चीन का हेवनली पैलेस द तियांगोंग-1 दक्षिण प्रशांत महासागर में गिरा और बिखर गया

Publisher NEWSWING DatePublished Mon, 04/02/2018 - 15:32

NewDelhi: आखिरकार चीनी स्पेस स्टेशन द तियांगोंग-1 यानी हेवनली पैलेस धरती पर आ गिरा. यह दक्षिण प्रशांत महासागर क्षेत्र में धरती के वायुमंडल में पहुंचा और बिखर गया. यह रिपोर्ट चीन और अमेरिकी अंतरिक्ष विज्ञानियों ने दी है. बता दें कि खगोलविज्ञानी जोनाथन मैकडॉवल ने ट्वीट किया कि द तियांगोंग-1 ने ग्रीनविच मानक समय के अनुसार सुबह आठ बजकर 16 मिनट पर धरती के वायुमंडल में प्रवेश किया. खबरों के अनुसार चीन के हेवनली पैलेस कहे जानेवाले स्पेस स्टेशन द तियांगोंग-1 के साथ धरती का संपर्क टूट गया था. इस कारण स्पेस स्टेशन पर किसी प्रकार को कोई नियंत्रण नहीं था. वह स्वेच्छा से अंतरिक्ष में विचरण कर रहा था.

 इसे भी पढ़ें:पेट्रोल के दामों ने तोड़ा चार साल का रिकॉर्ड, डीजल अबतक के सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंचा

आबादी वाले क्षेत्र में गिरने का था डर

जानकार इस आशंका से डरे हुऐ थे अंतरिक्ष स्टेशन किसी आबादी वाले इलाके पर भी गिर सकता है. जानकारी के अनुसार, 10 मीटर के विंगस्पैन और आठ हजार किलो वजन वाला ‘द तियांगोंग-1’ 29 सितंबर 2011 में लांग मार्च 2 एफ रॉकेट के जरिए अंतरिक्ष में लॉन्च किया गया था.  इससे पहले चीन ने 2001 में अंतरिक्ष में रॉकेट भेजना शुरू किया किया था. उसके बाद परीक्षण के लिए जानवरों को भेजा गया. 2003  में चीनी वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष में डेरा डाला. इस क्रम में 2012 में चीन की पहली महिला यात्री लियू यांग ने अंतरिक्ष में उड़ान भरी. अपनी अंतरिक्ष परियेाजनाओं से चीन सोवियत संघ और अमेरीका के बाद तीसरे स़्थान पर आ गया. बता दें कि स्पेस स्टेशन पहले भी धरती पर  गिरते रहे हैं.  1979 में द तियांगोंग-1 से दस गुना 80 टन वजनी  स्काईलैब स्पेस स्टेशन अनियंत्रित हेाकर धरती पर गिरा था. उस समय ऑस्ट्रेलिया में इसके अवशेष मिले थे, लेकिन किसी को काई नुकसान नहीं हुआ था.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

loading...
Loading...