संघर्ष से शिखर तक पहुंचने वाले दो राजनीतिक धुरंधरों का बर्थडे : 74 के हुए शिबू सोरेन, बाबूलाल मरांडी की 60वीं सालगिरह

Submitted by NEWSWING on Thu, 01/11/2018 - 17:16

Pravin/Saurav, Ranchi : झारखंड की राजनीति के दो दिग्गजों का जन्म 11 जनवरी को हुआ था. जेएमएम सुप्रीमो शिबू सोरेन गुरुवार को 74 साल के हो गये, वहीं झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी 60 साल के हो गये. झामुमो और झाविमो के कार्यकर्ताओं ने अपने पार्टी सुप्रीमो का जन्मदिन धूमधाम से मनाया. शिबू सोरेन और बाबूलाल मरांडी झारखंड के मुख्यमंत्री भी रह चुके हैं और दोनों अपनी-अपनी पार्टी के प्रमुख भी हैं. शिबू सोरेन और बाबूलाल मरांडी का राजनीतिक सफर संघर्ष से भरा रहा है. नेमरा से आदिवासियों के हक की लड़ाई से अपनी राजनीति का सफर शुरू करते हुए शिबू सोरेन मुख्यमंत्री और केंद्रीय मंत्री बने. झारखंड में शिबू सोरेन गुरुजी और दिशोम गुरू के नाम से प्रसिद्ध हैं. वहीं बाबूलाल मरांडी का शिक्षक से राजनेता बनने का सफरनामा भी कम दिलचस्प नहीं है.

 

yery
shibu soren

महाजनी प्रथा के खिलाफ आंदोलन कर बने जन-जन के नेता

दिशोम गुरू, गुरू जी, बाबा इन्हीं नामों से "शिबू सोरेन" को उनके चाहने वाले पुकारते हैंझारखंडी जनता और राज्य की राजनीति लिए यह नाम कई मायने में अहम है. झारखंड की जनता जब शोषण, दमन और उत्पीड़न का शिकार हो रही थी. तब झारखंडी आवाम की आवाज बन कर उभरे नामों में से एक नाम शिबू सोरेन का है. शिबू सोरेन का जन्म 11 जनवरी 1944 को तत्कालीन बिहार के रामगढ़ जिला स्थित नेमरा गांव में हुआ था. इनकी प्रारंभिक शिक्षा गांव के स्कूल में हुई. शिबू सोरेन अपने गांव में महाजनों के द्वारा हो रहे शोषण को देख आक्रोशित हो उठे. महाजनी प्रथा को खत्म करने के लिए इन्होंने जोरदार आंदोलन चलाया और गरीब आदिवासियों के मसीहा बन गये.

रात्रि पाठशाला चलाकर बीहड़ में जलाई शिक्षा की अलख

शिबू सोरेन के आंदोलन की शुरूआत नेमरा से शुरू होकर टुंडी के पोखरिया आश्रम पहुंचा, जहां गुरूजी ने रात्रि पाठशाला को शुरू कर बीहड़ में शिक्षा का अलख जगाने का प्रयास किया. साथ ही महाजनी प्रथा और धनकटनी आंदोलन के माध्यम से मजदूर-किसानों को गोलबंद कीया. आंदोलन यहीं नहीं रूका और पूरे झारखंड के लोग इस कारवां से जुड़ते चले गए. 04 फरवरी 1972 को धनबाद के गोल्फ ग्राउंड में एके राय, बिनोद बिहारी महतो के साथ मिल कर झारखंड मुक्ती मोर्चा की बुनियाद रखा. यहीं से एक बार फिर अलग राज्य की मांग को बल मिला.

इसे भी पढ़ेंः रघुवर दास सीएस राजबाला वर्मा पर एहसान नहीं कर रहे, बल्कि एहसान का बदला चुका रहे हैं : विपक्ष

tktjk
shibu soren

2005 में पहली बार मुख्यमंत्री बने गुरुजी

शिबू सोरेन पहली बार दो मार्च 2005 में दस दिन के लिए मुख्यमंत्री के पद पर काबिज हुए. दूसरी बार 27 अगस्त 2008 से 18 जनवरी 2009 तक 144 दिन के लिए मुख्यमंत्री के रूप में झारखंड की बागडोर अपने हाथों में थामा, लेकिन ये सरकार भी लंबे समय तक नहीं चल सकी. तमाड़ उप-चुनाव में गोपाल कृष्ण पातर उर्फ "राजा पीटरसे नौ हजार से अधिक मतों से हार गए और झामुमो की सरकार गिर गयी.    

पहली बार लोकसभा चुनाव में मिली हार

पहली बार 1977 में हुए लोकसभा चुनाव में शिबू सोरेन ने भाग्य आजमाया लेकिन वो चुनाव हार गये. 1986 में पहली बार लोकसभा चुनाव में उन्हें जीत मिली. इसके बाद 1989,1991,1996,2004 और 2014 में सांसद चुने गये. मनमोहन सिंह की नेतृत्व वाली यूपीए सरकार में 2004 में उन्हें केंद्रीय कोयला मंत्री बनाया गया.

शिक्षक की नौकरी छोड़ राजनीति में आये बाबूलाल, बने राज्य के पहले मुख्यमंत्री

बाबूलाल मरांडी को उनकी 60वीं सालगिरह पर बधाई देने वालों का तांता सुबह से लगा रहा. झाविमो कार्यकर्ताओं ने पार्टी के केंद्रीय कार्यालय में पहुंचकर उनका जन्मदिन समर्पण दिवस के रूप में मनाया. शाम में बाबूलाल मरांडी ने संत मिखाइल ब्लाइंड स्कूल के बच्चों के साथ मिलकर केक काटा. इस मौके पर बाबूलाल मरांडी ने अपने 60 वर्षो के शिक्षक से मुख्यमंत्री तक के जीवन काल एवं राजनीतिक संघर्षो को कार्यकर्ताओं के साथ साझा किया. बाबूलाल संघ के पुराने कार्यकर्ता रह चुके हैं. आरएसएस से उन्होंने राजनीति में पदार्पण किया. राज्य का पहला मुख्यमंत्री बनने का गौरव भी इन्हें प्राप्त है. 2006 में भाजपा से अलग होने के बाद बाबूलाल ने झाविमो का गठन किया. दो बार लोकसभा सीट से सांसद भी रहे.

gtr
babulal marandi

संघ परिवार से जुड़ने के बाद बढ़ता गया राजनीतिक कद

बाबूलाल मरांडी का जन्म गिरिडीह जिले के तिसरी प्रखंड के कोदाईबांग गांव में 11 जनवरी 1958 को हुआ था. गांव से ही स्कूली शिक्षा प्राप्त की, इसके बाद गिरिडीह कॉलेज से इंटरमीडिएट किया और फिर स्नातक की पढ़ाई की. बाबूलाल मरांडी इस दौरान शिक्षक भी बने. एक बार शिक्षा विभाग में उन्हें कुछ काम पड़ गया, जब वह कार्यालय पहुंचे तो उनसे रिश्वत मांगी गयी. इस घटना से दुखी बाबूलाल ने इस्तीफा दे दिया और सक्रिय रूप से राजनीति में आ गये और वह संघ परिवार से जुड़े. यहीं से उनका राजनीतिक कद बढ़ता चला गया.

नक्सली हमले में गयी बेटे की जान, फिर भी नक्सलियों के खिलाफ डटे हैं बाबूलाल

जब बाबूलाल राज्य के मुख्यमंत्री बने तब उन्होंने राज्य की सबसे बड़ी समस्या नक्सलवाद को जड़ से उखाड़ने के लिए संजीदगी से प्रयास किया. इसके कारण वह नक्सलियों की हिट लिस्ट में आ गये. इसका परिणाम यह हुआ कि नक्सली हमले में उनका बेटा अनुप मरांडी मारा गया. 2007 में नक्सलियों ने अनुप मरांडी की हत्या कर दी. इसके बाद भी बाबूलाल मरांडी पीछे नहीं हटे. नक्सलियों के खिलाफ डटे रहे. वहीं दूसरी तरफ सत्ता का भी इन्हें मोह कभी नहीं रहा. भाजपा और संघ के चहेते हुए के बावजूद इन्होंने पार्टी से किनारा कर लिया और अपनी पार्टी बनायी, जिसे वह अपने नीति औऱ सिद्धांत के तहत चला रहे हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Main Top Slide
City List of Jharkhand
loading...
Loading...