बेचे जाने वाले उत्पादों पर एमआरपी, अन्य ब्योरा देना अनिवार्य

Publisher NEWSWING DatePublished Mon, 01/01/2018 - 20:04

New Delhi : ऑनलाइन उपभोक्ताओं के संरक्षण के लिए केंद्र ने आज से ई-कॉमर्स कंपनियों के लिए उनके द्वारा बेचे जाने वाले सभी उत्पादों पर अधिकतम खुदरा मूल्य (एमआरपी) का उल्लेख करना अनिवार्य कर दिया है. इसके अलावा ई-कॉमर्स खिलाड़ियों को उत्पादों पर अन्य सूचनाओं मसलन मियाद समाप्त होने की तारीख (एक्सपायरी डेट) और कस्टमर केयर का भी ब्योरा देना होगा. इसके लिए उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने विधि मापिकी (पैकेटबंद सामग्री) नियम में जून, 2017 में संशोधन किया था. कंपनियों को इस नये नियम के अनुपालन के लिए छह महीने का समय दिया गया था.

इसे भी पढ़ें : असम: एनआरसी का पहला ड्राफ्ट जारी, फर्स्ट लिस्ट में 1.9 करोड़ लोगों के नाम

कई जानकारियां होंगी शामिल

मंत्रालय ने बयान में कहा कि विधि मापिकी (पैकेटबंद सामग्री) नियम, 2011 में संशोधन उपभोक्ताओं के हित तथा कारोबार सुगमता के लिए किया गया है. यह 1 जनवरी, 2018 से लागू हो गया है. संशोधनों के तहत विक्रेता द्वारा ई-कामर्स प्लेटफार्म पर बेचे जाने वाले सामान पर नियमों के तहत ब्योरा देना होगा. एमआरपी के अलावा कंपनियों को विनिर्माण की तारीख, एक्सपायरी डेट, शुद्ध मात्रा, देश और कस्टमर केयर का ब्योरा देना होगा. मंत्रालय ने कहा कि इस घोषणा के लिए छापे जाने वाले शब्दों और अंकों का आकार बढ़ाया गया है, जिससे उपभोक्ताओं को उन्हें पढ़ने में आसानी हो. कोई भी व्यक्ति एक जैसे पैकेटबंद सामान के लिए अलग-अलग एमआरपी की घोषणा नहीं कर सकता. इसके अलावा सरकार ने शुद्ध मात्रा की जांच को अधिक वैज्ञानिक बनाया है. वहीं बारकोड-क्यूआर कोडिंग की अनुमति स्वैच्छिक आधार पर दी गई है.

इसे भी पढ़ें : राज्यसभा में तीन तलाक को अपराध बताने वाले क्लॉज को जमानती बनाने की मांग कर सकती है कांग्रेस

समुचित सूचनाएं नहीं होने की काफी शिकायतें मिली थीं

मंत्रालय ने कहा कि ऐसे चिकित्सा उपकरण जिन्हें दवाई के रूप में माना गया है उन्हें भी इन नियमों के दायरे में लाया गया है. अभी तक आनलाइन बेचे जाने वाले सामान पर सिर्फ एमआरपी की छपा होता था. मंत्रालय को आनलाइन बेचे जाने वाले उत्पादों के पैकेट पर समुचित सूचनाएं नहीं होने की काफी शिकायतें मिली थीं, जिसके मद्देनजर यह कदम उठाया गया है. देश में परिचालन कर रही प्रमुख ई-कामर्स कंपनियों में फ्लिपकार्ट, अमेजन इंडिया, स्नैपडील, ग्रोफर्स और बिगबास्केट शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें  : रजनीकांत ने राजनीति में आने का किया ऐलान, राज्य में अगला विस चुनाव लड़ेगी पार्टी

loading...
Loading...